deepshi bhadauria

deepshi bhadauria Lives in Agra, Uttar Pradesh, India

pen name 'deep' writer /poet /artist शिकवों,शिकायतों के परे,फिर एक गुजारिश लायी हूँ, कोशिश है गुल्ज़ारों की बस एक दीप जलाने आयी हूँ , follow me on Instagram - @shabaab_o_shayari

  • Popular Stories
  • Latest Stories

"कितना अजीब है ना जानते हुए भी कि कोई , किसी के बिना नहीं मरता, बार बार ये सुनना चाहते हैं कि मैं तुम्हारे बिना नहीं जी सकता"

कितना अजीब है ना 
जानते हुए भी कि कोई ,
किसी के बिना नहीं मरता,
बार बार ये सुनना चाहते हैं कि
 मैं तुम्हारे बिना नहीं जी सकता

#2liners #nojoto #Love #Reality

268 Love
1 Share

"दांस्तान को दांस्तान ही कहने दो इसे आम न करो, रहने दो ज़ज़्बातों को दिल मे उन्हें यूँ सरेआम न करो"

दांस्तान को दांस्तान ही कहने दो इसे आम न करो,
रहने दो ज़ज़्बातों को दिल मे उन्हें यूँ सरेआम न करो

#pasandhai #Vedio #Emotion #Challange

263 Love
2217 Views
5 Share

"तुम सुनो तो बताऊं जज़्बात क्या थे, उन बेरुखी में काफ़िर हालात क्या थे, तुम सुनो तो बताऊं जज्बात क्या थे,"

तुम सुनो तो बताऊं जज़्बात क्या थे, उन बेरुखी में काफ़िर हालात क्या थे,
तुम सुनो तो बताऊं जज्बात क्या थे,

#2liners #december #Challange

244 Love
1 Share

#Tumhi #nojotochallange #december

217 Love
2226 Views
2 Share

"यारों इस जमाने के गम हमे भी रुलाते है, पर वादा किया था तुमसे इसलिए मुस्कुराते है कहा था इन आँखों की नमी हमे कमजोर बनाती है मेरे भी आंसुओ को बहने के मजबूर बनाती है आज भी वो बीते लम्हे उन्ही की याद दिलाते है, पर वादा किया था तुमसे इसलिए मुस्कुराते है,"

यारों इस जमाने के गम हमे भी रुलाते है,
पर वादा किया था तुमसे इसलिए मुस्कुराते है

कहा था इन आँखों की नमी हमे कमजोर बनाती है 
मेरे भी आंसुओ को बहने के मजबूर बनाती है
आज भी वो बीते लम्हे उन्ही की याद दिलाते है,
पर वादा किया था तुमसे इसलिए मुस्कुराते है,

#december #KameeneYaar #day8 #Friendship #nojotochallange

209 Love
1 Share