ललकार कह दो जाकर देश के सारे जय चंदो गद्दारों से

"ललकार कह दो जाकर देश के सारे जय चंदो गद्दारों से नहीं बंटा है नहीं बंटे गा देश ये झूठे नारों पे आओ याद रखें ना भूलें ,लहूलुहांन उस घरती को वीर जवानों का बलिदां उस पुलवामा के शानों पे आतंकवाद से डर कर रहना नहीं कोई मजबूरी है नहीं रुकेंगे नहीं सहेंगे खेल जायेंगे प्रा णों पर अभिनंदन का अर्थ शौर्य है परिभाषित नव भारत मैं जिसने साहस को तोला है दुश्मन की तलवारों पे अब न सुनेंगे बात तुम्हारी चैनो अमन के रखवाले नाच रहे तुम. शत्रु देश के नीच निक्रिष्ट इशारों पे वीर जवानों के बलिदान को तुम क्या खाक समझ पाओगे बेच आये हो देशभक्ति तुम सत्ता के बाज़ारों पे ये भी नहीं समझ पाये तुम पिछले 70 सालों में भ्रष्टाचार तुम्हारा लाया ,देश को इन अंगारों पे राफेल मांग रही है सेना उस पर राजनीति करते हो शऱम करो तुम सोच पे अपनी , अपने तुच्छ विचारों पे कह दो जाकर देश के सारे जय चंदो गद्दारों से नहीं बंटा है नहीं बंटे गा देश ये झूठे नारों पे...... #NojotoQuote"

ललकार
कह दो जाकर देश के  सारे जय चंदो  गद्दारों से
नहीं बंटा है नहीं बंटे गा  देश ये  झूठे नारों पे
आओ याद रखें ना भूलें ,लहूलुहांन उस घरती को
वीर जवानों का बलिदां उस पुलवामा के शानों  पे
आतंकवाद से डर कर रहना नहीं कोई मजबूरी है
नहीं रुकेंगे नहीं सहेंगे खेल जायेंगे प्रा णों  पर
अभिनंदन का अर्थ शौर्य है परिभाषित नव भारत मैं
जिसने साहस को तोला है दुश्मन की  तलवारों पे
अब न सुनेंगे बात तुम्हारी चैनो अमन के  रखवाले
नाच रहे तुम.    शत्रु  देश  के  नीच निक्रिष्ट इशारों पे
वीर जवानों के बलिदान को तुम क्या खाक समझ पाओगे 
बेच आये हो  देशभक्ति  तुम सत्ता के बाज़ारों पे
ये भी नहीं समझ पाये तुम पिछले 70 सालों में
 भ्रष्टाचार तुम्हारा  लाया  ,देश को इन अंगारों पे
राफेल मांग रही है सेना उस पर राजनीति करते हो
शऱम  करो  तुम सोच पे  अपनी , अपने तुच्छ विचारों पे
कह दो जाकर देश के  सारे जय चंदो  गद्दारों से
नहीं बंटा है नहीं बंटे गा  देश ये  झूठे नारों पे...... #NojotoQuote

ललकार कह दो जाकर देश के सारे जय चंदो गद्दारों से नहीं बंटा है नहीं बंटे गा देश ये झूठे नारों पे आओ याद रखें ना भूलें ,लहूलुहांन उस घरती को वीर जवानों का बलिदां उस पुलवामा के शानों पे आतंकवाद से डर कर रहना नहीं कोई मजबूरी है नहीं रुकेंगे नहीं सहेंगे खेल जायेंगे प्रा णों पर अभिनंदन का अर्थ शौर्य है परिभाषित नव भारत मैं जिसने साहस को तोला है दुश्मन की तलवारों पे अब न सुनेंगे बात तुम्हारी चैनो अमन के रखवाले नाच रहे तुम. शत्रु देश के नीच निक्रिष्ट इशारों पे वीर जवानों के बलिदान को तुम क्या खाक समझ पाओगे बेच आये हो देशभक्ति तुम सत्ता के बाज़ारों पे ये भी नहीं समझ पाये तुम पिछले 70 सालों में भ्रष्टाचार तुम्हारा लाया ,देश को इन अंगारों पे राफेल मांग रही है सेना उस पर राजनीति करते हो शऱम करो तुम सोच पे अपनी , अपने तुच्छ विचारों पे कह दो जाकर देश के सारे जय चंदो गद्दारों से नहीं बंटा है नहीं बंटे गा देश ये झूठे नारों पे...... #NojotoQuote

ललकार

People who shared love close

More like this