दर्द सा होता है कभी कभी मैंने जो अल्फ़ाज़ टूटे दिल

"दर्द सा होता है कभी कभी मैंने जो अल्फ़ाज़ टूटे दिल के टुकड़ो से जोड़े है लोग इन्हें शायरी क्यों कह देते है,,, कोई नही समझता आलम ए दिल मेरे आँसुओ की बरसात को नजाने क्यों यह लोग बदला कोई मौसम कह देते है,,"

दर्द सा होता है कभी कभी मैंने जो 
अल्फ़ाज़ टूटे दिल के टुकड़ो से जोड़े है
लोग इन्हें शायरी क्यों कह देते है,,,

कोई नही समझता आलम ए दिल
मेरे आँसुओ की बरसात को नजाने क्यों
यह लोग बदला कोई मौसम कह देते है,,

दर्द सा होता है कभी कभी मैंने जो अल्फ़ाज़ टूटे दिल के टुकड़ो से जोड़े है लोग इन्हें शायरी क्यों कह देते है,,, कोई नही समझता आलम ए दिल मेरे आँसुओ की बरसात को नजाने क्यों यह लोग बदला कोई मौसम कह देते है,,

@Deepak Chaudhary... @aman6.1 @Neetu_$harmA❤POete$$✒ @Suman Banshiwal @smita Singh( ishu) @indira

People who shared love close

More like this