tags

Best children Shayari, Status, Quotes, Stories

Find the Best children Shayari, Status, Quotes from top creators only on Nojoto App. Also find trending photos & videos about children poem, jokes for children, funny jokes for children.

  • 331 Followers
  • 747 Stories
  • Latest
  • Popular
  • Video

""

"لے کے بچوں کا بوجھ سر اپنے ماں بہت خوش دکھائ دیتی ہے Lay Kay Bachu Ka Boj Sir Apny Maa Bohot Khush Dikhayi Dati Ha ©Ikram Khan"

لے کے بچوں کا بوجھ سر اپنے 
ماں بہت خوش دکھائ دیتی ہے 

Lay Kay Bachu Ka Boj Sir Apny
Maa Bohot Khush Dikhayi Dati Ha

©Ikram Khan

#nojotonews

#Mother #day #Love #children #Emotions #Long #Live #Mom

#MothersDay2021

8 Love

"#NojotoVideoUpload"

#NojotoVideoUpload

#Schools #corona #Bhavishya #children #Life

school, बच्चे , भविष्य

10 Love
30 Views

"#NojotoVideoUpload"

#NojotoVideoUpload

स्कूल, online classes और भविष्य

#children #Schoolsclosed #Future
#onlineclasses #mentalHealth #Foundation #Schools

7 Love

"#NojotoVideoUpload"

#NojotoVideoUpload

बच्चों की परवरिश कैसे करें
#बच्चे
#परवरिश
#children's

31 Love
4.0K Views

""

"तुम्हें तो पता ही हैं की आख़िर मैं क्या करना चाहता हूँ पर मुझे तरस आता है उस बच्चे पे जिसके पैर मैंने बहुत पहले ही तोड़ डालें पर उसके सपने नहीं तोड़ पाया वो आज भी लंगड़ा कर ही सही पर दोपहर के कबूतर की ओर भागने की कोशिश करता हैं अब ये मत पूछना मैंने उसके पैर क्यों तोड़े? मैं शायद रो पडू वो बच्चा मुझसे नाराज़ नहीं और ये ही बात मुझे मेरी हैवानियत याद दिलाती हैं वो तो उड़ना चाहता था दूर कहीं फ़लक से परे शायद वो उड़ता भी उससे भी परे अपने सपनों के साथ फ़िलहाल मैंने उसको एक अंधेरे कोने में स्मृतियों के तले क़ैद किया हैं डर लगता है कही किसी दिन उसकी टांगें ठीक हो गयी तो न जाने मेरा क्या होगा? तुम बताओ तुम्हारे अंदर का बच्चा कैसा हैं ? मुझे नही लगता वो ऐसा होगा उज्ज्वल~ ©Ujjwal Sharma"

तुम्हें तो पता ही हैं
की आख़िर मैं क्या करना चाहता हूँ
पर मुझे तरस आता है 
उस बच्चे पे
जिसके पैर मैंने बहुत पहले ही तोड़ डालें
पर उसके सपने नहीं तोड़ पाया
वो आज भी लंगड़ा कर ही सही
पर दोपहर के कबूतर की ओर
भागने की कोशिश करता हैं
अब ये मत पूछना मैंने
उसके पैर क्यों तोड़े?
मैं शायद रो पडू
वो बच्चा मुझसे नाराज़ नहीं
और ये ही बात मुझे मेरी हैवानियत याद दिलाती हैं
वो तो उड़ना चाहता था
दूर कहीं 
फ़लक से परे
शायद वो उड़ता भी उससे भी परे
अपने सपनों के साथ
फ़िलहाल मैंने उसको एक अंधेरे कोने में
स्मृतियों के तले क़ैद किया हैं
डर लगता है
कही किसी दिन उसकी टांगें
ठीक हो गयी तो न जाने 
मेरा क्या होगा?

तुम बताओ तुम्हारे अंदर का 
बच्चा कैसा हैं ?
मुझे नही लगता वो ऐसा होगा



उज्ज्वल~

©Ujjwal Sharma

तुम्हें तो पता ही हैं
की आख़िर मैं क्या करना चाहता हूँ
पर मुझे तरस आता है
उस बच्चे पे
जिसके पैर मैंने बहुत पहले ही तोड़ डालें
पर उसके सपने नहीं तोड़ पाया
वो आज भी लंगड़ा कर ही सही
पर दोपहर के कबूतर की ओर

9 Love
1 Share