tags

Best लॉकडाउन Shayari, Status, Quotes, Stories, Poem

Find the Best लॉकडाउन Shayari, Status, Quotes from top creators only on Nojoto App. Also find trending photos & videos.

  • 59 Followers
  • 68 Stories
  • Popular
  • Latest
  • Video

#लॉकडाउन #corona #chintuchauhan #lockdown

#nojoto #स्टोरी #कहानी

घर पर रहीं, बाहर ना जाई।

260 Love
30.0K Views
1 Share

""

"लॉकडाउन में झाड़ू , पोछा , बर्तन में वो इतना डूब गई ! कि हमसे इश्क था उसे वो ये बात भी भूल गई !!"

लॉकडाउन में झाड़ू , पोछा , बर्तन में 

वो इतना डूब गई !

कि हमसे इश्क था उसे

वो ये बात भी भूल गई !!

#लॉकडाउन

76 Love

""

"जब लॉकडाउन खत्म होगा तो हो सकता है कुछ लोग यह भी भूल जाए कि हम काम क्या करते थे 😅😅😅 खाली बैठा था सोचा आपको भी बता दूं 😅😅😅"

जब लॉकडाउन खत्म होगा तो 

हो सकता है कुछ लोग यह भी भूल जाए कि 

हम काम क्या करते थे 😅😅😅

खाली बैठा था सोचा आपको भी बता दूं  

😅😅😅

#लॉकडाउन

65 Love

""

"हमारी खैरियत पूछने के लिए, आज उनकी कॉल आई हैं। लगता हैं बोरियत ने उन्हें, पुराने खिलौने की याद दिलाई हैं। ✍️✍️माही"

हमारी खैरियत पूछने के लिए,
आज उनकी कॉल आई हैं।

लगता हैं बोरियत ने उन्हें,
 पुराने खिलौने की याद दिलाई हैं।

                      ✍️✍️माही

#City #लॉकडाउन #नोजोतोहिन्दी

61 Love

""

"“लॉकडाउन” आंगन की खिड़कियों में, नयन रहते एकतार । शीशे में जोहते शरीर के, अंग बार बार ।। केशव से प्रार्थना, नियत में बिनती ज्योतिवंत । क्षेम को पूजा, विलखते कर्म को साधु-सन्त ।। जीव इन दिनों बड़भागी, चिड़िया रहते मस्त । निमिष घूमे हाटि में, मनुष्य झटके पस्त ।। इकतार-एकटक, जोहते-देखते रहना, ज्योतिवंत- प्रकाशवान, क्षेम-सलामती, निमिष-पलभर, हाटि-बाजार में,"

“लॉकडाउन”

आंगन की खिड़कियों में, नयन रहते एकतार ।
शीशे में जोहते शरीर के, अंग बार बार  ।।

केशव से प्रार्थना, नियत में बिनती ज्योतिवंत ।
क्षेम को पूजा, विलखते कर्म को साधु-सन्त ।।

जीव इन दिनों बड़भागी, चिड़िया रहते मस्त ।
निमिष घूमे हाटि में, मनुष्य झटके पस्त ।।


इकतार-एकटक, जोहते-देखते रहना,
 ज्योतिवंत- प्रकाशवान, क्षेम-सलामती, 
निमिष-पलभर, हाटि-बाजार में,

#लॉकडाउन / #lockdown.






#Hindi #Nojoto #Poetry @अधूरा ishq @o.p tiwari @✍भारती कुमारी @Suchita negi सुलगते लफ़ज IG-:sulagte.lafj

34 Love
1 Share