tags

Best भजन Shayari, Status, Quotes, Stories

Find the Best भजन Shayari, Status, Quotes from top creators only on Nojoto App. Also find trending photos & videos.

  • 43 Followers
  • 85 Stories
  • Latest
  • Popular
  • Video

"#NojotoVideoUpload"

#NojotoVideoUpload

#भजन

28 Love
815 Views

""

"डिमिक डिमिक डमरु बजाबे पार्वती पति ओढर दानी शिव शंकर भोला नव नीरद शुचि श्यामल सुन्दर करते हैं शुभ काम शुभंकर मन से नित दिन शाम सबेरे बम-बम जो बोला जन मन रंजन नाथ निरंजन दीनबन्घु शिव हैं दुख भंजन पान किये जन हितकारे वो विष का भी प्याला रूप 'ललित' अति मन को भाता देव मुनि इनके गुण गाता हरदम रहते हैं मस्ती में खाके भंग गोला अंग विभूति धुनी रमाये शैल-सुता-शिव संग सुहाये बाघम्बर तन शोभित उनके कांधे भंग झोला मुण्डमाल मस्तक पर चंदा कर त्रिशूल गंगा की धारा नीलकंठ के कंठ बिराजे नागराज काला -ललित रंग ©Lalit Mishra"

डिमिक डिमिक डमरु बजाबे
पार्वती पति ओढर दानी शिव शंकर भोला

नव नीरद शुचि श्यामल सुन्दर
करते हैं शुभ काम शुभंकर
मन से नित दिन शाम सबेरे बम-बम जो बोला

जन मन रंजन नाथ निरंजन
दीनबन्घु शिव हैं दुख भंजन
पान किये जन हितकारे वो विष का भी प्याला

रूप 'ललित' अति मन को भाता
देव मुनि इनके गुण गाता
हरदम रहते हैं मस्ती में खाके भंग गोला

अंग विभूति धुनी रमाये
शैल-सुता-शिव संग सुहाये
बाघम्बर तन शोभित उनके कांधे भंग झोला

मुण्डमाल मस्तक पर चंदा
कर त्रिशूल गंगा की धारा
नीलकंठ के कंठ बिराजे नागराज काला 
                                             -ललित रंग

©Lalit Mishra

#शिव #भजन

4 Love

#भजन

6 Love

""

"मुझे तुम याद आते हो कृष्ण भजन ( तर्ज: जहाँ में हर कहीं हरसू ) जगत में मैं कहीं जाऊं ,मेरे कान्हा मेरे मोहन। मुझे तुम याद आते हो मुझे तुम याद आते हो।। कोई बालक जो माता से, नटखट बात करता है। उसी बालक को देखूं तो, मेरे कान्हा मेरे मोहन, मुझे तुम याद आते हो, मुझे तुम याद आते हो।। जगत,,,,, कोई मुरली की धुन लेकर, कहीं जब गीत गाता है। उसी मुरली की धुन सुनकर, मेरे कान्हा मेरे मोहन, मुझे तुम याद आते हो, मुझे तुम याद आते हो ।। जगत,,,, कोई ग्वाला किसी वन में, जो अपनी गौ चराता है। उसी ग्वाले को देखूं तो , मेरे कान्हा मेरे मोहन, मुझे तुम याद आते हो, मुझे तुम याद आते हो।। जगत,,,, भगत 'पंकज' को बस तेरे, चरण पंकज की आशा है। बनाकर दास रख लेना, मेरे कान्हा मेरे मोहन , मुझे तुम याद आते हो,मुझे तुम याद आते हो।। जगत में मैं कहीं जाऊं,मेरे कान्हा मेरे मोहन, मुझे तुम याद आते हो ,मुझे तुम याद आते हो ।। 🙏🙏 ©Pankaj Dubey "

मुझे तुम याद आते हो कृष्ण भजन
( तर्ज: जहाँ में हर कहीं हरसू )

