Sand land Quotes
  • Popular
  • Latest
  • Video

""

"गुफ्तगू करने की आदत सी है मुझे, खुद से तेरी बात करने की आदत है मुझे, उन पलों के बारे में सोचकर हंस भी देती हूं, और रो भी लेती हूं, तो क्या हुआ हम साथ नहीं है, पर ख्यालों में तो तेरा एहसास भी है, वो सारी बातें बताया करती हूं, वो इजहार भी करती हूं, खुदी से रूठती हूं, खुद पर ही गुस्सा करती हूं, ओर खुदी को मना भी लेती हूं, बस अब तो तुझे देखने की तमन्ना है, इसी में अपनी सारी शाम ओर रात गुजार देती हूं"

गुफ्तगू करने की आदत सी है मुझे,
खुद से तेरी बात करने की आदत है मुझे,
उन पलों के बारे में सोचकर हंस भी देती हूं,
और रो भी लेती हूं,
तो क्या हुआ हम साथ नहीं है,
पर ख्यालों में तो तेरा एहसास भी है,
वो सारी बातें बताया करती हूं,
वो इजहार भी करती हूं,
खुदी से रूठती हूं,
खुद पर ही गुस्सा करती हूं,
ओर खुदी को मना भी लेती हूं,
बस अब तो तुझे देखने की तमन्ना है,
इसी में अपनी सारी शाम ओर रात गुजार देती हूं

# own feeling# ✍️✍️🥰💕

490 Love
2 Share

""

"बिला वज़ह तेरी मोहब्बत मे गिरफ्तार हो गए , गलती तेरी थी ना मेरी बस किस्मत का शिकार हो गए और हम भी कितने बेवफा निकले, तेरी खुशी के लिए तुझसे ही दूर हो गए ।"

बिला वज़ह तेरी मोहब्बत मे गिरफ्तार हो गए , गलती तेरी थी ना मेरी बस किस्मत का शिकार हो गए और हम भी कितने बेवफा निकले, तेरी खुशी के लिए  तुझसे ही दूर हो गए ।

मोहब्बत

419 Love
1 Share

""

"Izzat kro behno ki kya fark padta h apni ho ya gairo ki"

Izzat kro behno ki 
kya fark padta h
apni ho ya
gairo ki

Izzat

406 Love

""

"काफिलों का साया तो उन्हें नसीब हो जिन्हें अकेले बढ़ने का हुनर नहीं आता, मुझे तो अकेले बढ़ने का हुनर परवरिश में मिला हैं जो ताउम्र मेरे साथ रहेगा!!!"

काफिलों का साया तो उन्हें नसीब हो
जिन्हें अकेले बढ़ने का हुनर नहीं आता,

मुझे तो अकेले बढ़ने का हुनर परवरिश
में मिला हैं जो ताउम्र मेरे साथ रहेगा!!!

motivation Quote
#nojoto
#nojotohindi #nojotoenglish #nojotoquote #hindiwriter #Motivation #itsmegirl #Love #Life #shayri

387 Love

""

"खुद में ही मैं गुम हूं खुद की ही तलाश में हूं ढूंढा हैं मैंने खुद को कईबार होशोहवास में न जाने पन्नो पर तो रूबरू हो रही पर परछाइयों में नजर आ रही न जाने कहां छुप गई हूं मैं मिलना चाहती हूं मैं इससे बस एक बार जो कहीं मुझमे जिन्दा हैं वो दब के रह गई हैं यहाँ"

खुद में ही मैं गुम हूं खुद की ही तलाश में हूं
ढूंढा हैं मैंने खुद को कईबार होशोहवास में
न जाने पन्नो पर तो रूबरू हो रही 
पर परछाइयों में नजर आ रही 
न जाने कहां छुप गई हूं मैं
मिलना चाहती हूं मैं इससे बस एक बार
जो कहीं मुझमे जिन्दा हैं वो दब के रह गई हैं यहाँ

 

253 Love
3 Share