tags

Best गोदान Shayari, Status, Quotes, Stories, Poem

Find the Best गोदान Shayari, Status, Quotes from top creators only on Nojoto App. Also find trending photos & videos.

  • 3 Followers
  • 3 Stories
  • Latest
  • Video

""

"हर एक गृहस्थ की भाँति होरी के मन में भी गऊ की लालसा चिरकाल से संचित चली आती थी। यही उसके जीवन का सबसे बड़ा स्वप्न, सबसे बड़ी साध थी। बैंक सूद से चैन करने या जमीन खरीदने या महल बनवाने की विशाल आकांक्षाएँ उसके नन्हे से हृदय में कैसे समातीं! #गोदान"

हर एक गृहस्थ की भाँति 
होरी के मन में भी 
गऊ की लालसा 
चिरकाल से संचित चली आती थी। 
यही उसके जीवन का सबसे बड़ा स्वप्न, 
सबसे बड़ी साध थी। 
बैंक सूद से चैन करने 
या जमीन खरीदने 
या महल बनवाने की 
विशाल आकांक्षाएँ 
उसके नन्हे से हृदय में कैसे समातीं!

#गोदान

#गोदान#प्रेमचन्द

8 Love

"गोदान"

गोदान

#munshipremchand #गोदान #Nojoto #nojotonews #nojotohindi @ROHIN HODKASIA @Pankaj Singh @Namita Sharma @sunny @HK @Spykee Brar @Priya dubey @Priya Gour @Ruchika @Garima Grover @kanchan Yadav Prerana upadhyay

240 Love
7.8K Views

""

"The story is 300 के लगभग कहानियां और 14 बड़े उपन्यास गोदान, गबन, बाजार-ए-हुस्न, सेवा सदन, कर्मभूमि, कायाकल्प, मनोरमा, निर्मला, प्रतिज्ञा, रंगभूमि, कर्बला, पूस की रात आदि रचनाओं के रचनाकार मुंशी प्रेमचंद के जन्मदिन पर उन्हें नमन..... हिंदी का विराट आसमान था चहक उठा, भर गए ऐसी हैं उड़ान मुंशी प्रेमचंद। हिंदी की समृद्धि हेतु अपना अमूल्य वक्त, करके चले गए हैं दान मुंशी प्रेमचंद। जीवित किया था उपन्यास की परंपरा को, लिख गये गबन, गोदान मुंशी प्रेमचंद। योगदान जो दिया था उसके लिए कहें तो, हिंदी के लिए थे वरदान मुंशी प्रेमचंद।।"

The story is  300 के लगभग कहानियां और 14 बड़े उपन्यास गोदान, गबन, बाजार-ए-हुस्न, सेवा सदन, कर्मभूमि, कायाकल्प, मनोरमा, निर्मला, प्रतिज्ञा, रंगभूमि, कर्बला, पूस की रात आदि रचनाओं के रचनाकार मुंशी प्रेमचंद के जन्मदिन पर उन्हें नमन.....

हिंदी का विराट आसमान था चहक उठा,
भर गए ऐसी हैं उड़ान मुंशी प्रेमचंद।
हिंदी की समृद्धि हेतु अपना अमूल्य वक्त,
करके चले गए हैं दान मुंशी प्रेमचंद।
जीवित किया था उपन्यास की परंपरा को,
लिख गये गबन, गोदान मुंशी प्रेमचंद।
योगदान जो दिया था उसके लिए कहें तो,
हिंदी के लिए थे वरदान मुंशी प्रेमचंद।।

 

5 Love