RAKESH NAYAK

RAKESH NAYAK Lives in Odisha, Odisha, India

राधे राधे 🙏 ~ Arz Kiya hai ~ • कुछ बाते खामोशियो से पता नहीं चलते.. क्यूंकि.. नजदीकियों में दूरियां बहुत है..! - nayak 0.9

https://www.instagram.com/itszerotonine

  • Popular
  • Latest
  • Repost
  • Video

""

"Learn something new every day in your life, both good and bad"

Learn something new every day in your life, 
both good and bad

#life_lesson - nayak 0.9 ☑ Bad things were waiting for us since childhood,
This is the journey of life,
Now learn something new 🍁🍁

109 Love
3 Share

""

"कुछ सालों पहले की ही बात है रातो मे नींदो ने उस अकेले अंधेरे कमरे के बिस्तर पर मेरे साथ आंखों की नम बूंदो मे घर बनाया था ⏬⏬ 📝 ⏬⏬"

कुछ सालों पहले की ही बात है 
रातो मे नींदो ने उस अकेले अंधेरे कमरे के बिस्तर पर 
मेरे साथ आंखों की नम बूंदो मे घर बनाया था 
⏬⏬  📝 ⏬⏬

#sleepless_nights - nayak 0.9 ☑ ⏬📝
🍁🍁______________________________
कुछ सालो पहले की ही बात है रातो मे नींदो ने उस अकेले अंधेरे कमरे के बिस्तर पर मेरे साथ आंखों की नम बूंदो मे घर बनाया था

उस साल वक्त की नाराजगी से दिन मे मुकाबला करता था खुद मे खुद को ना पाकर
और
रातो मे कभी-कभी आंखों से नम बूंदे नहीं जैसे खून के आंसू बहाकर रोया करता था

105 Love
2 Share

""

"उस सर्द सुबह को उसने मिलने बुलाया था और पेड़ के नम पत्तों से कुछ ठंडी बूंदे साथ अपने पत्तों मे लेकर आया था मिले जो हम एक दूसरे की आंखों मे कुछ मुस्कुराते हुए फिर जो मै नाराज हो गई क्यो पता नही उसने बस अपने हाथ के नाखूनो के ऊपर उन पत्तो से लाए नम बूदों को रखकर मेरे होठों पर उछाला था"

उस सर्द सुबह को उसने मिलने बुलाया था और पेड़ के नम पत्तों से कुछ ठंडी बूंदे साथ अपने पत्तों मे लेकर आया था 
मिले जो हम एक दूसरे की आंखों मे कुछ मुस्कुराते हुए 
फिर जो मै नाराज हो गई क्यो पता नही 
उसने बस अपने हाथ के नाखूनो के ऊपर उन पत्तो से लाए 
नम बूदों को रखकर मेरे होठों पर उछाला था

#Sard_subh_ki_mulakat - nayak 0.9☑
🍁🍁______________________________
पेड़ के नम पत्तों से कुछ ठंडी बूंदे साथ अपने पत्तों मे लेकर आया था

मिले जो हम एक दूसरे की आंखों मे कुछ मुस्कुराते हुए

फिर जो मै नाराज हो गई क्यो पता नही

102 Love
2 Share

""

"प्यार और फ़रेब बेशुमार इश्क़ था तुम्हारी आंखों मे मेरे लिए हां बेशुमार इश्क़ था तुम्हारी आंखों मे मेरे लिए बढ़ते सालों मे वही बेशुमार प्यार उमड़ आया तुम्हारी होटों की बातों पर किसी अनजान के लिए फिर क्या अब तो तुम्हारी आंखों मे फ़रेब ही नजर आता है"

प्यार और फ़रेब  बेशुमार इश्क़ था तुम्हारी आंखों मे मेरे लिए 
हां बेशुमार इश्क़ था तुम्हारी आंखों मे मेरे लिए 

बढ़ते सालों मे वही बेशुमार प्यार उमड़ आया 
तुम्हारी होटों की बातों पर किसी अनजान के लिए

फिर क्या अब तो तुम्हारी आंखों मे फ़रेब ही नजर आता है

#प्यार_और_फ़रेब #december - nayak 0.9 ☑

102 Love
2 Share

""

"वादे वही ना जो अपने होने का इशारा देने के लिए किये जाते है फिर जो पराये से भी ज्यादा गैर होने का दावा करके तोड़ दिए जाते है 📝⏬⏬⏬📝"

वादे  वही ना जो अपने होने का इशारा देने के लिए
 किये जाते है
फिर जो पराये से भी ज्यादा गैर होने का दावा करके 
तोड़ दिए जाते है

📝⏬⏬⏬📝

#december #वादे - nayak 0.9 💯☑📝

वही ना जो अपने होने का इशारा देने के लिए किये जाते है,
फिर जो पराये से भी ज्यादा गैर होने का दावा करके तोड़ दिए जाते है,

हाँ जो बहुत छोटा लफ्ज़ है जिंदगी मे कितनो ने कीये पर इस छोटे से लफ्ज़ की तरह चलते कदमो मे तोड़ भी दीये,

पर कभी मां बाबा का सोचना इनके और हमारे बीच ये वादे लफ्ज़ भी नही होता फिर भी हमारे सभी खवाहिशे पूरे होते है,

101 Love
4 Share