Alone quotes
  • Popular
  • Latest
  • Video

""

"तकलीफे हमेशा दो तरफे रिश्ते में होती है, एकतरफा रिश्ता तो बिना किसी उम्मीदों के ही बेमिसाल होता है।"

तकलीफे हमेशा दो तरफे रिश्ते में होती है, 
एकतरफा रिश्ता तो बिना किसी उम्मीदों के ही बेमिसाल होता है।

Ektarfa rista😊

623 Love

""

"Akele rhne pr ap kya sochte h......? Akele rhne pr hm puraane yaado me jeete h jisme hmne bitaaya apna bchpn hota h quki dil ko sukoon unhi yaado se milta h unhi chhoti chhoti shrarton ko yaad kr muskuraaya krte h hm."

Akele rhne pr ap kya 
sochte h......?

Akele rhne pr hm puraane
yaado me jeete h
jisme hmne bitaaya apna
bchpn hota h
quki dil ko sukoon unhi yaado se
milta h 
unhi chhoti chhoti shrarton
ko yaad kr muskuraaya krte h hm.

#alone

124 Love

""

"बहुत शोर था जमाने में, इश्क़ नही नापे जाते पैमानों में, पर उसने हर बार नापा है मेरे इश्क़ को दौलत के पैमानों से खुद को बेच दिया मैने उसे पाने में, फिर एक दिन मैंने भी उसे नापा वफ़ा के पैमाने से टिक न सकी वो मेरे रंज ओ दर्द के डेरे में।"

बहुत शोर था जमाने में,
इश्क़ नही नापे जाते पैमानों में,
पर उसने हर बार
नापा है मेरे इश्क़ को
दौलत के पैमानों से
खुद को बेच दिया
मैने उसे पाने में,
फिर एक दिन मैंने भी उसे नापा
वफ़ा के पैमाने से
टिक न सकी वो मेरे
रंज ओ दर्द के डेरे में।

 

124 Love
31 Share

""

"कभी सोचता हूं कि कैसे वो हर बात छुपा लेती है, उदासी में भी अक्सर हर राज़ छुपा लेती है, उसने भी मोहब्बत दिल से ही की होगी, फिर न जाने क्यू वो अपने हर एहसास छुपा लेती है मजबूरियां है या कुछ और जो बिन बयाँ किए दिल में हर बात छुपा लेती है। #pk"

कभी सोचता हूं कि कैसे वो हर बात छुपा लेती है,
उदासी में भी अक्सर हर राज़ छुपा लेती है,
उसने भी मोहब्बत दिल से ही की होगी,
फिर न जाने क्यू वो अपने हर एहसास छुपा लेती है
मजबूरियां है या कुछ और 
जो बिन बयाँ किए दिल में हर बात छुपा लेती है।
                    #pk

#alone @AARIZ KHAN @MdTanveer @Mar Faisu @Anil Marvadi @Kamu Patel @Dhammadip salve 9545003372

111 Love
2 Share

""

"कभी अपनी तो कभी - किसी और की मुँह जबानी कहते हैं । कभी प्यार हुआ नहीं - फिर भी प्यार की कहानी कहते हैं । उनको मामूली शब्द लगते , मेरे ज़ज़्बात बिखरे जो , कागज पर । मगर हम तो हमेशा , ज़िन्दादिलों की ज़िन्दगानी कहते हैं ।"

कभी अपनी तो कभी -
किसी और की मुँह जबानी कहते हैं ।

कभी प्यार हुआ नहीं -
फिर भी प्यार की कहानी कहते हैं ।

उनको मामूली शब्द लगते ,
मेरे ज़ज़्बात बिखरे जो , कागज पर ।

मगर हम तो हमेशा ,
ज़िन्दादिलों की ज़िन्दगानी कहते हैं ।

 

106 Love
8 Share