Best चलो Stories

  • 383 Followers
  • 5927 Stories

Suggested Stories

Best चलो Stories, Status, Quotes, Shayari, Poem, Videos on Nojoto. Also Read about चलो Quotes, चलो Shayari, चलो Videos, चलो Poem and चलो WhatsApp Status in English, Hindi, Urdu, Marathi, Gujarati, Punjabi, Bangla, Odia and other languages on Nojoto.

  • Latest Stories
  • Popular Stories
बड़े नादान हो जो तुम मेरे दिल में आये हो 
अब आ गये हो तुम तो छोड़ा आराम कर लो

किधर जा रहे थे तुम जरा बताओ हमसे दूर 
इतनी भी जल्दी क्या है छोड़ा हैरान कर लो

चले जाना तुम हमसे बहुत दूर मगर कुछ पल 
अभी रूको हमको कुछ पल और परेशान कर लो

मेरे साथ चलो रास्ते में छोड़ दूंगा पक्की सड़क पर
बिछड़ने का वक्त आ गया अब फैसला कर लो

चलो अपनी अपनी दुनिया में हम आगे बढें 
आरिफ कुछ पल और रूको छोड़ा हौसला कर लो

बड़े नादान हो जो तुम मेरे दिल में आये हो
अब आ गये हो तुम तो छोड़ा आराम कर लो

किधर जा रहे थे तुम जरा बताओ हमसे दूर
इतनी भी जल्दी क्या है छोड़ा हैरान कर लो

चले जाना तुम हमसे बहुत दूर मगर कुछ पल
अभी रूको हमको कुछ पल और परेशान कर लो

मेरे साथ चलो रास्ते में छोड़ दूंगा पक्की सड़क पर
बिछड़ने का वक्त आ गया अब फैसला कर लो

चलो अपनी अपनी दुनिया में हम आगे बढें
आरिफ कुछ पल और रूको छोड़ा हौसला कर लो
#Nojoto
#nadan #Dil #Aram #Kidhar #Hairan #chalejana #preshan #meresath #faisala #Chalo #Apni #duniya #hausala #Arif

28 Love
0 Comment
मीडिया - देश - डेवलपमेंट - गरीबी आज काफ़ी मुद्दों पर सवाल है
क्या किसी भी पार्टी के पास इनके जवाब है?
(In caption)

#2019elections #government #India #currentsituation #issuestobeaddressed

आओ आज देश पर चर्चा करते है

आज मैं घर से बाहर निकला
तो पता चला बहुत धूप है

फिर उन बच्चों पर नज़र पड़ी
तो देखा देश में भूखमरी और बहुत भूख है

वहाँ सबको coat और jacket में देख कर - वो अर्ध नग्न बस यही सोच रहा था
ये न्यति का कैसा खेल है कि उसका शरीर ज़रा से कपड़े के लिये रो रहा था

रोटी कपड़ा मकान तो सबका हक़ था
फिर क्यों आधा दिल्ली सोया सड़क पर था

A B C D - क ख ग घ तो उसे भी पढ़ना था
मगर दो वक़्त की रोटी के लिए - कहीं रामू तो कहीं छोटू बनना पड़ा था

युवाओं की हालत तो बद से बत्तर है
म.ब.ए ग्रेजुएट पीअन (peon) की नौकरी करने के लिए भी तत्पर है

चलो ये हालात तो फिर भी सुधर जाएँगे
लेकिन ये वहशी - दरिन्दे अपनी हवस को लेकर कहां जाएँगे

पहले दामिनि फिर आसिफा और अब मधू की आबरू  पर आँच आई है
शायद अब लड़कियों को नहीं लड़कों को काबू करने की घड़ी आई है

देश के हालात तो इतने बिगड़ गए है
छोटी बच्ची तो क्या 45 साल की औरत के भी  रेप हो रहे है

वेलेन्टाइन पर बजरंग दल और यू पी में anti squad तो आया
मगर रेप के लिए कोइ लॉ एंड ऑर्डर ना ला पाया

रेप हो गया,  तेज़ाब फेंक दिया,  उठा लिया गया - जहाँ ये तो जैसे आम ख़बरें हो गयी है
वहाँ देश की गाय और भी ज़्यादा सुरक्षित महसूस कर रही है

अहमद को भीड़ ने कुचल दिया
गाय ले जा रहा था  - उसने इतना बड़ा गुनाह कैसे कर दिया

हिन्दु - मुसलमां मन्दिर  - मस्जिद इन चीज़ों ने इंसां को इतना घेर लिया
की देश की सत्ता ने भी डेवलपमेंट से मुँह मोड़ लिया

