tags

Best औरत Shayari, Status, Quotes, Stories, Poem

Find the Best औरत Shayari, Status, Quotes from top creators only on Nojoto App. Also find trending photos & videos.

  • 304 Followers
  • 1624 Stories
  • Popular Stories
  • Latest Stories

"बंद कर दो मुझे कमरो में जकड़ लो बेड़ियों मै मुझे कतर दो पंख जो उड़ने का हौसला दे औरत हूं यह बता दो मुझे ख़ामोश कर दो मेरी आवाज़ को छीन लो मेरे खब को बनलो अपनी परछाई मुझे औरत हूं मै यह बात बता दो मुझे जो करू कोशिश बंदिशों को मिटाने की हस्ती मिटा दो मेरी लिख दो खामोशी किस्मत मै मेरे बनालो अपना गुलाम खिदमत मै तेरे हक जो मंगु अपना चुप करा दो मुझे औरत हूं मै यह बात बता दो मुझे"

बंद कर दो मुझे कमरो में
जकड़ लो बेड़ियों मै मुझे
कतर दो पंख जो उड़ने का हौसला दे
औरत हूं यह  बता दो मुझे

ख़ामोश कर दो मेरी आवाज़ को
छीन लो मेरे खब को
बनलो अपनी परछाई मुझे
औरत हूं मै यह बात बता दो मुझे

जो करू कोशिश बंदिशों को मिटाने की
हस्ती मिटा दो मेरी
लिख दो खामोशी किस्मत मै मेरे
बनालो अपना गुलाम खिदमत मै तेरे
हक जो मंगु अपना चुप करा दो मुझे 
औरत हूं मै यह बात बता दो मुझे

#औरत

12 Love
1 Share

"काबू में रखने को बंदिशें लगाई हैं सारी पहरेदारी सिर्फ औरतों पर लगाई है दहेज सती तीन तलाक सब औरतों को सहना है औरतों को बस पाबन्दी में रहना है आजादी छीन कर बेड़ियां पहनाई हैं फिर भी कुछ भेड़ियों को लाज नहीं आयी है औरत बन कर सदियों से सज़ा पाई है ग़म सहने के लिए क्यों दुनिया में आयी है"

काबू में रखने को बंदिशें लगाई हैं
सारी पहरेदारी सिर्फ औरतों पर लगाई है
दहेज सती तीन तलाक सब औरतों को सहना है
औरतों को बस पाबन्दी में रहना है
आजादी छीन कर बेड़ियां पहनाई हैं
फिर भी कुछ भेड़ियों को लाज नहीं आयी है
औरत बन कर सदियों से सज़ा पाई है
ग़म सहने के लिए क्यों दुनिया में आयी है

#nojotohindi#औरत#समाज#बंदिश

23 Love

"#RIPPriyankaReddy आज़ाद" कौन नही होना चाहता है ये बात पिजड़े में रहने वाला ही जनता है वो तड़प वो फड़फड़ाहट वो घुटन एक ही बात गूंजती है,अब न होगा ये सहन अपनो के लिए है, या अपनो का है ये कारण इसका कोई उपाय निकालो या कोई निवारण पिजड़े में रहता है, तोता या औरतो का दु उदाहरण कब तक होगा इस द्रोपती का ऐसे ही चिर हरन बोलूंगी तो ये बात बुरी लग जाएगी बात अगर औरत की है तो जरूर दब ही जाएगी न बदला था इतिहास न कभी बदल पाएगी बदलेगा तो सिर्फ नाम आज प्रियंका तो कल कोई और हो जाएगी"

#RIPPriyankaReddy आज़ाद" कौन नही होना चाहता है 

ये बात पिजड़े में रहने वाला ही जनता है
 वो तड़प वो फड़फड़ाहट वो घुटन 

एक ही बात गूंजती है,अब न होगा ये सहन
अपनो के लिए है, या अपनो का है ये कारण

इसका कोई उपाय निकालो या कोई निवारण
पिजड़े में रहता है, तोता या औरतो का दु उदाहरण

कब तक होगा इस द्रोपती का ऐसे ही चिर हरन
बोलूंगी तो ये बात बुरी लग जाएगी 

बात अगर औरत की है तो जरूर दब ही जाएगी
न बदला था इतिहास न कभी बदल पाएगी
बदलेगा तो सिर्फ नाम 
आज प्रियंका तो कल कोई और हो जाएगी

