Social
  • Popular
  • Latest
  • Video

""

"सत्य का गला घोंट कर इंसाफ़ जो किये जा रहे हैं, वेबस लोग इंसाफ़ की भीख कर मरे जा रहे हैं, मैं ये तो नहीं कहता हूँ कि सच मुच करो इंसाफ़, झूठी ही हो अगर तो कुछ तसल्ली हो जाये और जीता रहूँ,,"

सत्य का गला घोंट कर इंसाफ़ जो किये जा रहे हैं,
वेबस लोग इंसाफ़ की भीख कर मरे जा रहे हैं,

मैं ये तो नहीं कहता हूँ कि सच मुच करो इंसाफ़,
झूठी ही हो अगर तो कुछ तसल्ली हो जाये और
जीता रहूँ,,

#Insaaf_kab_milega

253 Love

""

"पेचीदगियों में उलझा के कानून की तू कितने दिन बचेगा मौत से? मर तो गया था तेरा इंसान उसी दिन ,अब तो डर जा खुदा के खौफ से हैवानियत के टीलों को तू बेगैरत हाथों से छू चुका है, मुलतवी करवा के भी सज़ा क्या हुआ नंगा तो तू पूरी दुनिया के सामने हो चुका है। कानून की जकड़न ने रोका है नहीं तो जीने का तुझे हक नहीं, मां तेरे दामन में आंसू ना होते जो कानून हो पाता थोड़ा सख्त कहीं ....."

पेचीदगियों में उलझा के कानून की तू कितने दिन बचेगा मौत से?
मर तो गया था तेरा इंसान उसी दिन ,अब तो डर जा खुदा के खौफ से

हैवानियत के टीलों को तू बेगैरत हाथों से छू चुका है,
मुलतवी करवा के भी सज़ा क्या हुआ नंगा तो तू  पूरी दुनिया के सामने हो चुका है।

कानून की जकड़न ने रोका है नहीं तो जीने का तुझे हक नहीं,
मां तेरे दामन में आंसू ना होते जो कानून हो पाता थोड़ा सख्त कहीं .....

#insaaf_kab_milega #nojotoapp #nojotohindi #insaaf #kanoon #Insaan #maa #Maut #Khauf #saza @neelam rawat @AS Sabreen @jinal patel @aman6.1 Jyoti

145 Love

""

"ये झुठी दलील क्यों, ये झुठी तकरीर क्यों, जब हैं लूली लंगड़ी अंधी बहरी कानून व्यवस्था इस देश की, फिर उम्मीद कैसी इंतज़ार क्यों, माना की सबूतो का पिटारा बड़ा हैं, लेकिन वो देखो सामने निरंकुश हैवानो को बचाने लाख पैतरे लिए चंद पैसो के लिए हममें से ही कोई साथ उसके खड़ा हैं, क्या फर्क पड़ता है उनको कौन सी उनकी बहन बेटी पर विपदा आन पड़ी हैं, बहन बेटी हमारी थी चिखेंगे चिल्लायेंगें, जब तक नहीं मिलता इंसाफ हम तो चित्कार मचायेंगे, फिर ये झुठी दलील क्यों, ये झुठी तकरीर क्यों, जब हैं लूली लंगड़ी अंधी बहरी कानून व्यवस्था इस देश की, फिर उम्मीद कैसी इंतज़ार क्यों? ©फक्कड़ मिज़ाज अनपढ़ कवि सिन्टु तिवारी"

ये झुठी दलील क्यों,
ये झुठी तकरीर क्यों,
जब हैं लूली लंगड़ी अंधी बहरी कानून व्यवस्था इस देश की,
फिर उम्मीद कैसी इंतज़ार क्यों, 
माना की सबूतो का पिटारा बड़ा हैं,
लेकिन वो देखो सामने निरंकुश हैवानो को बचाने लाख पैतरे लिए चंद पैसो के लिए हममें से ही कोई साथ उसके खड़ा हैं, 
क्या फर्क पड़ता है उनको कौन सी उनकी बहन बेटी पर विपदा आन पड़ी हैं,
बहन बेटी हमारी थी चिखेंगे चिल्लायेंगें, 
जब तक नहीं मिलता इंसाफ हम तो चित्कार मचायेंगे, 
फिर ये झुठी दलील क्यों,
ये झुठी तकरीर क्यों,
जब हैं लूली लंगड़ी अंधी बहरी कानून व्यवस्था इस देश की,
फिर उम्मीद कैसी इंतज़ार क्यों?

©फक्कड़ मिज़ाज अनपढ़ कवि सिन्टु तिवारी

#Insaaf_kab_milega लूली लंगड़ी अंधी बहरी #कानून_व्यवस्था इस देश की #nojotoapp #nojotohindi #thought #Poetry

133 Love
3 Share

""

"जमाना बदला,तौर तरीके भी बदले, बस नहीं बदला तो भारत का कानून। समय के साथ परिवर्तन भी जरूरी है, इंसाफ के इंतजार में खौलता है खून।"

जमाना बदला,तौर तरीके भी बदले,
बस नहीं बदला तो भारत का कानून।
समय के साथ परिवर्तन भी जरूरी है,
इंसाफ के इंतजार में खौलता है खून।

लंगड़ी न्यायपालिका
#Insaaf_kab_milega #इंसाफ #कानून #न्याय #फाँसी #सजा #दोषी #अदालत #मजाक #हद

109 Love

""

"कानून बनाने वालों ने कानून बनाया ताकि इंसाफ हो हर एक के साथ, कानून के दलालों ने अपना ईमान बेच दिया और जुर्म के ठेकेदारों इसे हथियार समझा अपना गुहार छुपाने के लिए , अब कैसे इंसाफ हो ???"

कानून बनाने वालों ने कानून बनाया
ताकि  इंसाफ  हो  हर  एक के साथ,
कानून के दलालों  ने  अपना ईमान 
बेच दिया और जुर्म के ठेकेदारों 
इसे हथियार समझा 
अपना गुहार छुपाने के लिए
 , अब कैसे इंसाफ हो ???

#Insaaf_kab_milega

97 Love