रेत- रेत ही रेत है उसपर यह गर्म हवा, पानी की एक बू
  • Latest
  • Video

"रेत- रेत ही रेत है उसपर यह गर्म हवा, पानी की एक बूंद नहीं शरीर तप के जल रहा, कदम चलते- चलते थिडक रहा गर्म रेत पर सिझ रहा, दूर- दूर कोई वृक्ष नहीं ठंडी छाँव की उम्मीद नहीं । रेत ही रेत है उसपर यह गर्म हवा ।"

रेत- रेत ही रेत है उसपर यह गर्म हवा, पानी की एक बूंद नहीं शरीर तप के जल रहा, कदम चलते- चलते थिडक रहा गर्म रेत पर सिझ रहा, दूर- दूर कोई वृक्ष नहीं ठंडी छाँव की उम्मीद नहीं । रेत ही रेत है उसपर यह गर्म हवा ।

#AlvidaJumma

11 Love

"रेत- रेत ही रेत है उसपर यह गर्म हवा, पानी की एक बूंद नहीं शरीर तप के जल रहा, कदम चलते- चलते थिडक रहा गर्म रेत पर सिझ रहा, दूर- दूर कोई वृक्ष नहीं ठंडी छाँव की उम्मीद नहीं । रेत ही रेत है उसपर यह गर्म हवा ।"

रेत- रेत ही रेत है उसपर यह गर्म हवा, पानी की एक बूंद नहीं शरीर तप के जल रहा, कदम चलते- चलते थिडक रहा गर्म रेत पर सिझ रहा, दूर- दूर कोई वृक्ष नहीं ठंडी छाँव की उम्मीद नहीं । रेत ही रेत है उसपर यह गर्म हवा ।

#AlvidaJumma

8 Love

"रेत- रेत ही रेत है उसपर यह गर्म हवा, पानी की एक बूंद नहीं शरीर तप के जल रहा, कदम चलते- चलते थिडक रहा गर्म रेत पर सिझ रहा, दूर- दूर कोई वृक्ष नहीं ठंडी छाँव की उम्मीद नहीं । रेत ही रेत है उसपर यह गर्म हवा ।"

रेत- रेत ही रेत है उसपर यह गर्म हवा, पानी की एक बूंद नहीं शरीर तप के जल रहा, कदम चलते- चलते थिडक रहा गर्म रेत पर सिझ रहा, दूर- दूर कोई वृक्ष नहीं ठंडी छाँव की उम्मीद नहीं । रेत ही रेत है उसपर यह गर्म हवा ।

#AlvidaJumma

8 Love

"रेत- रेत ही रेत है उसपर यह गर्म हवा, पानी की एक बूंद नहीं शरीर तप के जल रहा, कदम चलते- चलते थिडक रहा गर्म रेत पर सिझ रहा, दूर- दूर कोई वृक्ष नहीं ठंडी छाँव की उम्मीद नहीं । रेत ही रेत है उसपर यह गर्म हवा ।"

रेत- रेत ही रेत है उसपर यह गर्म हवा, पानी की एक बूंद नहीं शरीर तप के जल रहा, कदम चलते- चलते थिडक रहा गर्म रेत पर सिझ रहा, दूर- दूर कोई वृक्ष नहीं ठंडी छाँव की उम्मीद नहीं । रेत ही रेत है उसपर यह गर्म हवा ।

#AlvidaJumma

8 Love

"रेत- रेत ही रेत है उसपर यह गर्म हवा, पानी की एक बूंद नहीं शरीर तप के जल रहा, कदम चलते- चलते थिडक रहा गर्म रेत पर सिझ रहा, दूर- दूर कोई वृक्ष नहीं ठंडी छाँव की उम्मीद नहीं । रेत ही रेत है उसपर यह गर्म हवा ।"

रेत- रेत ही रेत है उसपर यह गर्म हवा, पानी की एक बूंद नहीं शरीर तप के जल रहा, कदम चलते- चलते थिडक रहा गर्म रेत पर सिझ रहा, दूर- दूर कोई वृक्ष नहीं ठंडी छाँव की उम्मीद नहीं । रेत ही रेत है उसपर यह गर्म हवा ।

#AlvidaJumma

12 Love