Pencil Quotes
  • Popular
  • Latest
  • Video

""

"जख्मी चोटों का दर्द कहाँ कोइ सुनता है जिंदगी का गम अब इन पन्नों पर लिखा जाता है इन्तजार का एहसास इक दर्द जगाता है खामोशी से गम पीते पीते बस यादोंके पन्नों में लिखते लिखते यह दर्द शब्दों में उभर आता है । अंशु चककू"

जख्मी चोटों का दर्द कहाँ कोइ सुनता है 
जिंदगी का गम अब इन पन्नों पर लिखा जाता है 
इन्तजार का एहसास इक दर्द जगाता है 
खामोशी से गम पीते पीते बस
यादोंके पन्नों में लिखते लिखते 
यह दर्द शब्दों में उभर आता है ।

अंशु चककू

 

172 Love

""

"हा मैं कवि हूँ, बिचारो के स्याह से दिल के कागज को भरता हूँ शब्दो की फसल को कुछ ऐसे ही सींचता हूँ हा मैं कवि हूँ। हा मैं कवि हूँ, शब्दो की खोज में कलम को बार-बार घिसता हूँ, बिन आपबीती के ही हर एक पहलू को स्पर्श कर कुदेरता हूँ। हा मैं कवि हूँ। @आशुतोष यादव"

हा मैं कवि हूँ,

बिचारो के स्याह से
दिल के कागज को भरता हूँ
शब्दो की फसल को
कुछ ऐसे ही सींचता हूँ
हा मैं कवि हूँ।

हा मैं कवि हूँ,

शब्दो की खोज में
कलम को बार-बार घिसता हूँ,
बिन आपबीती के ही
हर एक पहलू को स्पर्श कर कुदेरता हूँ।
हा मैं कवि हूँ।

                                                       @आशुतोष यादव

#कविता #काव्यशाला #काव्य_संग्रह . @अंकित सारस्वत @Priya Gour @Raj Choudhary @Anjana Ratna ( kavya Obray) @Roshani Thakur

118 Love

""

"मैं देख रहा हूं आजकल तुम कोई जवाब नही देते कोई ख़ता हुई है मुझसें या हम ही खता बन बैठे #Kajalife"

मैं देख रहा हूं   
आजकल तुम कोई जवाब नही देते 
कोई ख़ता हुई है मुझसें या 
हम ही खता बन बैठे 
#Kajalife

#Khamoshi
#kajalife

91 Love

""

"कवि के तन के अंदर उठता रहता है सदैव शब्दो का उफनता समंदर ऐसे थोड़े ही न बन जाता है कोई शब्द-रस का पयम्बर। ~आशुतोष यादव"

कवि के तन के अंदर
उठता रहता है सदैव
शब्दो का उफनता समंदर   
ऐसे थोड़े ही न बन जाता है
कोई शब्द-रस का पयम्बर।

   ~आशुतोष यादव

@Kittu❤ @indu singh @Harlal Mahato @deepti😊 @..SShikha..

90 Love

""

"ऐ मेरी कलम मुझ पर तू इतना सा एहसान करदे कह ना पाई जो मेरी जुबान उसे तु बयान कर दे"

ऐ मेरी कलम मुझ पर तू इतना सा एहसान करदे 

कह ना पाई जो मेरी जुबान उसे तु बयान कर दे

 

73 Love