Feelings
  • Popular Stories
  • Latest Stories

"ज़मीन पर कोई वजूद नही मेरा मैं परिंदों की तरह आसमान में उड़ने की फिराक में हूँ,, चाँद तारो में ढूंढ़ रही हूं शख्सियत अपनी मैं ज़िंदा लाश खाक में हूँ,,"

ज़मीन पर कोई वजूद नही मेरा
मैं परिंदों की तरह आसमान में उड़ने की फिराक में हूँ,,
चाँद तारो में ढूंढ़ रही हूं शख्सियत अपनी मैं ज़िंदा लाश खाक में हूँ,,

@manish kumar yadav @shiv virama @Aditya Kumar @Mohit Madhusudan# @aman6.1 aamil Qureshi

528 Love

" कितने राज़ ज़ेहन में छुपा कर रखती थी अब अल्फाज़ो में धीरे धीरे हो मैं फाश गयी हूँ, अपनी यादों में मेरा नाम लेता होगा वो की मैं अब बन उसके गले की खराश गयी हूँ, तारो की बरात में चांद ढूंढ़ता है वो मैं बन अब उसकी एक बेमतलब की तलाश गयी हूँ, कितनी शिद्दत से इंतज़ार करता है मेरा मैं उसकी ख्वाईशो का बन वो काश गयी हूँ, मेरे लिए कोई तुर्बत ले आओ कही से सांस है मगर सांस नही मैं बन वो लाश गयी हूँ, न ग़ालिब न गुलज़ार किसी किताब का मैं अपनी कहानियो का बन पाश गयी हूँ,, "

 कितने  राज़ ज़ेहन में छुपा कर रखती थी 
अब अल्फाज़ो में धीरे धीरे हो मैं फाश गयी हूँ,

अपनी यादों में मेरा नाम लेता होगा वो की
मैं अब बन उसके गले की खराश गयी हूँ,

तारो की बरात में चांद ढूंढ़ता है वो मैं बन 
अब उसकी एक बेमतलब की तलाश गयी हूँ,

कितनी शिद्दत से इंतज़ार करता है मेरा
मैं उसकी ख्वाईशो का बन वो काश गयी हूँ,

मेरे लिए कोई तुर्बत ले आओ कही से
सांस है मगर सांस नही मैं बन वो लाश गयी हूँ,

न ग़ालिब न गुलज़ार किसी किताब का
मैं अपनी कहानियो का बन पाश गयी हूँ,,

@aman6.1

371 Love
2 Share

"तारो से रोशन हो तो जाता है फलक फिर जुगनुओ का टिमटिमाना ठीक नही, ज़ुल्फो को कंगी से जब संवार ही लिया था फिर यार के हाथों बिखर जाना ठीक नही, कदम उठा ही लिया था जब चलने को फिर बीच रास्ते से पीछे मुड़ जाना ठीक नही, इश्क़ है तो उसे निभाना सीखो सनम यूँ किसी की सुंदरता देख डगमगाना ठीक नही, आँखो में नमी रख लेना इतनी क्या नाराज़गी दुश्मन का जनाज़ा देख यूँ मुस्कराना ठीक नही, महोब्बत के चिराग बुझ गए फिर अंधेरो के शहर में सुखी सी दीवाली मनाना ठीक नही,"

तारो  से  रोशन  हो  तो  जाता  है  फलक
फिर जुगनुओ का टिमटिमाना ठीक  नही,

ज़ुल्फो को कंगी से जब संवार ही लिया था
फिर यार के हाथों  बिखर जाना ठीक  नही,

कदम  उठा  ही  लिया  था  जब  चलने  को
फिर बीच रास्ते से पीछे मुड़ जाना ठीक नही,

इश्क़  है  तो उसे  निभाना  सीखो  सनम यूँ 
किसी की सुंदरता देख डगमगाना ठीक नही,

आँखो में नमी रख लेना इतनी क्या  नाराज़गी
दुश्मन का जनाज़ा देख यूँ मुस्कराना ठीक नही,

महोब्बत के चिराग  बुझ गए फिर  अंधेरो  के 
शहर में सुखी  सी दीवाली मनाना  ठीक नही,

@k jassal @Ashfaq Asifa @aman6.1 @Neetu_$harmA❤POete$$✒ @Ankit Kumar @Mukeem Khan

357 Love
2 Share

"kuch din se zindgi mujhe pahchanti nahi u dekhti h jese mujhe janti nahi Mohabbat pe hasta h to hasta rahe janha main bekufiyo ka bura manti nahi"

kuch din se zindgi mujhe pahchanti nahi
 u dekhti h jese mujhe janti nahi 
Mohabbat pe hasta h to hasta rahe janha
 main bekufiyo ka bura manti nahi

zindgi pahechanti nahi @Wo Akhiri Shabd...✍🏻 @Girdhari tiwari @Kayyum rja 7690811321 (YouTuber) @Rahul Tiwari #SUMAN#

197 Love

"Nind ke aagosh me chupke se sone chale Kuch armaan ... Seene me dafan ho Kar sone chale Kuch armaan ... Fir ek subah ki talash me.. Fir se zindgi ki talash me... So gyi fir se hokar sari duniya se anjaan ....."

Nind ke aagosh me chupke se 
sone chale Kuch armaan ...
Seene me dafan ho Kar
 sone chale Kuch armaan ...
Fir ek subah ki talash me..
Fir se zindgi ki talash me... 
So gyi fir se hokar sari duniya se anjaan .....

#LatenightThoughts #Anshulathakur #nojotoquotesforall #nojotowritersclub #nojotoenglish #nojotohindi

193 Love