Rose Ratan

Rose Ratan

आजकल उसकी यादों में शायर होता जा रहा हूं। दिमाग की सुनता हूं कम और दिल का कायल होता जा रहा हूं।

  • Popular Stories
  • Latest Stories

#TeriMeriKahaani #Love #nojotohindi

1265 Love
8550 Views
62 Share

"आजकल उसकी यादों में शायर होता जा रहा हूं। दिमाग की सुनता हूं कम और दिल का कायल होता जा रहा हूं।"

आजकल उसकी यादों में शायर होता जा रहा हूं।
दिमाग की सुनता हूं कम और दिल का कायल होता जा रहा हूं।

 

469 Love
7 Share

"तलब है मुझे तेरे इश्क के चासनी में डूब जाने की। तलब है मुझे तेरे गमों को रफ्ता रफ्ता अपना बनाने की‌। तलब है मुझे मेरे आखिरी सांस के आखिरी पल में भी तुझे पाने की।"

तलब है मुझे तेरे इश्क के चासनी में डूब जाने की।
तलब है मुझे तेरे गमों को रफ्ता रफ्ता अपना बनाने की‌।
तलब है मुझे मेरे आखिरी सांस के आखिरी पल में भी तुझे पाने की।

#nojotokahalgaon #nojotodumka

367 Love
4 Share

"ए पैसे लूटने वाले। साथ में गम भी लूट ले जाते। #NojotoQuote"

ए पैसे लूटने वाले।
साथ में गम भी लूट ले जाते। #NojotoQuote

 

363 Love
1 Share

"#OpenPoetry कलयुग के इस भाग दौड़ में। चल करते हैं त्रेता वाले कुछ काम। मां तुम बन जाओ कौशल्या माई। मैं बन जाता हूं श्री राम। पास यहीं पर लगी है मंडी, मां ला दो ना तीर - कमान। वन में जाकर मैं भी मारूंगा। राक्षस खर दूषण , ताड़का समान। बनकर तुम कैकई माता । दे दो वन जाने का फरमान। रखकर परमपिता का मान। वन को जाऊंगा मैं , श्रीराम‌ समान। मां लेकिन वो त्रेता चिंगारी थी। ये कलयुग है , आग समाज। अब हैं , हर इंसान में एक रावण। कैसे करूं मैं रावण की पहचान। मां तुम बन जाओ कौशल्या माई। मैं बन जाता हूं , श्री राम ।"

#OpenPoetry कलयुग    के    इस    भाग    दौड़    में।
चल  करते  हैं  त्रेता  वाले  कुछ  काम।

मां  तुम  बन  जाओ  कौशल्या  माई।
मैं      बन     जाता     हूं     श्री   राम।

पास     यहीं    पर     लगी    है   मंडी,
मां    ला     दो    ना    तीर  -  कमान।

वन    में    जाकर    मैं   भी    मारूंगा।
राक्षस   खर   दूषण , ताड़का   समान।

बनकर       तुम        कैकई        माता ।
दे    दो    वन    जाने    का     फरमान।

रखकर       परमपिता       का      मान।
वन   को  जाऊंगा  मैं  , श्रीराम‌  समान।

मां   लेकिन   वो   त्रेता    चिंगारी   थी।
ये     कलयुग     है   ,  आग    समाज।

अब   हैं  , हर   इंसान   में  एक  रावण।
कैसे   करूं   मैं   रावण  की   पहचान।

मां  तुम  बन  जाओ   कौशल्या   माई।
मैं      बन      जाता     हूं  , श्री   राम ।

#OpenPoetry

290 Love
11 Share