Child Labour quotes
  • Popular
  • Latest
  • Video

""

"lockdown खिड़की से झांकता बचपन भी हैरान हैं!! परीक्षाए़ॅ तो खत्म ये कैसा इम्तिहान है...!!"

lockdown
खिड़की से झांकता बचपन भी हैरान हैं!!
परीक्षाए़ॅ तो खत्म ये कैसा इम्तिहान है...!!

😔😔

92 Love

""

"WORLD DAY AGAINST CHILD LABOUR The World Day Against Child Labour is an international day to raise awareness and prompt action to stop child labour in all its forms children aged 6 to 14 years are entitled to free and compulsory education"

WORLD DAY AGAINST CHILD LABOUR

The World Day Against Child Labour is an international day to raise awareness and prompt action to stop child labour in all its forms

children aged 6 to 14 years are entitled to free and compulsory education

#CHILD_LABOUR
#world_day_against_child_labour

85 Love
1 Share

""

"उम्र बढ़ती गयी इस क़दर ना बाल रहे, ना बाल रहे Happy children’s day"

उम्र बढ़ती गयी इस क़दर 
ना बाल रहे, ना बाल रहे 
Happy children’s day

#Happy_childrens_day

56 Love

""

"कन्धों पर हल का बोझ उठा कर चलता हूँ तब मैं कुछ यूँ अपने ही पैसों पर पलता हूँ मन चाहता है सबकी तरह किताबें उठाना पर मजबूरी में मजदूरी का पाठ मैं पढ़ता हूँ #STOP #CHILD #LABOUR"

कन्धों पर हल का बोझ उठा कर चलता हूँ 
तब मैं कुछ यूँ अपने ही पैसों पर पलता हूँ 
मन चाहता है सबकी तरह किताबें उठाना
पर मजबूरी में मजदूरी का पाठ मैं पढ़ता हूँ 

#STOP
#CHILD
#LABOUR

#Childlabour

48 Love

""

"दर्द गूंजता रहा उस रोज! फिर एक बच्चा रोया था उम्र में तो छोटा था , काम तले बहुत दबा था पढ़ाई लिखाई का शौक तो था, शायद किसी गरीब का बच्चा था भूख ज्यादा थी पर पैसा कम था, काम के अलावा दूसरा कोई चारा न था मालिक ने पहली बार उसे जलाया था, उस मालिक में गुस्सा बहुत था आज तो वो खूब चिल्लाया था, फिर उसने खुद को बहुत समझाया था रोज का रोज यही होता था हर दिन नए तरीके से उसे ये जुर्म सहना था फिर एक दिन मालिक ने देखा काम के समय जबान से चंद अंग्रेजी के लफ्ज़ और हाथो में कलम था मालिक ने जोर से मारा उसे, ये सब जुर्म सहने के लिए अभी वो बच्चा था उस रोज वो न रोया न चिल्लाया था मगर उसका दर्द उसकी गरीबी ने बे-खौफ चीखा था - diks'shruti'"

दर्द गूंजता रहा उस रोज! फिर एक बच्चा रोया था 
उम्र में तो छोटा था , काम तले बहुत दबा था
पढ़ाई लिखाई का शौक तो था, शायद किसी गरीब का बच्चा था
भूख ज्यादा थी पर पैसा कम था, काम के अलावा दूसरा कोई चारा न था 
मालिक ने पहली बार उसे जलाया था, उस मालिक में गुस्सा बहुत था
आज तो वो खूब चिल्लाया था, फिर उसने खुद को बहुत समझाया था
रोज का रोज यही होता था हर दिन नए तरीके से उसे ये जुर्म सहना था
फिर एक दिन मालिक ने देखा काम के समय जबान से 
चंद अंग्रेजी के लफ्ज़ और हाथो में कलम था
मालिक ने जोर से मारा उसे, ये सब जुर्म सहने के लिए अभी वो बच्चा था
उस रोज वो न रोया न चिल्लाया था मगर उसका दर्द उसकी गरीबी ने बे-खौफ चीखा था
    - diks'shruti'

#CHILD_LABOUR
#stopviolenceagainstchildren
#nojotohindi❤️🙏 @Raj Ak @Jyoti ..nj.. @priyanka @✍️कुमार रंजीत🙏 @Omi Sharma

46 Love