Nojoto: Largest Storytelling Platform

Best meridiary Shayari, Status, Quotes, Stories

Find the Best meridiary Shayari, Status, Quotes from top creators only on Nojoto App. Also find trending photos & videos about meri love story in hindi, meri diary se love shayari, meri diary love shayari, meri diary se love images, teri meri love stories,

  • 136 Followers
  • 558 Stories

Chandan Bharati

Deepak Kumar 'Deep'

कुछ  लोगों  को  इज्ज़त रास  नहीं  आती
ऐसे लोग रूपक होते है दो  मुँह वाले साँप के!
क्या कहें तारीफ़ में इनकी, ऐसे  लोग  सिर्फ़ जुते
ढूँढते  हैं अपने सर  के नाप के!!
✍️

©Deepak Kumar 'Deep' #meridiary

डॉ राघवेन्द्र

✍️आज की डायरी✍️

              ✍️बेवजह...✍️

बेवजह बात को हमें अब बढ़ाना नहीं है  । 
हालातों में ख़ुद को अब उलझाना नहीं है  ।। 

सही सब हैं, समझने का नज़रिया गलत है  । 
बेवजह किसी को अब समझाना नहीं है  ।। 

जिंदगी चार दिन की है मुस्कुरा के जी लें  । 
ज्यादा वक़्त इस जहाँ में अब बिताना नहीं है  ।। 

जब किस्मत को ही मानना है दूरियों की वजह  । 
बेवजह हाथ किसी को अब दिखाना नहीं है  ।। 

बहुत अच्छा है तेरी महफ़िल में रुसवा हुए हम  । 
बेवजह किसी को अपना अब बनाना नहीं है  ।। 

        ✍️ नीरज ✍️

©डॉ राघवेन्द्र #meridiary

डॉ राघवेन्द्र

✍️आज की डायरी✍️
                    ✍️पलकें भिगोना ठीक नहीं..✍️

कुछ कहो तुम भी यूँ गुमसुम सा रहना ठीक नहीं ।
हर बातों को खामोश निगाहों से कहना ठीक नहीं ।।

मजबूरियों के साथ रिश्तों में ना दूरियाँ आ जाये ।
छोटी-छोटी बातों पर यूँ एतबार खोना ठीक नहीं ।।

एक परिणाम ही जिंदगी की तस्वीर बदल देता है ।
इतनी जल्दी खुद पर से विश्वास खोना ठीक नहीं ।।

जिंदादिली तब है जब हरपल मुस्कुराते रहो तुम ।
हालात कैसे भी रहें यूँ पलकें भिगोना ठीक नहीं ।।

जीवन जीने की कला इस जहाँ से सीखो "नीरज"।
अकेलेपन में इस ज़िन्दगी को जीना ठीक नहीं ।।

                         ✍️नीरज✍️

©डॉ राघवेन्द्र #meridiary

Amit Bharti Shrivastav

swati soni Satyaprem Upadhyay Ritu Tyagi Sheetal Anshu writer Sana naaz. #no #Am #nojohindi #nojato #nojolove #AmitBhartishrivtastav #vijayashreya #khubsurat #thought #meridiary

read more

डॉ राघवेन्द्र

✍️आज की डायरी✍️
                              ✍️सीख लिया मैंने...✍️

जबसे ज़िन्दगी में मुस्कुराना सीख लिया मैंने ।
समझना और समझाना भी सीख लिया मैंने ।।

अब खौफ़ नहीं कौन क्या सोचता है मेरे लिए ।
जबसे ख़ुद को आजमाना सीख लिया मैंने ।।

इस जहाँ में मिज़ाज बदलता देख लोगों का ।
महफ़िलों में आना -जाना सीख लिया मैंने ।।

आज का दौर बस फ़रेबियों से भरा हुआ है ।
अब अपने से दिल लगाना सीख लिया मैंने ।।

हर जख़्म को भरने का हुनर आ गया मुझमें ।
जबसे ख़ुद से मरहम लगाना सीख लिया मैंने ।।

जान गया हूँ हर शख़्स के दो चेहरे हैं "नीरज"।
शक़्लों को जबसे पहचानना सीख लिया मैंने ।।

                ✍️नीरज✍️

©डॉ राघवेन्द्र #meridiary

Vats_Ki_Vani

The Confusion Diary


मेरे ख्याल से प्यार वही है, जो कभी न मिला हो.!
मिल जाने के बाद तो हर चीज आलू-टमाटर के भाव लगते हैं.!
मैं ये नहीं कहता कि इश्क़ गलत हैं,
मैं ये भी नहीं कहता कि इश्क़ सही है,
            जब इश्क़ का "स", प्यार का "प" और मोहब्बत का "ब" अधूरा है,
तो फिर इश्क़ पूरा कैसे हो सकता है.!
            मैं ये नहीं कहता कि मैंने इश्क़ नहीं किया,
मैं ये भी नहीं कहता कि मैंने इश्क़ किया,
जब जिस्म की भूख हो तो इश्क़ कैसे पूरा हो सकता है।

©Vats_Ki_Vani #meridiary

डॉ राघवेन्द्र श्रीवास्तव

✍️आज की डायरी✍️

        ✍️ समझाई नहीं जाती....✍️

गुज़ार देता हूँ बड़े इत्मिनान से तमाम सफ़र को मैं ।
बस सफ़र-ए-जिन्दगी ही है जो बिताई नहीं  जाती ।

बात तकलीफ़ की नहीं,जो जिन्दगी से मिला है मुझे ।
अपनों के बीच दर्द-ए-ग़म बस दिखाई नहीँ  जाती ।।

कौन कम्बख़्त चाहता है हर समय उदास रहने को ।
बस झूठी मुस्कराहट अब चेहरे पर लायी नहीं जाती ।।

साथ छूटता गया उनका जो ख्वाब अपने से लगे थे ।
अब फ़िर वही सपनों की नगरी सजायी नहीं जाती ।।

समझना मुश्क़िल है सुख-दुःख का फ़लसफ़ा क्या है ।
समझ जाओ भी मग़र औरों को समझाई नहीं जाती ।।

                                   ✍️नीरज✍️

©डॉ राघवेन्द्र श्रीवास्तव #meridiary

Chandan Bharati

#laफ्ज 

Sunane Ki Kala,
Likhne Ko Prerit Karti Hai...

सुनने की कला,
लिखने को प्रेरित करती है...

©Chandan Bharati #Kala
#chandanbharatiwrites 
#MeriDiary

डॉ राघवेन्द्र

✍️आज की डायरी✍️
 
               ✍️परवाना बनता है✍️

मन की कहने से बस अफ़साना बनता है ।
 कहानी कहने से ये जग दीवाना बनता है ।

लफ़्ज़ जब निकले दिल की आवाज़ से ।
महफ़िल में वही शब्द तराना बनता है ।।

भावुकता को यहां पागलपन समझते हैं ।
फरेबों का ही ये जहां मस्ताना बनता है ।।

हक़ीक़त कहने से मजाक बनाते हैं लोग ।
झूठ को कहने से नया फ़साना बनता है ।।

इश्क़ हो या ख़्वाब ख़ुद को जलाना पड़ता है ।
तब जाकर कोई शख्स परवाना बनता है ।।

        ✍️नीरज✍️

©डॉ राघवेन्द्र #meridiary
loader
Home
Explore
Events
Notification
Profile