Best Mrbolbachan Stories

  • 1 Followers
  • 186 Stories

Suggested Stories

Best Mrbolbachan Stories, Status, Quotes, Shayari, Poem, Videos on Nojoto. Also Read about Mrbolbachan Quotes, Mrbolbachan Shayari, Mrbolbachan Videos, Mrbolbachan Poem and Mrbolbachan WhatsApp Status in English, Hindi, Urdu, Marathi, Gujarati, Punjabi, Bangla, Odia and other languages on Nojoto.

  • Latest Stories
  • Popular Stories
Dear Dad हाँ  वो  माँ  की   तरह  हरदम   लाड  नहीं लड़ाता 
हाँ  वो   चाचा  की की  तरह  झूला  नहीं   झुलाता 
लेकिन    रोता   वो    भी   है   जब    तू   रोता   है 
बस  उसे  तेरे   आगे   आँसू   बहाना   नहीं  आता

#Nojoto #nojotopoetry #hindipoetry #hindishayari #Mrbolbachan

29 Love
2 Comment
1 Share
होंठ खंजर थे उसके, जिसने हमारे होंठों को घायल कर दिया
पाँव चूम हमने उसके, लहु की बूँद को उनकी पायल कर दिया

अब बताओ इससे बढ़कर उनके लिए क्या करें।
#Nojoto
#nojotohindi #hindipoetry #Shayari #Mrbolbachan

21 Love
0 Comment
मजबूत दरख्तों को उखाड़ने के बाद
गुमान से भरी आँधी
कई पंछियों के घोंसले उजाड़ गयी
अब बारी थी घरों की
बड़ी आस से सूखे खेतों में खड़ा किसान
विनती करता कि आँधी 
ना जाने कब से बारिश
नहीं हुई तुम ही तरस
खाओ 
बस दो बूँदे ही उधार दे दे पानी की
पीछे से पोता दौड़ता हुआ बताता है
आँधी से घर टूट गया
है ये सुनते ही आँधी ने किसान की
दुआ कबूल ली
और उसकी आँखों से दो
बूँद सूखी जमीं पर गिरा दिए

बताओ कैसी थी आँधी। काश आँधी हमारे दुख दर्द भी उड़ा कर ले जाती।
#Nojoto
#nojotohindi #hindipoetry #Hindi #story #farmers #Mrbolbachan

24 Love
2 Comment
Please Read Caption for full Story

पतीला:- क्या लगता है नई दुल्हन संभाल पाएगी। उसके हाथों को तो देख कितने मुलायम है ऐसे लगता है कभी कोई काम किया ही ना हो।
कुकर: हाँ सही कह रहे हो भईया। अभी मेरे पास छिपकली आ बैठी थी डर के ऐसे भागी की पूछो मत।
पतीला: ( हँसते हुए) तुम्हे डर नहीं लगा।
कुकर: (पसीना पोंछते हुए) डर तो लगा था भाई। इसी कारण मेरी सीटी बज गयी। और दो बार दुलहिन दौड़ कर भागी आई कहीं दाल पक तो नहीं गयी।
(ये कह कर दोनों हँसने लगे)

पसीने से तरबतर नई बहू जिसने मायके में सीखा नहीं था खाना बनाना
खाली बर्तन को गर्म कर
जब ऊपर से दूध डाला तो सारा दूध जल के
बर्तन में चिपक गया, सभी इंतज़ार करते रह गए चाय का,
कच्ची रोटी बिल्कुल भारतीय सड़कों जैसी देखने में भी अच्छी ना लगी
आधी पकी दाल जैसे हिन्द महासागर
दाल मछलियों के जैसे तैरती हुई
ऊपर से इतना बड़ा घुँघट
किसको संभाले पहले समझ से परे था
तड़का लगाते समय जब जीरा डाला तो तेल छिटक
कर मेहंदी भरे हाथ और लाल कर गया।
देखो, वो नमक का डिब्बा उतारना
हाँ वही नमक जो तुम्हारे पिताजी मेरे जख्मों पर छिड़क देते हैं
हनिमून कैंसिल हुआ, बम्बई का
गुस्सा निकल ही गया
पत्नी ने झल्लाते हुए अपना घूँघट ओढ़ लिया
क्योंकि ससुर जी आ गए खाँसते खखारते

टेबल पर लगे भोजन की हालत देख
ससुर जी को भारतीय गरीबी की याद आ गयी
जब निवाला मुँह में डाला।
कुछ पल के लिए शाँत
ही रहे और गहरी चुप्पी साध ली। बहू
घुँघट के अंदर से किचन के दरवाजे पर खड़ी
देख रही थी जैसे कोई एग्जाम दिया है और मास्टर नतीजा बताने वाला है
बहु ने धीरज का बाँध तोड़ पूरा पहली रसोई
कैसी रही पिताजी। पिताजी ने मुस्कुराते हुए बेटे से
कहा दुलहिन को एक दो हफ्ते
खातिर बाहर घुमा लाओ।
लेकिन खाना कैसा बना जवाब ढूँढ पाया कोई।
#Nojoto
#nojotohindi #hindipoetry #hindishayari #Shayari #Mrbolbachan

40 Love
3 Comment
आज  एक   और   बच्चा   नशे   में   चूर   हुआ 
बोतल   बेचने   वालो  के  लिए  कोहिनूर  हुआ 

जिन्होंने  कामयाबी   के   लिए  घर  बार  छोड़े
कामयाबी   उनके    लिए   खट्टा   अंगूर   हुआ 

दिन  भर  की  थकान  तोड़  देती  है बदन मेरा 
कोने में रखा मरहम का डिब्बा मुझसे दूर हुआ 

बदनामियों ने चूमे है आज उसके पाँव इस तरह
वो परिंदा आज हर पुलिस  थाने में मशहूर हुआ 

हजारों  कत्ल करने वाला  तो कब का दोषी था 
अदालत   बिक  गयी  वो  आज   बेक़सूर  हुआ 

मेरे  बिना  घर  के  आज  कोई काम नहीं करते 
नीरज जैसे आरती थाली का जलता कपूर हुआ

#nojoto #nojotohindi #hindipoetry #hindishayari #ghazal #Mrbolbachan

36 Love
2 Comment
1 Share