City Life
  • Latest
  • Popular
  • Video

""

"शहर में ढूँढा मोहल्ले में ढूंढा मोहल्ले की हर एक गलियो में ढूँढा पर हमें कोई तुझसा नहीं दिखा है.. शुक्र है खुदा का की उसने तुझे हमारे नसीब में लिखा है.. . ©khaali_kitab......📝"

शहर में ढूँढा मोहल्ले में  ढूंढा मोहल्ले की हर एक

 गलियो में ढूँढा पर हमें कोई तुझसा नहीं दिखा है..

 शुक्र है खुदा का की उसने तुझे हमारे नसीब में लिखा है..









.

©khaali_kitab......📝

#City

19 Love

""

"_#कवी'धनूज. खामोशियाँ_ डराने लगी है ©Dhananjay(dhanuj) Sankpal"

_#कवी'धनूज.
खामोशियाँ_
डराने लगी है

©Dhananjay(dhanuj) Sankpal

#City_खामोशियाँ
#धनूज
#शायरी

9 Love

""

"तुमने मांगा था घर । मैने शहर बना दीया । तुमने मांगा शौहर । 😂मैने जहर बना दीया ।😂 ©SIDDHARTH SHENDE s2"

तुमने मांगा था घर ।
मैने शहर बना दीया ।
तुमने मांगा शौहर ।
😂मैने जहर बना दीया ।😂

©SIDDHARTH SHENDE s2

😂😂

#City @Internet Jockey @anurag Dubey @कवि राहुल पाल @Vasudha Uttam @Jyoti gupta

50 Love

""

"मेरी तारीफ मत करो मुझ मे बहुत बुराई है यूँही तो नहीं ये दर्द ऐ ज़िन्दगी और रुसवाई है बहुत छोटे छोटे कंकर निकाले है खुद से शमशीर अभी बाकी है उसकी ज़्यादा गहरायी है एक पहाड़ बराबर बोझ है इस दिल पर कब से इसलिए मेरे वजूद मे अब तक कम तवानाई है खुशियां ज़िन्दगी और खवाहिशे बाँट दी और यहाँ लोग ऐसे हैं कहते हैं बहुत महंगाई है उसके शहर से जब गुज़रो सारिम आवाज़ देना सुना है अब भी उसमें उतनी ही रानाई है ©Mohammad sarim"

मेरी तारीफ मत करो मुझ मे बहुत बुराई है
 यूँही तो नहीं ये दर्द ऐ ज़िन्दगी और रुसवाई है

बहुत छोटे छोटे कंकर निकाले है खुद से 
शमशीर अभी बाकी है उसकी ज़्यादा गहरायी है

एक पहाड़ बराबर बोझ है इस दिल पर कब से
 इसलिए मेरे वजूद मे अब तक कम तवानाई है

खुशियां ज़िन्दगी और खवाहिशे बाँट दी 
और यहाँ लोग ऐसे हैं कहते हैं बहुत महंगाई है

उसके शहर से जब गुज़रो सारिम आवाज़ देना 
सुना  है  अब  भी  उसमें  उतनी  ही  रानाई  है

©Mohammad sarim

#mohabbat #Dard_e_dil #Dard #Broken💔Heart #Heart #ulfat

9 Love

""

"इस बेजान शहर में घर कई होंगे , किसी के दरवाजे पे दस्तक दो , देखो जरा इंसानियत जिंदा है कि नही। और किसी अपने से मिलकर आओ तो बताओ मुझे , वो अब भी तुम्हें पहचानता है कि नही। इस शहर की काबिलियत पर शक क्यों किया जाए , जो मांगता है ये ,इसे सबकुछ दिया जाए , गर इसकी चाहत है गांव को वीरान करना , तो इस शहर को फिर जला दिया जाए। ©VINOD DUBEY◆SYAHII◆"

इस बेजान शहर में घर कई होंगे ,
किसी के दरवाजे पे दस्तक दो ,
देखो जरा इंसानियत जिंदा है कि नही।
और किसी अपने से मिलकर आओ तो  
बताओ मुझे ,
वो अब भी तुम्हें पहचानता है कि नही।

इस शहर की काबिलियत पर शक क्यों किया जाए ,
जो मांगता है ये ,इसे सबकुछ दिया जाए ,
गर इसकी चाहत है गांव को वीरान करना ,
तो इस शहर को फिर जला दिया जाए।

©VINOD DUBEY◆SYAHII◆

#Nojoto #nojotohindi #nojotoquote #nojotoenglish #nojotonews #nojotopoetry #nojotoshayari #nojotoLove

#City @aradhan@ @ram singh yadav @Anubhav Chaudhary @Dr SONI @Rekha💕Sharma "मंजुलाहृदय"

18 Love