मन्दिर वहीं बनेगा - मस्जिद तो वहीं बना कर रहेंगे
कुछ इस तरह हम देश के मुद्दो से भटकते रहेंगे

किसान को तो अंन दाता कहा जाता है
फिर क्यों आज - कल वही पंखे से लटका नज़र आता है

वहाँ किसान ने जां दी क्यूँकि उसका अनाज ना बिका
और वहाँ कितनों की जां गयी क्यूँकि उन्हें अनाज ना मिला

अरे किसान तो हर साल मरते है
आओ चलो मिल कर शहरों के नाम बदलते है

ये हँसी - ठिठोली ताना - कसी का दौर है
अब वो इज़्ज़त कहां - राजनेताओं में सिर्फ़ बैर है

नॉन पॉलिटिकल इंटरव्यू भी ख़ास था
जिसमें देश का PM आम कैसे खाता है  और हाथी चीटी का परिहास था

आज देश ने कितनी तरक्कि कर ली है
विश्व की सबसे बड़ी प्रतिमा इस देश में खड़ी है

मैंने सुना है - देश का प्रधानमंत्री चौकीदार है
क्या असल में भी - चौकीदार की ज़िंदगी इतनी उदार है

ये सब एक ही थाली के चट्टे - बट्टे है
जिसको सत्ता ना मिले उसके लिए अंगूर खट्टे है

अब हालात कुछ फिसल से रहे है
वो समय नहीं जब - भगत और सुभाष देश के लिए खड़े है

मीडिया भी कितनी सतर्क हो गयी है
किस से कितना पैसा मिला न्यूज इस पर निर्भर हो गयी है

Nation wants to know कह कर वो भड़कता है
मगर एक पार्टी से बड़ी तहज़ीब से वार्तालाप करता है

मीडिया - देश - डेवलपमेंट - गरीबी आज काफ़ी मुद्दों पर सवाल है
क्या किसी भी पार्टी के पास इनके जवाब है?

(ये बहुत गम्भीर चर्चा थी| विचार जरूर करना)

-यश गर्ग ❣️

17 Love
0 Comment
2 Share
मुझे तुम्हारी आँखों से आंसू चुराने है,
जिनको सुन कर रोती हो तुम, 
वे क़िस्से पुराने है।।

अब फुर्सत कहां हमसे बात करने की,
ना बात करने के लाखों बहाने है।।
मुझे तुम्हारी आंखों से आंसू चुराने है।।

जहां चांद सितारों के साथ, कभी रात बिताते थे हम,
जहां हर पल तुमको हँसाते थे हम, 
अब वहां बहुत ऊंचे घराने है।।
जिनको सुनकर रोती हो तुम,
वे क़िस्से बहुत पुराने है।।

चलो अब लौट चलते है, किसी और दुनिया में,
तुमको अभी ख़ूब सारे क़िस्से सुनाने है।

चलो छोड़कर चलते है इस चार दिवारी को,
अपने रहने के सैकड़ो ठिकाने है।।
तुम्हारे दर्द पर हँसने कुछ लोग आने है,
और मुझको तुम्हारी आँखों से आंसू चुराने है।।

#Shastri
#poetriesforyouth
#Love #diary #Life
#nojoto
#nojotohindi

30 Love
0 Comment
चलो सिद्धार्थ से गौतम की ओर,
करके कुछ संकल्प चले।
बने हम ज्ञान वट वृक्ष,
करके ये संकल्प चले।
बने प्रदीप अपने पथ के,
और उजाला सबको बाटते चले।
चलो झाँके अंतर्मन में,
और आत्म शक्ति को बढ़ाते चले।
चलो तपस्या और त्याग का,
एक प्रतिमान गढ़ते चले।
निर्वाण ही हो हमारा लक्ष्य,
कर ऐसा मनोरथ चले।

बुद्ध🙏

2 Love
0 Comment
2 Share
मंजिलों पे डालों पर्दे ,सफ़र पे निकल चलो

टूटी फूटी पगडंडियों पे, गिरो पडो उठे चलो

क्या छूटा,क्या मिला , इसकी परवाह न करो

दुःख मिला या सुख मिला,इसकी चर्चा न करो

समय को व्यर्थ करके, जिंदगी जीते चलों

या जिंदगी को व्यर्थ करके, समय गिनते चलों

ग़लती माफी भूल सब , छोड़ दो अतीत पे

गेरबंदिशो में जीयो, सब लूटा दो प्रीत पे

आख़िर में मृत्यु ,एक प्रश्न बनकर आएगी

जिंदगी तुम्हें ,ज़बाब देकर चली जाएंगी 

                                       ---------अनुराग सक्सेना







मंजिलों पे ---

5 Love
0 Comment