Diwali shayari
  • Popular
  • Latest
  • Video

""

"Nojoto के मेरे सभी भाई, बहन और सभी दोस्तों- देशवासियों को दिपावली की हार्दिक शुभकामनाएँ।"

Nojoto के मेरे सभी
भाई,
बहन और सभी 
दोस्तों- देशवासियों को
दिपावली की हार्दिक
शुभकामनाएँ।

#शुभ दिपावली।

158 Love

""

"चारों तरफ जश्न होगा,हर तरफ खुशहाली होगी । जो तू आयेगा शहर मेरे,तो मेरी दीवाली होगी । azeem khan ।"

चारों तरफ जश्न होगा,हर तरफ खुशहाली होगी ।

जो तू आयेगा शहर मेरे,तो मेरी दीवाली होगी ।

 azeem khan

।

# मेरी दीवाली#

138 Love
1 Share

""

"तुम्हारी आहट से पहले तुम्हारे आने की दस्तक मेरे दिल को सुनाई देती है कैसे बयाँ करूँ दिल का रूह से रिश्ता जो हमसे ज्यादा तुम्हारी रूह की आरजू करती है"

तुम्हारी आहट से पहले तुम्हारे आने की दस्तक
मेरे दिल को सुनाई देती है
कैसे बयाँ करूँ दिल का रूह से रिश्ता
जो हमसे ज्यादा तुम्हारी
रूह की आरजू करती है

#nojotohindi #nojotoquotes #nojotoshayri #Nojotostories #aarju
#Rooh #Tumhari #byaan #pyaar

112 Love

""

"spread smiles😊 happy diwali to everyone💚"

spread smiles😊
happy diwali to everyone💚

💫✨💥👣🌷🌼💐☘️🌱🍃🌱🌃🌌

96 Love

""

"ख़ुशी - इस शहर की चकाचौंध में । मै खो सी गई हूं कहीं। अपनों से अलग अलग सी। हो सी गई हूं कहीं । इन शहर के मकानों की चार दीवारों में। मै कैद सी हूं कहीं । अंदर ही अंदर घुट सी रही हूं कहीं। आती तो हूं में चेहरे पर सबके लेकिन सेहमी और दवी - दवी सी। इस शहर की चकाचौंध में। मै खो सी गई हूं कहीं। क्यों मुझे ही खोजते घूमते हो सभी। जब में आती हूं तो खुल कर हस्ते भी नहीं हो सभी। में कहीं बाहर नहीं हूं । देखो चिंतन करके हूं मै तुम्हारे अंदर ही कहीं। इस शहर की चकाचौंध में। मै खो सी गई हूं कहीं। अपने अंदर न झांकते कभी। खोजते फिरते हो बहार कहीं। कहने को तो मै हूं खुशी। पर मेरा हाल देखो मुझे ही न पहचान पाते सभी। इस शहर की चकाचौंध में । मै खो सी गई हूं कहीं।"

ख़ुशी

- इस शहर की चकाचौंध में । मै खो सी गई हूं कहीं। 

अपनों से अलग अलग सी। हो सी गई हूं कहीं ।
इन शहर के मकानों की चार दीवारों में। मै कैद सी हूं कहीं ।
अंदर ही अंदर घुट सी रही हूं कहीं।
आती तो हूं में चेहरे पर सबके लेकिन सेहमी और दवी - दवी सी।

इस शहर की चकाचौंध में। मै खो सी गई हूं कहीं।

क्यों  मुझे ही खोजते घूमते हो सभी। जब में आती हूं तो खुल कर हस्ते भी नहीं हो सभी।
 में कहीं बाहर नहीं हूं । देखो चिंतन करके हूं मै तुम्हारे अंदर ही कहीं।

इस शहर की चकाचौंध में। मै खो सी गई हूं कहीं।

अपने अंदर न झांकते कभी। खोजते फिरते हो बहार कहीं। 
कहने को तो मै हूं खुशी। पर मेरा हाल देखो मुझे ही न पहचान  पाते सभी।

इस शहर की चकाचौंध में । मै खो सी गई हूं कहीं।

#Diwali

92 Love