Lost
  • Popular
  • Latest
  • Video

""

"पता नहीं कहाँ चले जा रहे हैं ! Raste ka pta nhi phir bhi chle ja rhe h.. Manzil dhundte dhunte apni hi nazro se girte ja rhe h.. Halima usmani"

पता नहीं कहाँ चले जा रहे हैं ! Raste ka pta nhi phir bhi chle ja rhe h.. 
Manzil dhundte dhunte apni hi nazro se girte ja rhe h.. 

Halima usmani

Manzil...
#nojotohindi #nojoto #untoldfeeling #manzil #shyri #vichar

209 Love

""

"पता नहीं कहाँ चले जा रहे हैं ! Pata nahi kahan chale jaa rahe he. Ye kadam mere ruk nahi paa rhe he. chalte chalte nikal gye ham itna door ki chah kar bhi pichhe nahi dekh paa rhe he. ghani wadiyo me aabadi ki talash me ya bheed se nikal kar tanhayi ki chah me bas mere kadam chale jaa rahe he... chale jaa rhe he..."

पता नहीं कहाँ चले जा रहे हैं ! Pata nahi kahan chale jaa rahe he.
Ye kadam mere ruk nahi paa rhe he.
chalte chalte nikal gye ham itna door
ki chah kar bhi pichhe nahi dekh paa rhe he.
ghani wadiyo me aabadi ki talash me
ya bheed se nikal kar tanhayi ki chah me 
bas mere kadam chale jaa rahe he...
chale jaa rhe he...

#Nojoto#lost#CTL

141 Love

""

"पता नहीं कहाँ चले जा रहे हैं ! Jab tak maut nahi aati..... kisi adhuri manjil ki talaash main zindagi jeeye jaa rahe hai"

पता नहीं कहाँ चले जा रहे हैं ! Jab tak maut nahi aati.....
kisi adhuri manjil ki talaash main 
zindagi jeeye jaa rahe hai

#lost

124 Love

""

"पता नहीं कहाँ चले जा रहे हैं ! pata nahi kahan chale ja rahe hain,jahan andhera hi andhera hain,wahi shamma ke diye jala rahe hain,khud ko dhoondte dhoondte...,.ek naye safar ko...pa rahe hain..,"

पता नहीं कहाँ चले जा रहे हैं ! pata nahi kahan chale ja rahe hain,jahan andhera hi andhera hain,wahi shamma ke diye jala rahe hain,khud ko dhoondte dhoondte...,.ek naye safar ko...pa rahe hain..,

 

114 Love

""

"पता नहीं कहाँ चले जा रहे हैं ! कुछ भीड़ थी मेरे सिरहाने, बस चल दिया ख़ुद को ही पाने। मेरी तमन्ना हरगिज़ जीने की थी इसलिए नहीं ढूंढे कोई बहाने। ये शहर, ये गलियों की रौनक, मेरे जहन में बस उतरती नहीं है। चाहत है अपने आशियाने की, जिसकी मंजिल सरल नहीं है।"

पता नहीं कहाँ चले जा रहे हैं ! कुछ भीड़ थी मेरे सिरहाने,
बस चल दिया ख़ुद को ही पाने।
मेरी तमन्ना हरगिज़ जीने की थी
इसलिए नहीं ढूंढे कोई बहाने।

ये शहर, ये गलियों की रौनक,
मेरे जहन में बस उतरती नहीं है।
चाहत है अपने आशियाने की,
जिसकी मंजिल सरल नहीं है।

पता नहीं कहाँ चले जा रहे हैं।

#मेरीकहानी
#MeriKahani
#hamariadhurikahani
#tournoida
#tourdelhi
#sambhavjain

111 Love
1 Share