Alone quotes
  • Popular Stories
  • Latest Stories

"तकलीफे हमेशा दो तरफे रिश्ते में होती है, एकतरफा रिश्ता तो बिना किसी उम्मीदों के ही बेमिसाल होता है।"

तकलीफे हमेशा दो तरफे रिश्ते में होती है, 
एकतरफा रिश्ता तो बिना किसी उम्मीदों के ही बेमिसाल होता है।

Ektarfa rista😊

256 Love

"बहुत शोर था जमाने में, इश्क़ नही नापे जाते पैमानों में, पर उसने हर बार नापा है मेरे इश्क़ को दौलत के पैमानों से खुद को बेच दिया मैने उसे पाने में, फिर एक दिन मैंने भी उसे नापा वफ़ा के पैमाने से टिक न सकी वो मेरे रंज ओ दर्द के डेरे में।"

बहुत शोर था जमाने में,
इश्क़ नही नापे जाते पैमानों में,
पर उसने हर बार
नापा है मेरे इश्क़ को
दौलत के पैमानों से
खुद को बेच दिया
मैने उसे पाने में,
फिर एक दिन मैंने भी उसे नापा
वफ़ा के पैमाने से
टिक न सकी वो मेरे
रंज ओ दर्द के डेरे में।

 

124 Love
27 Share

"Akele rhne pr ap kya sochte h......? Akele rhne pr hm puraane yaado me jeete h jisme hmne bitaaya apna bchpn hota h quki dil ko sukoon unhi yaado se milta h unhi chhoti chhoti shrarton ko yaad kr muskuraaya krte h hm."

Akele rhne pr ap kya 
sochte h......?

Akele rhne pr hm puraane
yaado me jeete h
jisme hmne bitaaya apna
bchpn hota h
quki dil ko sukoon unhi yaado se
milta h 
unhi chhoti chhoti shrarton
ko yaad kr muskuraaya krte h hm.

#alone

111 Love

"Na dhoondh mere kirdaar duniya ki bheed me, wafadaar to hamesha Tanha hi milte hai.."

Na dhoondh mere kirdaar duniya ki bheed me,
wafadaar to hamesha Tanha hi milte hai..

#alone

92 Love
2 Share

"जिन गलतियों को मैंने जीवन में किया... उन गलतियों को फिर कभी ना दोहराउ... ये बात मैं अकेले में सोचती हूं! जिन लोगों ने मुझे धोखा दिया, उन लोगों को फिर मैं कभी ना अपना समझू... ये बात में अकेले में सोचती हूं! क्या हुआ जो मैंने सब पर विश्वास किया... पर कुछ लोगों ने मेरा विश्वास तोड़ा... तो जरूरी तो नहीं कि मैं उन जैसी बन जाऊं... ये बात मैं अकेले में सोचती हूं! कभी-कभी लोगों के अचानक बदले व्यवहार के बारे में... पुरानी बातों को मैं अकेले मैं सोचती हूं! क्यों सब एक जैसे नहीं होते... क्यों किसी को सबको परेशान करने में अच्छा लगता है... ये बात मैं अकेले में सोचती हूं! माना इंसान गलतियों का पुतला है... पर कोई एक ही गलती को बार-बार करें तो क्या वो सही है... ये बात में अकेले में सोचती हूं! वैसे मुझे फर्क नहीं पड़ता लोगों की सोच से... मुझे फर्क पड़ता है बस मेरे अपनों की सोच से... मेरे अपने मेरे बारे में क्या सोचते हैं... ये बात मैं अकेले में सोचती हूं! मुझे फर्क नहीं पड़ता उन लोगों से जो मुझसे नफरत करते हैं... मैं व्यस्त हूं उन लोगों में जो मुझे पसंद करते हैं... उन लोगों की उम्मीदों को पूरा करने के लिए मैं क्या करूं... ये बात मैं अकेले में सोचती हूं! किसने जीवन में कितना साथ दिया मेरा... किसने मुझे बीच राह में धोखा दिया... ये बात मैं अकेले में सोचती हूं! कभी-कभी भविष्य के बारे में भी... मैं अकेले में सोचती हूं ।"

जिन गलतियों को मैंने जीवन में किया...
उन गलतियों को फिर कभी ना दोहराउ...
ये बात मैं अकेले में सोचती हूं!
जिन लोगों ने मुझे धोखा दिया,
उन लोगों को फिर मैं कभी ना अपना समझू...
ये बात में अकेले में सोचती हूं!
क्या हुआ जो मैंने सब पर विश्वास किया...
पर कुछ लोगों ने मेरा विश्वास तोड़ा...
तो जरूरी तो नहीं कि मैं उन जैसी बन जाऊं...
ये बात मैं अकेले में सोचती हूं!
कभी-कभी लोगों के अचानक बदले व्यवहार के बारे में...
पुरानी बातों को मैं अकेले मैं सोचती हूं!
क्यों सब एक जैसे नहीं होते...
क्यों किसी को सबको परेशान करने में अच्छा लगता है...
ये बात मैं अकेले में सोचती हूं!
माना इंसान गलतियों का पुतला है...
पर कोई एक ही गलती को बार-बार करें तो क्या वो सही है...
ये बात में अकेले में सोचती हूं!
वैसे मुझे फर्क नहीं पड़ता लोगों की सोच से...
मुझे फर्क पड़ता है बस मेरे अपनों की सोच से...
मेरे अपने मेरे बारे में क्या सोचते हैं...
 ये बात मैं अकेले में सोचती हूं!
मुझे फर्क नहीं पड़ता उन लोगों से जो मुझसे नफरत करते हैं...
मैं व्यस्त हूं उन लोगों में जो मुझे पसंद करते हैं...
उन लोगों की उम्मीदों को पूरा करने के लिए मैं क्या करूं...
ये बात मैं अकेले में सोचती हूं!
किसने जीवन में कितना साथ दिया मेरा...
किसने मुझे बीच राह में धोखा दिया...
ये बात मैं अकेले में सोचती हूं!
कभी-कभी भविष्य के बारे में भी...
मैं अकेले में सोचती हूं ।

प्यारे दोस्तों पोस्ट को पढ़कर लाइक,कमेंट करें🙏
#alone #QandA #Nojoto #nojotohindi #nojotoapp
जिन गलतियों को मैंने जीवन में किया...
उन गलतियों को फिर कभी ना दोहराउ...
ये बात मैं अकेले में सोचती हूं!
जिन लोगों ने मुझे धोखा दिया,
उन लोगों को फिर मैं कभी ना अपना समझू...
ये बात में अकेले में सोचती हूं!

89 Love
4 Share