Neha Bhargava (karishma)

Neha Bhargava (karishma)

Poetess at "The Lyricist Planet"

https://youtu.be/EVPzhmL2VU0

  • Latest
  • Popular
  • Video

दिल मेरा आईना है और आंसू मेरे जज्बात मुस्कुराहट और गुस्सा जाहिर करता है कोई अ नकहा वाकयात न रूबरू होना मुझसे,न मशरूफ होना मुझमें ..........मासूमियत रखकर आ सको, तो आना... माफ करने जैसा कुछ नहीं अब मेरे पास ©Neha Bhargava (karishma)

#Talk  दिल मेरा आईना है
और आंसू मेरे जज्बात
मुस्कुराहट और गुस्सा जाहिर करता है कोई अ नकहा वाकयात
न रूबरू होना मुझसे,न मशरूफ होना मुझमें
..........मासूमियत रखकर आ सको, तो आना...
माफ करने जैसा कुछ नहीं अब मेरे पास

©Neha Bhargava (karishma)

#Talk to heart

11 Love

एक नजर देखा उन्हें , बस देखते रह गए उनका एक शब्द सुनने को बिन बात बोलते रह गए उड़ता रहा वक्त का परिंदा और हम उन्हीं में मशरूफ रह गए ©Neha Bhargava (karishma)

#a  एक नजर देखा उन्हें , बस देखते रह गए
उनका एक शब्द सुनने को बिन बात बोलते रह गए
उड़ता रहा वक्त का परिंदा
और हम उन्हीं में मशरूफ रह गए

©Neha Bhargava (karishma)

#a moment feel

12 Love

मेरे गुस्से पर पलटकर गुस्सा दिखाया है नाराज होने पर, बराबर तब्दीलो को गिनाया है न आज समझते हो और आगे भी क्या समझ पाओगे मेरी नाराजगी,मेरी जरूरतों पर कभी गोर ही नही फरमाया है ©Neha Bhargava (karishma)

#बातें  मेरे गुस्से पर पलटकर गुस्सा दिखाया है
नाराज होने पर, बराबर तब्दीलो को गिनाया है
न आज समझते हो और आगे  भी क्या समझ पाओगे
मेरी नाराजगी,मेरी जरूरतों पर कभी गोर ही नही  फरमाया है

©Neha Bhargava (karishma)

दूरी ...जो चाहता है तो उसे बढ़ाने दो बहाने पर बहाने अगर बनाता है..बनाने दो फिजूल बातो पर तुम अपना ध्यान न जाने दो अकेले ही सही,खुशियों के रंग जीवन में आने दो दिल में लगी आग को सफलता तक जाने दो बेबुनियाद तब्दीलो से खुद को आहत मत होने दो टूटकर ही सही ..खुद को मजबूत हो जाने दो समय गलत हो बेशक ...पर कोई परेशानी सदा की नहीं होती पहेलियों के भी हल होते है बस उन्हें सुलझाने की जरूरत होती है ©Neha Bhargava (karishma)

#himmat  दूरी ...जो चाहता है
तो उसे बढ़ाने दो
बहाने पर बहाने अगर बनाता है..बनाने दो
फिजूल बातो पर तुम अपना ध्यान न जाने दो
अकेले ही सही,खुशियों के रंग जीवन में आने दो
दिल में लगी आग को सफलता तक जाने दो
बेबुनियाद तब्दीलो से खुद को आहत मत होने दो
टूटकर ही सही ..खुद को मजबूत हो जाने दो

समय गलत हो बेशक ...पर कोई परेशानी सदा की नहीं होती
पहेलियों के भी हल होते है
बस उन्हें  सुलझाने की जरूरत होती है

©Neha Bhargava (karishma)

एक कलम और वो कागज का पन्ना दिन रात के वो एहसास अकेले से वो जज्बात कुछ खट्टे कुछ मीठे बीते जो वाकयात अनगिनत किस्से ,दिल के जज्बातों के वो किस्से क्या खूबसूरत सा तरीका है कुछ न कहकर भी सब कह दे ऐसा प्लेटफार्म बस एक कविता है कोई गलत नहीं न कोई धोखेबाज है अपने अपने एहसास के साथ करते सब अकेलेपन से बात है दिल को दिल से रूबरू करते है अनकही बाते ,शब्दो में बदलते है ©Neha Bhargava (karishma)

 एक कलम और वो कागज का पन्ना
दिन रात के वो एहसास 
अकेले से वो जज्बात
कुछ खट्टे कुछ मीठे  बीते जो वाकयात
अनगिनत किस्से ,दिल के जज्बातों के वो किस्से
क्या खूबसूरत सा तरीका है 
कुछ न कहकर भी सब कह दे
ऐसा प्लेटफार्म बस एक कविता है
कोई गलत नहीं न कोई धोखेबाज है
अपने अपने एहसास के साथ
करते सब अकेलेपन से बात है
दिल को दिल से रूबरू करते है
अनकही बाते ,शब्दो में बदलते है

©Neha Bhargava (karishma)

हजार बहानों का,तुमने लिया आसरा फिर भी गलत उसे ही ठहराया है सच बताओ,क्या जहन में छुपाया है बेबुनियाद तब्दीलो से तुमने दूरियों को बढाया है इतना अकेला कोई नही होता जितना तुमने खुद को बताया है हकीकत और फरेब.... किसको तुमने दिखाया है सच बताओ क्या जहन में छुपाया है ये वास्ते और वो झूठे रास्ते ... कितनी तब्दीलो से खुद को बेबस बताया है सच सच बताओ क्या जहन में छुपाया है ज्यादा समझदार तो में नहीं हूं,पर... जितना तुमने समझा,उतनी भी नादान नही हूं बहला दे कोई चंद बातो से, झूठे वादों से याद रखना इतनी भी अनजान नही हूं... बेशक प्यार बेहिसाब है.... पर ये ना समझना ,हर बात स्वीकार है कच्चे धागों से नाजुक ये रिश्ते हकीकत,भरोसे की बुनियाद पर चलते है और हम वो नही जो प्यार अंधा बनकर करते है बस कुछ भाव कभी अल्फाज नही बन पाते चुप हो जाते है,ये सब कह नहीं पाते ©Neha Bhargava (karishma)

#Broken  हजार बहानों का,तुमने लिया आसरा 
फिर भी गलत उसे ही ठहराया है
सच बताओ,क्या जहन में छुपाया है
बेबुनियाद तब्दीलो से
तुमने दूरियों को बढाया है
इतना अकेला कोई नही होता
जितना तुमने खुद को बताया है
हकीकत और फरेब....
किसको तुमने दिखाया है
सच बताओ क्या जहन में छुपाया है
ये वास्ते और वो झूठे रास्ते ...
कितनी तब्दीलो से खुद को बेबस बताया है
सच सच बताओ क्या जहन में छुपाया है
ज्यादा समझदार तो में नहीं हूं,पर...
जितना  तुमने समझा,उतनी भी नादान नही हूं
बहला दे कोई चंद बातो से, झूठे वादों से
याद रखना इतनी भी अनजान नही हूं...
बेशक प्यार बेहिसाब है....
पर ये ना समझना ,हर बात स्वीकार है
कच्चे धागों से नाजुक ये रिश्ते
हकीकत,भरोसे की बुनियाद पर चलते है
और हम वो नही जो प्यार अंधा बनकर करते है
बस कुछ भाव कभी अल्फाज नही बन पाते
चुप हो जाते है,ये सब कह नहीं पाते

©Neha Bhargava (karishma)

#Broken

12 Love

Trending Topic