Aadarsha singh

Aadarsha singh Lives in Delhi, Delhi, India

Aspiring Writer, Loves Reading, Travel. Follow me on Nojoto

  • Popular Stories
  • Latest Stories

"किसने कहा रिश्ते मुफ्त मिलते हैं, मुफ्त तो हवा भी नहीं मिलती ! एक साँस भी तब आती है, जब एक साँस छोड़ी जाती है….!"

किसने कहा रिश्ते मुफ्त मिलते हैं, 
मुफ्त तो हवा भी नहीं मिलती !
एक साँस भी तब आती है, 
जब एक साँस छोड़ी जाती है….!

किसने कहा रिश्ते मुफ्त मिलते हैं, मुफ्त तो हवा भी नहीं मिलती !
एक साँस भी तब आती है, जब एक साँस छोड़ी जाती है….!

560 Love
8 Share

"और चल फिर ले ज़रा तन तन के ऐ बाँके जवाँ चार दिन के बाद फिर टेढ़ी कमर हो जाएगी"

और चल फिर ले ज़रा तन तन के ऐ बाँके जवाँ
चार दिन के बाद फिर टेढ़ी कमर हो जाएगी

 

429 Love
1 Share

"आज फिर माँ मुझे मारेगी बहुत रोने पर आज फिर गाँव में आया है खिलौने वाला"

आज फिर माँ मुझे मारेगी बहुत रोने पर
आज फिर गाँव में आया है खिलौने वाला

 

406 Love
1 Share

"वो फूल सर चढ़ा जो चमन से निकल गया इज़्ज़त उसे मिली जो वतन से निकल गया"

वो फूल सर चढ़ा जो चमन से निकल गया
इज़्ज़त उसे मिली जो वतन से निकल गया

वो फूल सर चढ़ा जो चमन से निकल गया
इज़्ज़त उसे मिली जो वतन से निकल गया

393 Love
2 Share

"कुछ लोग पिघल कर मोम की तरह रिश्ते निभाते हैं, और कुछ लोग आग बन कर उन्हें जलाते ही जाते हैं।"

कुछ लोग पिघल कर मोम की तरह रिश्ते निभाते हैं,
और कुछ लोग आग बन कर उन्हें जलाते ही जाते हैं।

कुछ लोग पिघल कर मोम की तरह रिश्ते निभाते हैं,
और कुछ लोग आग बन कर उन्हें जलाते ही जाते हैं।

347 Love
1 Share