Dil wali subah Quotes
  • Popular Stories
  • Latest Stories

"jinke jikarr ne itni tabahi mcha raki indino meri dhdkno ke shahar me .... agr kbhi vo khud chle aaye yha to kya hoga 😍😍"

jinke jikarr ne itni tabahi mcha raki indino meri dhdkno ke shahar me ....
agr kbhi vo khud chle aaye yha to kya hoga
😍😍

 

569 Love
3 Share

"मैं परेशान नहीं तेरे बेवफा होने से। जमाना अभी बाकि है, दिल लगाने के लिये"

मैं परेशान नहीं तेरे बेवफा होने से।

जमाना अभी बाकि है,

दिल लगाने के लिये

Rakesh Kumar Ray Kanika Girdhari Mohammad Kamaluddin Chandan Kumar Shifa Khan

158 Love

"सुबह की पहली दुआ रात की आखिरी उम्मीद जैसे हो तुम मेरी ज़िंदगी मे हम मिले ना मिले साथ हो ना हो बात करें ना करें तक़दीर जैसे भी हो मगर मेरी ज़िन्दगी की हर दुआ में तुम हो ।।"

सुबह की पहली दुआ
रात की आखिरी उम्मीद
जैसे हो तुम मेरी ज़िंदगी मे
हम मिले ना मिले
साथ हो ना हो
बात करें ना करें
तक़दीर जैसे भी हो 
मगर मेरी ज़िन्दगी की
हर दुआ में तुम हो ।।

#nojotoquotes #nojotoshayri
#nojotopoems #Life #Subah
#sushmathakur #duaa

134 Love
11 Share

"Na Koi lamha Tera tha na yeh pal mere Hain na tujpe hak Mera tha na tu kisi aur ka hai na tujhe khone ka Dar tha na tujhe pane ki khwahish bus jaisi Hoon waise Hi Hoon Na kusur isme tera koi"

Na Koi lamha Tera tha 
na yeh pal mere Hain 
na tujpe  hak Mera tha 
na tu kisi aur ka hai 
na tujhe khone ka Dar tha 
na tujhe pane ki khwahish 
bus jaisi Hoon waise Hi Hoon 
Na  kusur isme tera koi

#myquont #nojoto #na #koikusue #Morning

128 Love
1 Share

"दिल से करो ख्वाइश तो होती है पूरी, तेरा मेरा प्यार नहीं है कोई मजबूरी। महकती हूँ तेरी साँसों में हर घड़ी, हर पहर, ये है महोब्बत की खुशबू,न समझ कस्तूरी वस्ल की आस में जो बांधा धागा तूने प्रेम का, जुदाई को अपनी न समझ तू मेरी रंजूरी। तू बन जा कलम और मैं स्याही बन जाऊँ तेरी हर ग़ज़ल,हर नज़्म होगी मुझी से पूरी। स्नेहा को खुद से यूँ समझ न खुद से जुदा, बन गई मैं तेरी मुकद्दर, नहीं रहे कहानी अधूरी।"

दिल से करो ख्वाइश तो होती है पूरी,
तेरा मेरा प्यार नहीं है कोई मजबूरी।

महकती हूँ तेरी साँसों में हर घड़ी, हर पहर,
ये है महोब्बत की खुशबू,न समझ  कस्तूरी

वस्ल की आस में जो बांधा धागा तूने प्रेम का,
जुदाई को अपनी न समझ तू मेरी रंजूरी।

तू बन जा कलम और मैं स्याही बन जाऊँ
तेरी हर ग़ज़ल,हर नज़्म होगी मुझी से पूरी।

स्नेहा को खुद से यूँ समझ न खुद से जुदा,
बन गई मैं तेरी मुकद्दर, नहीं रहे कहानी अधूरी।

#स्नेहा _अग्रवाल
#मैं अनबूझ पहेली

124 Love
1 Share