Maa stories
  • Popular Stories
  • Latest Stories

"वो नाजुक सी बच्ची थी, जान थी, अनजान थी..... एक माँ की दुआ की, उस खुदा की पहचान थी, वो तो फूल थी, परी थी, एक बचपन की, मुस्कुराहट थी, पर क्या पता था उसे वो इस दुनिया मे, कुछ पल की मेहमान थी.. ना अभी इतनी समझ उसे हो पायी थी, की अपनों के द्वारा ही, वो कुचल दी जयेगी, उसके नाजुक से शरीर को जिन्दा लाश क्यू बना दिया, वो तो फूल थी ना यार......फिर उसे क्यू मिटा दिया तो फिर किस हैवानियत की नजर उसमे लगी थी, जो वो जान, इस कदर बेजान पड़ी थी....."

वो नाजुक सी बच्ची थी, 
जान थी, अनजान थी..... 
एक माँ  की दुआ की,  उस खुदा की पहचान थी, 
वो तो  फूल थी,  परी थी, 
एक बचपन की,  मुस्कुराहट  थी, 
पर क्या पता था उसे 
वो इस दुनिया मे,  कुछ पल की मेहमान थी.. 
ना अभी इतनी समझ  उसे हो पायी थी, 
की अपनों के द्वारा ही, वो कुचल दी जयेगी, 
उसके नाजुक से शरीर को जिन्दा लाश क्यू बना दिया, 
वो तो  फूल थी ना यार......फिर उसे क्यू मिटा दिया 
तो फिर किस हैवानियत की नजर उसमे लगी थी, 
जो वो जान,  इस कदर बेजान पड़ी थी.....

# नम आँखों से
मेरी कविता की कुछ पंक्तिया. जो मुझे और इस समाज को मौन और निशब्द करती h...

731 Love
5 Share

"माँँ हे तो दुनियाँ है जगत की जन्ननी हैं सारे रिस्ते नाते माँ से हे माँ नहीं तो कुछ भि नहीं म़गर मेरीं माँ मेरी खुशी हे खुशनसीब हुँ में जो मुझे मेरी इतनी प्यारी माँ मिली में अभागा हुँ मेरी माँ का जिसनें मुझे इश दुनियाँ में आने का अवसर दिया sanju panwar"

माँँ हे तो दुनियाँ है
 जगत की जन्ननी हैं 
 सारे रिस्ते नाते माँ से हे माँ नहीं तो कुछ भि नहीं

 म़गर मेरीं माँ मेरी खुशी हे 
 खुशनसीब हुँ में जो मुझे मेरी 
 इतनी प्यारी माँ मिली में  

 अभागा हुँ मेरी माँ का जिसनें 
मुझे इश दुनियाँ में आने का अवसर दिया
sanju panwar

 

377 Love
1 Share

"मै फैक देता था जिसे बेकार समझकर माँ उसे सभाल कर रख लेती थी ना जाने माँ को मेरी बोसीदा चीजो से इतनी मोहब्बत क्यु थी"

मै फैक देता था जिसे बेकार समझकर 
माँ उसे सभाल  कर रख लेती थी ना 
जाने माँ को मेरी बोसीदा चीजो से 
इतनी मोहब्बत क्यु थी

@Sujata Rani @Meera Rani @Farooque Ansari @Arun Kumar Yadav @Sapna Shahi @Shivangi Vyas

223 Love
3 Share

"उसे क्या गरज मंदिर जाने की , जो करता माँ के नाम का वंदन है ! एे माँ य़े तेरे पैरो तले जो धूल है , वो धूल नही मेरे माथे का चंदन है ! #NojotoQuote"

उसे क्या गरज मंदिर जाने की ,
    जो करता माँ के नाम का वंदन है !

एे माँ य़े तेरे पैरो तले जो धूल है ,
     वो धूल नही मेरे माथे का चंदन है ! #NojotoQuote

 

181 Love
13 Share

"रक्षक बन रक्षा करती है शिक्षक बन शिक्षा देती है अपनी एक मुस्कान से जीवन में खुशियां भर देती है इसी लिए दुनियां में सबसे प्यारी माँ होती है"

रक्षक बन रक्षा करती है 
शिक्षक बन शिक्षा देती है
अपनी एक मुस्कान से 
जीवन में खुशियां भर देती है 
इसी लिए दुनियां में सबसे 
प्यारी माँ होती है

 

144 Love
1 Share