Lonely
  • Popular
  • Latest
  • Video

""

"Alone baithe the hum tanhaiyon me kuchh udas hokr, mausam v udas tha meri mayusi dekhkr, chand-taare chhup gye the aasman me, bs badal baras rhe the ansu bahakr. ⭐💎सुहानी📝"

Alone   baithe the hum tanhaiyon me kuchh udas hokr, 
mausam v udas tha meri mayusi dekhkr,
chand-taare chhup gye the aasman me,
bs badal baras rhe the ansu bahakr.

                  ⭐💎सुहानी📝

😟😔😟

498 Love

""

"Alone चाहे ये दुनिया जितनी ठोकर खिलाए आख़िर में माँ जैसी मुहब्बत कर जाए"

Alone  चाहे ये दुनिया जितनी ठोकर खिलाए
आख़िर में माँ जैसी मुहब्बत कर जाए

#आख़िर_में

496 Love
3 Share

""

"Alone "कहां गयी रे मानव तेरी पहचान?" सडकें वीरान गलियां सुनसान। घर की छतों पर पंछी अंजान॥ कहाँ गयी रे मानव तेरी पहचान? अमीरी गरीबी से तेरा गहरा नाता। इंसानियत का फर्ज तू कभी नहीं निभाता, क्या इतना ही तू ह्रदयवान? कहाँ गयी रे मानव तेरी पहचान? भेदभाव तो रंगों का है। पर कभी किसी के रंग से, उसकी अच्छाई का पता चला है॥ क्या इतना ही तू गुणवान? कहाँ गयी रे मानव तेरी पहचान? ऊंची - ऊंची बातें करना। शानो शौकत से जिंदगी जीना॥ क्या यही तेरा अभिमान? कहाँ गयी रे मानव तेरी पहचान? पत्त्थर पर दूध चढाता भूखे को घर से भागाता। क्या यहीं तेरे संस्कार? कहाँ गयी रे मानव तेरी पहचान? खुली हवा में रहना तुझे है भाता। फिर पंछी को क्यों कैद कराता ॥ क्या इतना ही तू नादान ? कहाँ गयी रे मानव तेरी पहचान? सब कुछ होते हुए खुद को खाली बताता। एक दिन तेरे झूठ का पन्ना किताब में सवर जाता।॥ क्या यहीं तेरा सम्मान ? Prachi tyagi...."

Alone   "कहां गयी रे मानव तेरी पहचान?"

सडकें वीरान गलियां सुनसान। 
घर की छतों पर पंछी अंजान॥
कहाँ गयी रे मानव तेरी पहचान? 
अमीरी गरीबी से तेरा गहरा नाता। 
इंसानियत का फर्ज तू कभी नहीं निभाता, 
क्या इतना ही तू ह्रदयवान? 
कहाँ गयी रे मानव तेरी पहचान? 
भेदभाव तो रंगों का है। 
पर कभी किसी के रंग से, 
उसकी अच्छाई का पता चला है॥
क्या इतना ही तू गुणवान? 
कहाँ गयी रे मानव तेरी पहचान? 
ऊंची - ऊंची बातें करना।
शानो शौकत से जिंदगी जीना॥ 
क्या यही तेरा अभिमान? 
कहाँ गयी रे मानव तेरी पहचान? 
पत्त्थर पर दूध चढाता भूखे को घर से भागाता। 
क्या यहीं तेरे संस्कार? 
कहाँ गयी रे मानव तेरी पहचान? 
खुली हवा में रहना तुझे है भाता। 
फिर पंछी को क्यों कैद कराता ॥
क्या इतना ही तू नादान ? 
कहाँ गयी रे मानव तेरी पहचान? 
सब कुछ होते हुए खुद को खाली बताता। 
एक दिन तेरे झूठ का पन्ना किताब में सवर जाता।॥
क्या यहीं तेरा सम्मान ?
                                                                    Prachi tyagi....

#poem
#Now people condition
#positivity

313 Love
4 Share

""

"Alone आसमां की बुलंदियों से सीधे नीचे गिरा देते है अकेले है हम कुछ लोग अहसास करा देते है"

Alone   आसमां की बुलंदियों से सीधे नीचे गिरा देते है
अकेले है हम कुछ लोग अहसास करा देते है

#alone

306 Love
2 Share

""

"Alone टूटा दिल कहीँ फिर ना टूट कर बिख़र जाए मेरा, इस फ़िक्र से मैंने दिल लगाना भी छोड़ दिया हैं... समेट कर रखा हैं हर दर्द को मैंने अपने दिल में, अपनी दास्ताँ किसी को बताना भी छोड़ दिया हैं... मुझसे नाराज़गी किस बात की है तुझे ए-ज़िन्दगी, देख ना, अब तो मैंने मुस्कुराना भी छोड़ दिया है... ✍My_Words..."

Alone  टूटा दिल कहीँ फिर ना टूट कर बिख़र जाए मेरा,
इस फ़िक्र से मैंने दिल लगाना भी छोड़ दिया हैं...

समेट कर रखा हैं हर दर्द को मैंने अपने दिल में,
अपनी दास्ताँ किसी को बताना भी छोड़ दिया हैं...

मुझसे नाराज़गी किस बात की है तुझे ए-ज़िन्दगी,
देख ना, अब तो मैंने मुस्कुराना भी छोड़ दिया है...


✍My_Words...

नाराज़गी किस बात की हैं ए-ज़िन्दगी 🙏🙏 #Life #philosophy #nojotohindi #nojotonews #Motivation #Love #Relationships #QandA #feelings #Emotions

@aman6.1 @Shikha Sharma @sheetal pandya मेरे शब्द @Mr. MANEESH @HOLOCAUST @Tezmi_queen

285 Love