अपनी कल्पना के आकाश में पक्षी सम स्वछंद उड़ने का मन करता है और ख्य...

अपनी कल्पना के आकाश में पक्षी सम स्वछंद उड़ने का मन करता है
और ख्यालात के तारों को कविता की माला में पिरोने का मन करता है 
अपने मन के चांद को अपनी भावनाओं से सराबोर करने का मन करता है 
लेकिन हकीकत हमेशा हमें असलियत के धरातल पर लाकर पटक देती है ।।
-rimjhim #gif

अपनी कल्पना के आकाश में पक्षी सम स्वछंद उड़ने का मन करता है और ख्यालात के तारों को कविता की माला में पिरोने का मन करता है अपने मन के चांद को अपनी भावनाओं से सराबोर करने का मन करता है लेकिन हकीकत हमेशा हमें असलियत के धरातल पर लाकर पटक देती है ।। -rimjhim #gif

कल्पना #nojotohindi#कविता#poetry#Kalpana

People who shared love close

More like this