जीने को ज़िन्दगी कुछ ऐसा हुनर माँगता हूँ
रहने को तन
  • Latest
  • Video

"जीने को ज़िन्दगी कुछ ऐसा हुनर माँगता हूँ रहने को तनहा एक अलग शहर माँगता हूँ । रस्ता है काफी लम्बा और भीड़ भी बेहिसाब है पाने को मंज़िल मैं एक तनहा सफ़र माँगता हूँ । आँखे थक सी गईं हैं एक से ही नज़ारे को देख कुछ अलग सा दिखा. दे वो नज़र माँगता हूँ । किस्मत बनाने में दिन बीतते जा रहे हैं जो आ के ठहर जाये वो एक पहर माँगता हूँ । चल तो सभी रहे पर इक दूजे की कदर ही नही बेक़दरों से भी मिले थोड़ी वो कदर माँगता हूँ । ज़िन्दगी ठूँठ हो गई हरियाली झड़ गई "अनगढ़" जिसकी छाँव में रहूँ वो घना शजर माँगता हूँ ।"

जीने को ज़िन्दगी कुछ ऐसा हुनर माँगता हूँ
रहने को तनहा एक अलग शहर माँगता हूँ । 

रस्ता है काफी लम्बा और भीड़ भी बेहिसाब है 
पाने को मंज़िल मैं एक तनहा सफ़र माँगता हूँ ।

आँखे थक सी गईं हैं एक से ही नज़ारे को देख 
कुछ अलग सा दिखा. दे वो नज़र माँगता हूँ ।

किस्मत बनाने में दिन बीतते जा रहे हैं 
जो आ के ठहर जाये वो एक पहर माँगता हूँ । 

चल तो सभी रहे पर इक दूजे की कदर ही नही
बेक़दरों से भी मिले थोड़ी वो कदर माँगता हूँ ।

ज़िन्दगी ठूँठ हो गई हरियाली झड़ गई "अनगढ़"
जिसकी छाँव में रहूँ वो घना शजर माँगता हूँ ।

जीने को ज़िन्दगी कुछ ऐसा हुनर माँगता हूँ
रहने को तनहा एक अलग शहर माँगता हूँ ।

रस्ता है काफी लम्बा और भीड़ भी बेहिसाब है
पाने को मंज़िल मैं एक तनहा सफ़र माँगता हूँ ।

आँखे थक सी गईं हैं एक से ही नज़ारे को देख
कुछ अलग सा दिखा दे वो नज़र माँगता हूँ ।

6 Love