Flower
  • Popular
  • Latest
  • Video

""

"मैं तो रमज़ इश्क़ की लिखने बैठी थी, मुझे क्या पता था की वो नज़्म बन जाएगी,,,"

मैं तो रमज़ इश्क़ की लिखने बैठी थी,
मुझे क्या पता था की वो नज़्म बन जाएगी,,,

@aman6.1

463 Love

""

"आज तुमने वो सच बयां किया जिससे आज तक अनजान थे हम.... तुमने मेरे हर दर्द को सह लिया... जिससे आज तक अनजान थे हम.... तुमने आज भी मेरे ज़िस्म की खुशबू ... से मुझे पहचान लिया.... जिससे अनजान थे हम.... आज ज़िन्दगी में सच के पन्ने यूँ पलटे जिसने हकीकत से रूबरू कराया जिससे अनजान थे हम...."

आज तुमने वो सच बयां किया जिससे
आज तक अनजान थे हम....
 तुमने मेरे हर दर्द को सह लिया...
जिससे आज तक अनजान थे हम....
तुमने आज भी मेरे ज़िस्म की खुशबू ...
से मुझे पहचान लिया....
जिससे अनजान थे हम.... 
आज ज़िन्दगी में सच के पन्ने यूँ पलटे
जिसने हकीकत से रूबरू कराया
जिससे अनजान थे हम....

#nojotohindi #nojotolines #nojotoquotes #nojotopoem #sushmathakur

264 Love

""

"ए सनम माफ़ करना हमें आज एक अजीब सी खता हो गई, खता भी हमारी थी और हम ही खफा हो गए। मेरा दिल भी नाराज़ है हमसे आपको तकलीफ दी और अपने आपकी ही सफाई देकर वफादार हो गए। आज खुद से भी नज़रें नहीं मिल रही ना जानें हम कैसे इतने बड़े गुनेहगार हो गए। __Satyprabha💕 __My Life ✍"

ए सनम माफ़ करना हमें

आज एक अजीब सी खता 

हो गई, खता भी हमारी

थी और हम ही खफा हो गए।

मेरा दिल भी नाराज़ है हमसे

आपको तकलीफ दी और

अपने आपकी ही सफाई देकर

वफादार हो गए।

आज खुद से भी नज़रें नहीं मिल रही

ना जानें हम कैसे इतने बड़े गुनेहगार हो गए।
__Satyprabha💕
         __My Life ✍

#Satyprakash Upadhyay
#Love#Life#Pain#poem
I M Sorry 😢😢😢

213 Love
2 Share

""

"महोब्बत के मयखाने में,,गम के तैखाने बहुत है. सुंदर शकलों में खोये लोग,,इसके दर्द से अनजाने बहुत है।"

महोब्बत के मयखाने में,,गम के तैखाने बहुत है.

सुंदर शकलों में खोये लोग,,इसके दर्द से अनजाने बहुत है।

#अनजाने
#loveshayari#hindishayari#urdushayari#punjabishayari
@pooja devnath @pooja @Gori @Priyanshi Panwar @Priyanka Ayesha Panwar

177 Love
2 Share

""

"किस्मत का दस्तूर था मैं कांटो पे चलने को मजबूर था,,मोहब्बत तो की थी मैंने,,वक़्त को दर्द मंजूर था. बेवफ़ाई की तड़प थी ना मेरा कोई कसूर था,रातें ग़मगीन थी क्योंकि किस्मत का दस्तूर था।"

किस्मत का दस्तूर था मैं कांटो पे चलने को मजबूर था,,मोहब्बत तो की थी मैंने,,वक़्त को दर्द मंजूर था.

बेवफ़ाई की तड़प थी ना मेरा कोई कसूर था,रातें ग़मगीन थी क्योंकि किस्मत का दस्तूर था।

#दस्तूर

#loveshayari#urdushayari#punjabishayari
@Ruchika @Nisha khan @pooja @pooja chauhan @varsha swaroop @suman#

173 Love
2 Share