 जगत में मैं कहीं जाऊं ,मेरे कान्हा मेरे मोहन।
 मुझे तुम याद आते हो मुझे तुम याद आते हो।।
  कोई बालक जो माता से, नटखट बात करता है।
 उसी बालक को देखूं तो,
 मेरे कान्हा मेरे मोहन,
 मुझे तुम याद आते हो,  मुझे तुम याद आते हो।। जगत,,,,,
 कोई मुरली की धुन लेकर,
कहीं जब गीत गाता है।
 उसी मुरली की धुन सुनकर,
मेरे कान्हा मेरे मोहन, 
मुझे तुम याद आते हो, मुझे तुम याद आते हो ।। जगत,,,,
कोई ग्वाला किसी वन में,
 जो अपनी गौ चराता है।
उसी ग्वाले को
 देखूं तो ,
मेरे कान्हा मेरे मोहन,
 मुझे तुम याद आते हो, मुझे तुम याद आते हो।। जगत,,,,
भगत 'पंकज' को बस तेरे, चरण पंकज की आशा है।
बनाकर दास रख लेना,
मेरे कान्हा मेरे मोहन ,
मुझे तुम याद आते हो,मुझे तुम याद आते हो।।
 जगत में मैं कहीं जाऊं,मेरे कान्हा मेरे मोहन, मुझे तुम याद आते हो ,मुझे तुम याद आते हो ।।
🙏🙏

©Pankaj Dubey

बहुत ही सुंदर #कृष्ण #भजन
#krishna_flute #bhajan

#feellove

3 Love
1 Share

""

"मुझे तुम याद आते हो कृष्ण भजन ( तर्ज: जहाँ में हर कहीं हरसू ) जगत में मैं कहीं जाऊं ,मेरे कान्हा मेरे मोहन। मुझे तुम याद आते हो मुझे तुम याद आते हो।। कोई बालक जो माता से, नटखट बात करता है। उसी बालक को देखूं तो, मेरे कान्हा मेरे मोहन, मुझे तुम याद आते हो, मुझे तुम याद आते हो।। जगत,,,,, कोई मुरली की धुन लेकर, कहीं जब गीत गाता है। उसी मुरली की धुन सुनकर, मेरे कान्हा मेरे मोहन, मुझे तुम याद आते हो, मुझे तुम याद आते हो ।। जगत,,,, कोई ग्वाला किसी वन में, जो अपनी गौ चराता है। उसी ग्वाले को देखूं तो , मेरे कान्हा मेरे मोहन, मुझे तुम याद आते हो, मुझे तुम याद आते हो।। जगत,,,, भगत 'पंकज' को बस तेरे, चरण पंकज की आशा है। बनाकर दास रख लेना, मेरे कान्हा मेरे मोहन , मुझे तुम याद आते हो,मुझे तुम याद आते हो।। जगत में मैं कहीं जाऊं,मेरे कान्हा मेरे मोहन, मुझे तुम याद आते हो ,मुझे तुम याद आते हो ।। 🙏🙏 ©Pankaj Dubey"

मुझे तुम याद आते हो कृष्ण भजन
( तर्ज: जहाँ में हर कहीं हरसू )

 जगत में मैं कहीं जाऊं ,मेरे कान्हा मेरे मोहन।
 मुझे तुम याद आते हो मुझे तुम याद आते हो।।
  कोई बालक जो माता से, नटखट बात करता है।
 उसी बालक को देखूं तो,
 मेरे कान्हा मेरे मोहन,
 मुझे तुम याद आते हो,  मुझे तुम याद आते हो।। जगत,,,,,
 कोई मुरली की धुन लेकर,
कहीं जब गीत गाता है।
 उसी मुरली की धुन सुनकर,
मेरे कान्हा मेरे मोहन, 
मुझे तुम याद आते हो, मुझे तुम याद आते हो ।। जगत,,,,
कोई ग्वाला किसी वन में,
 जो अपनी गौ चराता है।
उसी ग्वाले को
 देखूं तो ,
मेरे कान्हा मेरे मोहन,
 मुझे तुम याद आते हो, मुझे तुम याद आते हो।। जगत,,,,
भगत 'पंकज' को बस तेरे, चरण पंकज की आशा है।
बनाकर दास रख लेना,
मेरे कान्हा मेरे मोहन ,
मुझे तुम याद आते हो,मुझे तुम याद आते हो।।
 जगत में मैं कहीं जाऊं,मेरे कान्हा मेरे मोहन, मुझे तुम याद आते हो ,मुझे तुम याद आते हो ।।
🙏🙏

©Pankaj Dubey

बहुत ही सुंदर #कृष्ण #भजन
#krishna_flute #bhajan

#feellove

8 Love
2 Share