Hope
  • Popular Stories
  • Latest Stories

"किसके साथ बिताऊँ यह सुबह की सूरज भी नाराज़ है,,, हाथ ठंडे हुए पड़े है आज बिगड़ा हवाओ का मिज़ाज़ है,, नजाने किसने बनाई है आज चाय में कड़वाहट का स्वाद है,, उठ तो गयी हूँ अब नींद से फिर आँखो में किसका ख्बाब है,, किसी से क्या बात करूं मेरा दिलबर हमजूबा चुपचाप है,, मैं उसमें गुम रहती हूँ वो किताबो में मुझे बस इस बात का संताप है,,"

किसके साथ बिताऊँ यह सुबह 
की सूरज भी नाराज़ है,,,

हाथ ठंडे हुए पड़े है आज
बिगड़ा हवाओ का मिज़ाज़ है,,

नजाने किसने बनाई है आज
चाय में कड़वाहट का स्वाद है,,

उठ तो गयी हूँ अब नींद से
फिर आँखो में किसका ख्बाब है,,

किसी से क्या बात करूं
मेरा दिलबर हमजूबा चुपचाप है,,

मैं उसमें गुम रहती हूँ वो किताबो में
मुझे बस इस बात का संताप है,,

#nojoto
#kavita @Raman dhot @aman6.1 @aamil Qureshi @smita ✍️ishu @Neha Tewari

278 Love
2 Share

"सुनो जान मोहब्बत करते हो मुझसे तो जताया भी करो, खामोशी को पढ़ना बड़ा मुश्किल होता जा रहा है। कोशिश हमेशा में साथ निभाने की करती हूँ कहीं निगाहें कुछ गलत न समझ बैठे, बस इसी बात से डरती हूँ ।"

सुनो जान मोहब्बत करते हो मुझसे 
तो जताया भी करो,
खामोशी को पढ़ना बड़ा मुश्किल होता जा रहा है।
कोशिश हमेशा में साथ निभाने की करती हूँ
कहीं निगाहें कुछ गलत न समझ बैठे, 
बस इसी बात से डरती हूँ ।

#Fear
#Love
#you
#everytime
#Jaan
#Life

195 Love

"मजबूरी ने कदमों में गरीबी की लकीर बना डाली,,मिले ऐसे कमीने यार मस्तियों में ज़िन्दगी अमीर बना डाली. मिला धोखा आँखों ही आँखों में प्यार से,,दिया होंसला यारों ने तो मंज़िल ही हीर बना डाली. भटकता रहा जिन रास्तों पे फटी तक़दीर का झोला लिए,,थामा हाथ यारों ने तो तक़दीर के ही दिल में मेरी तस्वीर बना डाली. आया था वक़्त मेरे शिकार पे दाम लगाने को,,गूंजी दहाड़ यारों की तो सालों ने कमीनेपन में वक़्त की ही बोली लगा डाली. घेर के मारने आये थे दुश्मन चौराहे पे,,यारों ने कर बंद मुठी दिया साथ तो अमन ने क़लम ही शमशीर बना डाली."

मजबूरी ने कदमों में गरीबी की लकीर बना डाली,,मिले ऐसे कमीने यार मस्तियों में ज़िन्दगी अमीर बना डाली.

मिला धोखा आँखों ही आँखों में प्यार से,,दिया होंसला यारों ने तो मंज़िल ही हीर बना डाली.

भटकता रहा जिन रास्तों पे फटी तक़दीर का झोला लिए,,थामा हाथ यारों ने तो तक़दीर के ही दिल में मेरी तस्वीर बना डाली.

आया था वक़्त मेरे शिकार पे दाम लगाने को,,गूंजी दहाड़ यारों की तो सालों ने कमीनेपन में वक़्त की ही बोली लगा डाली.

घेर के मारने आये थे दुश्मन चौराहे पे,,यारों ने कर बंद मुठी दिया साथ तो अमन ने क़लम ही शमशीर बना डाली.

#friendship#friends#december#nojotohindi#nojotonews#Poetry#hindishayari#punjabishayari#urdushayari#share

(कमीने यार)

(Tittle--वक़्त की बोली) written by me ✍️6.1aman💥💥

comment about poetry only✍️
@Nisha khan @kaur B 😊😊 @Pushpa D @suman# @varsha @Priya Gour

195 Love
2 Share

"मई जून सा मिज़ाज उसका मेरी ज़िंदगी दिसंबर सी कैसे बचे. हम तो ठहरे नादान से शायर उस पूरी किताब से कैसे बचें. बड़ी लंबी भीड़ है उसके चाहने वालों की,,इस फ़क़ीर की फरियाद कोई कैसे सुने. बड़ी आग है उसके गुस्से में,,मेरी छोटी सी गरीब झोंपड़ी जलने से कैसे बचे. डर लगता है कोई मार ना दे पत्थर उठा के,,ये काँच सा दिल है मेरा टूटने से कैसे बचे."

मई जून सा मिज़ाज उसका मेरी ज़िंदगी दिसंबर सी कैसे बचे.

हम तो ठहरे नादान से शायर उस पूरी किताब से कैसे बचें.

बड़ी लंबी भीड़ है उसके चाहने वालों की,,इस फ़क़ीर की फरियाद कोई कैसे सुने.

बड़ी आग है उसके गुस्से में,,मेरी छोटी सी गरीब झोंपड़ी जलने से कैसे बचे.

डर लगता है कोई मार ना दे पत्थर उठा के,,ये काँच सा दिल है मेरा टूटने से कैसे बचे.

#Life#december#nojotonews#nojotoapp#Poetry#nojotohindi#Quotes

ज़िन्दगी दिसंबर सी--Title (मई जून सा मिज़ाज उसका)✍️6.1aman💥💥

@Ruchika @kaur khushi @Nisha khan @kaur B 😊😊 @varsha @suman#

186 Love
5 Share

"डर के फ़ुरसत यहां, नहीं आती है अब हाय! बेचैनी करती है हल्ला बड़ा!!! #NojotoQuote"

डर के फ़ुरसत यहां, नहीं आती है अब
हाय! बेचैनी करती है हल्ला बड़ा!!!

 #NojotoQuote

#हल्ला #nojoto #nojotohindi

185 Love