अपनापन छलके जिनकी बातों में,
सिर्फ कुछ लोग ही होते
  • Latest
  • Video

""

"कुछ लोग कहते है आने वाले कल की सोचकर अपना आज मत खराब होने दो कुछ लोग कहते है आने वाले कल की सोचो तभी जिंदगी में कुछ हासिल कर पाओगे कुछ लोग कहते है बीते हुए कल को याद करने में कष्ट होता है उसे भूलना बेहतर है कुछ लोग कहते है बीते हुए कल की तकलीफों को याद करो तभी आगे कुछ अच्छा करने की प्रेरणा मलेगी अब भला बताइए क्या करे इंसान और किस बात पर अमल करें"

कुछ लोग कहते है आने वाले कल की सोचकर अपना आज मत खराब होने दो
कुछ लोग कहते है आने वाले कल की सोचो तभी जिंदगी में कुछ हासिल कर पाओगे
कुछ लोग कहते है बीते हुए कल को याद करने में कष्ट होता है उसे भूलना बेहतर है
कुछ लोग कहते है बीते हुए कल की तकलीफों को याद करो तभी आगे कुछ अच्छा करने की प्रेरणा मलेगी






अब भला बताइए क्या करे इंसान और किस बात पर अमल करें

#कुछ तो लोग कहेंगे लोगो का काम है कहना 🙏🙏🙏🙏 हम कल भी नहीं सुनते थे किसी की ना आज किसी की बातों में है रहना 😄😄😄🤭🤭🤭🤭🤘🤘🤘🤘🤘

70 Love
1 Share

""

"ऊर्जा का पहला अध्याय जो हम तक पहुंचता है पल भर में कर देता है हमारे जीवन को रोशन खुशियों के समंदर में मानो तो सब कुछ ना मानो तो कुछ भी नहीं , ,"

ऊर्जा का पहला अध्याय 
जो हम तक पहुंचता है पल भर में
 कर देता है हमारे जीवन को रोशन
 खुशियों के समंदर में 
मानो तो सब कुछ 
ना मानो तो कुछ भी नहीं
,
,

#कण-कण में गति हर पल

71 Love

""

"Yeh kesi duniya hai Bahut aalag hai kya mujhe yaha fareeb aur jhutti baato se chutkara milega Yeh kaisi chamak hai Kya rakho main uss duniya mein kadam.... written by puja"

Yeh kesi duniya 
hai
Bahut aalag hai
kya mujhe yaha
fareeb aur jhutti baato
se chutkara milega
Yeh kaisi chamak hai
Kya rakho main uss 
duniya mein kadam....
written by puja

#alagduniya
#mywritings
#myimagination
#nojoto

42 Love

""

"अपनापन छलके जिनकी बातों में वह लोग नहीं हमसफर हैं राहों में कर देते है आपकी सारी परेशानियों को हल चाहे निकल जाऐ उनका ये पल"

अपनापन छलके जिनकी बातों में
 वह लोग नहीं हमसफर हैं राहों में 
कर देते है 
आपकी सारी परेशानियों को हल 
चाहे निकल जाऐ उनका ये पल

#अपनापन# अमित##########

44 Love

""

"ਕਦੇ ਕਦਰ ਸੀ ਸਾਡੀ, ਤੇ ਇਕ ਖਾਸ ਹੁੰਦੇ ਸੀ ਵਿਚੋਂ ਲਖਾਂ ਦੇ। ਅੱਜ ਵੀ ਉਹੀ ਆ ਮੈਂ, ਪਰ ਦਸ ਕੀ ਗਲਤੀ ਹੋਈ ਸਾਡੇ ਤੋਂ ਜੋ ਕਰ ਗਈ ਬਰਾਬਰ ਕੱਖਾਂ ਦੇ।। ✍️ਮੋਨੂੰ ਮਾਨ"

ਕਦੇ ਕਦਰ ਸੀ ਸਾਡੀ,
ਤੇ ਇਕ ਖਾਸ ਹੁੰਦੇ ਸੀ ਵਿਚੋਂ ਲਖਾਂ ਦੇ।
ਅੱਜ ਵੀ ਉਹੀ ਆ ਮੈਂ,
ਪਰ ਦਸ ਕੀ ਗਲਤੀ ਹੋਈ ਸਾਡੇ ਤੋਂ ਜੋ ਕਰ ਗਈ ਬਰਾਬਰ ਕੱਖਾਂ ਦੇ।।

✍️ਮੋਨੂੰ ਮਾਨ

ਓਹੀ ਆ ਮੈਂ।

8 Love