Scared
  • Popular
  • Latest
  • Video

""

"जिंदगी तूने हंसने का मौक़ा ना दिया ना सही जी भर खुद के सामने रो सकूं ये मौका तो दे देती। ना सो सकी मैं हल्की नींद में ना सही, हमेशा के लिए गहरी नींद में सोने का मौका ही देती। ___Satyprabha💕 __my life ✍"

जिंदगी तूने हंसने का मौक़ा ना दिया ना सही
जी भर खुद के सामने रो सकूं  ये मौका तो दे देती।
ना सो सकी मैं हल्की नींद में ना सही,
हमेशा के लिए गहरी नींद में सोने का मौका ही देती।

___Satyprabha💕
    __my life ✍

#Life#Pain

188 Love

""

"क्यों कुछ पल का सकून नहीं देती ए जिंदगी थक गए हैं ये पैर थोड़ा सकून चाहते हैं। दुनिया की दुश्वारियां जीने नहीं देती हमें, वरना ए जिंदगी हम तुझे भरपूर चाहते हैं। यूं अपनों से तकरार हम मुनासिब नहीं समझते, वरना हम भी लड़ना बखूबी जानते हैं। __Satyprabha💕 __My Life✍"

क्यों कुछ पल का सकून नहीं देती ए जिंदगी
थक गए हैं ये पैर थोड़ा सकून चाहते हैं।
दुनिया की दुश्वारियां जीने नहीं देती हमें,
वरना ए जिंदगी हम तुझे भरपूर चाहते हैं।
यूं अपनों से तकरार हम  मुनासिब नहीं समझते,
वरना हम भी लड़ना बखूबी जानते हैं।

__Satyprabha💕
       __My Life✍

#Life#Pain#Motivation
#Shayari#thought
✍✍✍✍✍✍

165 Love
1 Share

""

"Preconceived notions is bigger loss for you than others"

Preconceived notions
is bigger loss for you
than others

 

163 Love

""

"Agr thi mohabbat mere sachii to kese mumkin h muje tere aansu na dikhe tera dard na mehsus hua wo bhi tab jab ki ye dard,aansu sab mere liye they.."

Agr thi mohabbat mere sachii
to kese mumkin h muje tere aansu na dikhe
tera dard na mehsus hua 

wo bhi tab jab ki ye dard,aansu sab mere liye they..

#mohabbat#humakhan("c")

159 Love

""

"सिर्फ अहसान जताने की ज़रूरत क्या थी, आके जाना था तो आने की ज़रूरत क्या थी, हाल पूछा भी नही, हाल बताया भी नही, ऐसे आना था तो आने की ज़रूरत क्या थी। आंधिया अति है आएंगी यकीन था तुझ को, फिर भला दिये जलाने की ज़रूरत क्या थी, तुझ को गैर के दामन से लिपट जाना था, मुझ से नज़रो को मिलने की ज़रूरत क्या थी।।"

सिर्फ अहसान जताने की ज़रूरत क्या थी,
आके जाना था तो आने की ज़रूरत क्या थी,
हाल पूछा भी नही, हाल बताया भी नही,
ऐसे आना था तो आने की ज़रूरत क्या थी।

आंधिया अति है आएंगी यकीन था तुझ को,
फिर भला दिये जलाने की ज़रूरत क्या थी,
तुझ को गैर के दामन से लिपट जाना था,
मुझ से नज़रो को मिलने की ज़रूरत क्या थी।।

heard somewhere and had got stuck in mind...
#nojotohindi
#brokenheart
#Love
#sadpoetry

145 Love