My book quotes
  • Popular
  • Latest
  • Video

""

"तकाज़ा मुझसे करती है, अपने हिस्से की सियाही, वो 'डायरी' जो 'सितम्बर' के बाद कोरी है !!"

तकाज़ा मुझसे करती है, अपने हिस्से की सियाही,
वो 'डायरी' जो 'सितम्बर' के बाद कोरी है !!

*तकाज़ा - Demand
#diary #Siyaahi #sitamber #Nojoto #nojotohindi #nojotoofficial

17 Love
2 Share

""

"ये धर्म के झगड़े अब तो छोड़ दो चलो इंसानियत के सारे रिश्ते जोड़ दे प्यार और अपनेपन का मीठा रस सबमे घोल दे ये सफरनामा जिंदगी का ऐसे ही मोड़ दे नफरत के सारे किस्से किसी गड्ढे में छोड़ दे चलो फिर से प्यार को प्यार से जीत ले मन मे हैं मूरत उस एक शक्ति की जो बसी हैं अपने दिल के एक द्वार में मत ढूंढ़ो उसे भेदभाव के इस अजूबे में ये करेगा तुम्हे बस भ्रमित तुम्हारे अपनो से चलो छोड़ो इस बेफिजूल बातों को अब तो चल लो सब मिलके करने फरियाद हिलमिल रहने को ये नाते जोडों अब तो सच्चे यार के साथ निभाने के"

ये धर्म के झगड़े अब  तो छोड़ दो
चलो इंसानियत के सारे रिश्ते जोड़ दे
प्यार और अपनेपन का मीठा रस सबमे घोल दे
ये सफरनामा जिंदगी का  ऐसे ही मोड़ दे
नफरत के सारे किस्से किसी गड्ढे में छोड़ दे
चलो फिर से प्यार को प्यार से जीत ले
मन मे हैं मूरत उस एक शक्ति की
जो बसी हैं अपने दिल के एक द्वार में
मत ढूंढ़ो उसे भेदभाव के इस अजूबे में
ये करेगा तुम्हे बस भ्रमित तुम्हारे अपनो से
चलो छोड़ो इस बेफिजूल बातों को
अब तो चल लो सब मिलके करने फरियाद हिलमिल रहने को
ये नाते जोडों अब तो सच्चे यार के साथ निभाने के

 

229 Love
2 Share

""

"जब से सयाना हुआ कुछ करने की ठानी मौके मिलते रहे औऱ में उन्हें छोड़ता गया FR choudhary osian"

जब से सयाना हुआ
कुछ करने की ठानी
मौके मिलते रहे
औऱ में उन्हें छोड़ता गया
                    FR choudhary osian

#

154 Love
3 Share

""

"किस्सा मुहब्बत का सरेआम लिख दिया, इश्क के कोरे पन्नों पे खुद को पाकीज़ा, और मुझे कितना बदनाम लिख दिया। इतनी शिद्दत से निभाई उसने बेवफ़ाई, देकर आज मेरी आँखों में गम औ आँसू, किसी ओर के दिल पे अपना नाम लिख दिया।"

किस्सा मुहब्बत का सरेआम लिख दिया,
इश्क के कोरे पन्नों पे खुद को पाकीज़ा,
और मुझे कितना बदनाम लिख दिया।
इतनी शिद्दत से निभाई उसने बेवफ़ाई,
देकर आज मेरी आँखों में गम औ आँसू,
किसी ओर के दिल पे अपना नाम लिख दिया।

#स्नेहा_अग्रवाल

127 Love

""

"Palat kar aye to Sabse phle tujhe milege Use jagah par Jahan kai rastey milege Ager kabhi tere naam par jang ho gyi to Hm aise busdil bhi phle saff par khade mile ge"

Palat kar aye to 
Sabse phle tujhe milege
Use jagah par
Jahan kai rastey milege
Ager kabhi tere naam par jang ho gyi to
Hm aise  busdil  bhi phle saff  par khade mile ge

#TeamUjjwal
#nojoto
#Shayari
#Poetry
Ishu Priya ÄŘTIFIÇEŘ

122 Love