🙏🙏😐😶😞😡🙏🙏
#RIPPriyankaReddy
#सोच #बदलाव #औरत
#safewomen #socity

61 Love
1 Share

"औरत के हैं रंग हज़ार कभी मीरा के पद , कभी लक्ष्मीबाई की दहाड़ ।। कभी सृजनकर्त्री , कभी दुर्गा की तलवार औरत के हैं रंग हजार । नन्हे पाँव से आती बिटिया डोली में चली जाती है । समग्र लुटाये सपने अपने निसदिन खुश रह लेती है ।। माँ बनती है पिता के अपने जब भी वो "घर" आती है पी के घर में लक्ष्मी जैसी उर्वर वो हो जाती है ।। नई दिशायें दिखाती जननी झट से बच्ची बन जाती है । सर झुकाके..,हँसी में अपने सारे गम पी जाती है औरत के है रंग हजार कई रिश्ते वो निभाती है एक साथ पत्नी व माता वो कहलाती है ।। उससे पूछो उसकी हालत तो बच्चों की हँसी गिनाती है भूख उसे लगी हो पहले , घर को पोषण करवाती है भूखी अन्नपूर्णा , थक के यूँहीं सो जाती है ।। एक औरत के हैं रंग हजार कभी कुलटा कभी देवी सी पूजी जाती है ।"

औरत के हैं रंग हज़ार
कभी मीरा के पद , कभी लक्ष्मीबाई की दहाड़ ।।
कभी सृजनकर्त्री , कभी दुर्गा की तलवार
औरत के हैं रंग हजार ।

नन्हे पाँव से आती बिटिया
डोली में चली जाती है ।
समग्र लुटाये सपने अपने
निसदिन खुश रह लेती है ।।

माँ बनती है पिता के अपने
जब भी वो "घर" आती है 
पी के घर में लक्ष्मी जैसी
उर्वर वो हो जाती है ।।

नई दिशायें दिखाती जननी
झट से बच्ची बन जाती है ।
सर झुकाके..,हँसी में अपने
सारे गम पी जाती है
औरत के है रंग हजार
कई रिश्ते वो निभाती है
एक साथ पत्नी व माता वो कहलाती है ।।

उससे पूछो उसकी हालत तो बच्चों की हँसी गिनाती है 
भूख उसे लगी हो पहले , घर को पोषण करवाती है
भूखी अन्नपूर्णा , थक के यूँहीं सो जाती है ।।
एक औरत के हैं रंग हजार
कभी कुलटा कभी देवी सी पूजी जाती है ।

. #औरत
एक औरत के हैं रंग हज़ार
कभी मीरा के पद , कभी लक्ष्मीबाई की दहाड़ ।।
कभी सृजनकर्त्री , कभी दुर्गा की तलवार
औरत के हैं रंग हजार ।

नन्हे पाँव से आती बिटिया
डोली में चली जाती है ।

87 Love

"प्रेरणा क्या है मेरे जीवन की प्रेरणा बेटी कहीं स्कूल में लेट ना हो जाए कहीं उसका टिफीन ना रह जाए सुबह उठ कर यहीं प्रेरणा बन जाती है कोई भी घर से भूखा ना जाए कोशिश हजार करती हूँ मै सबको खुश रखनें के लिए हार तो बस तब जाती हूँ जब कोई मुझें समझना ना चाहें ।"

प्रेरणा क्या है मेरे जीवन की प्रेरणा

बेटी कहीं स्कूल में लेट ना हो जाए
कहीं उसका टिफीन ना रह जाए
सुबह उठ कर यहीं प्रेरणा बन जाती है
कोई भी घर से भूखा ना जाए
कोशिश हजार करती हूँ 
मै सबको खुश रखनें के लिए
हार तो बस तब जाती हूँ
जब कोई मुझें समझना ना चाहें ।

#प्रेरणा #मै #औरत #स्वाभिमान क्या लगता है किसी को ये सहीं काॅमेंट करे।

11 Love