"मंजिल सैर करने में चला था ,दिल..." Poetry By Kunwar Khushwant | Nojoto

मंजिल सैर करने में चला था ,दिल में कुछ अरमान थे एक तरफ नदी का किनारा ,एक तरफ श्मशान थी । शमशान पे चलते चलते ..,हड्डी पे पाव पड़े......!! हड्डी का यह बयान था है मुसाफिर सम्भल के चल । हम भी कभी इंसान थे... हम भी कभी इंसान थे।। मंजिल मुसाफिर की. Follow Kunwar Khushwant . Download Nojoto App to get real time updates about Kunwar Khushwant & be part of World's Largest Creative Community to share Writing, Poetry, Quotes, Art, Painting, Music, Singing, and Photography; A Creative expression platform. Poetry By Kunwar Khushwant | Nojoto Poetry on Poetry. Poetry Poetry

Story

3 months ago

मंजिल मुसाफिर की

मंजिल
सैर करने में चला था ,दिल में कुछ अरमान थे
एक तरफ नदी का किनारा ,एक तरफ श्मशान थी ।
शमशान पे चलते चलते ..,हड्डी पे पाव पड़े......!!
हड्डी का यह बयान था है मुसाफिर सम्भल के चल ।
हम भी कभी इंसान थे...
हम भी कभी इंसान थे।।
TAGS

People who shared love close

Kunwar Khushwant

Written By : Kunwar Khushwant

BSW student

×
add
close Create Story Next

Tag Friends

camera_alt Add Photo
person_pin Mention
arrow_back Select Collection SHARE
language
 
Create New Collection

Upload Your Video close