Priyanshu Modi

Priyanshu Modi Lives in New Delhi, Delhi, India

  • Latest Stories

"Mai kehdu ki mita dunga saari ye doori, Mai kehdu ki tum ho buss sabse zaruri, Mai kehdu ki tum meri zindagi ho poori, Mai kehdu par kya tum kuch sun bhi rahi ho? Ye kehna ki tumhari talap hai is dil ko, Ye kehna mai samandar aur tum sahil ho, Ye kehna ki tum raah ho meri manzil ko, Mai kehdu par kya tum kuch sun bhi rahi ho? Mai kehdu toh guzar jaaye zamana ye saara, Par phir bhi na ho pura zikr tumhara, Mai kehne ko kehdu alfaaz har zubaan mein, Dikhti ho mujhe tum dua mein, khuda mein, Mai kehne ko kehdu ki sab Kuch tum hi ho, Mai kehdu par kya tum kuch sun bhi rahi ho? Wo ladaiya wo jhagde, wo betuke se masle, Phir deti thi maafi jo tum halka sa haske, Aur roothti jo thi tum kabhi aag si jalke, Mai sunata tha kahaniya kitaabo se padhke, Mai kehdu aaj phirse, kahaniya wo saari, Mai kehdu par kya tum kuch sun bhi rahi ho? Lehro ki sadao se uncha mai kehdu, Dhadkano ko, saanso ko chup mai karakar Mai kehdu samay se bhi aage nikalkar, Mai kehdu bina apne labso ko khole. Mai kehdu par kya tum kuch sun bhi rahi ho?"

Mai kehdu ki mita dunga saari ye doori,
Mai kehdu ki tum ho buss sabse zaruri,
Mai kehdu ki tum meri zindagi ho poori,
Mai kehdu par kya tum kuch sun bhi rahi ho?

Ye kehna ki tumhari talap hai is dil ko,
Ye kehna mai samandar aur tum sahil ho,
Ye kehna ki tum raah ho meri manzil ko,
Mai kehdu par kya tum kuch sun bhi rahi ho?

Mai kehdu toh guzar jaaye zamana ye saara,
Par phir bhi na ho pura zikr tumhara,
Mai kehne ko kehdu alfaaz har zubaan mein,
Dikhti ho mujhe tum dua mein, khuda mein,
Mai kehne ko kehdu ki sab Kuch tum hi ho,
Mai kehdu par kya tum kuch sun bhi rahi ho?

Wo ladaiya wo jhagde, wo betuke se masle,
Phir deti thi maafi jo tum halka sa haske,
Aur roothti jo thi tum kabhi aag si jalke,
Mai sunata tha kahaniya kitaabo se padhke,
Mai kehdu aaj phirse, kahaniya wo saari,
Mai kehdu par kya tum kuch sun bhi rahi ho?

Lehro ki sadao se uncha mai kehdu,
Dhadkano ko, saanso ko chup mai karakar
Mai kehdu samay se bhi aage nikalkar,
Mai kehdu bina apne labso ko khole.
Mai kehdu par kya tum kuch sun bhi rahi ho?

Mai kehdu ki mita dunga saari ye doori,
Mai kehdu ki tum ho buss sabse zaruri,
Mai kehdu ki tum meri zindagi ho poori,
Mai kehdu par kya tum kuch sun bhi rahi ho?

Ye kehna ki tumhari talap hai is dil ko,
Ye kehna mai samandar aur tum sahil ho,
Ye kehna ki tum raah ho meri manzil ko,

3 Love

"जीत की खबरों को सुनकर मिल रहा सुकून है, फिर चली गोली सरहद पर बह रहा फिर खून है। इस पार हिंदुस्तान तो उस पार पाकिस्तान है, मर रहा इस पार भी उस पार भी इंसान है, गोलियों की गूँज से फिर गूंजा सारा देश है, पर जवानो के ही घर क्यों आज भी सुनसान हैं। लाल दिखता है यहाँ, तो लाल ही वहाँ खून है। फिर चली गोली सरहद पर बह रहा फिर खून है। उस बाप को भी देखलो फिर जिसकी वो संतान है, जो अपने ही बेटे को लेकर जा रहा शमशान है, उसकी आँखों का समंदर भी कभी थमा नहीं, आज तिरंगे में लिपटी क्युकी उसकी जान है। बेटे के लहू से रंगी बाप की पतलून है, फिर चली गोली सरहद पर बह रहा फिर खून है। आँख में आंसू भरे काँधे पर अपनी रूह लिए, चल रहा काँधे पे वो वतन की आबरू लिए, जो हो नहीं पायी थी पूरी जंग से पहले कई,  उसका बेटा है खड़ा अधूरी गुफ्तगू लिए। चुप्पी साधे है खड़ा जो मिजाज़ से बातून है, फिर चली गोली सरहद पर बह रहा फिर खून है। भारी है मन दिल भी उसका काफी टुकड़ो में टूटा है, लगता है भाई का हाथ, हाथ से उसके छूटा है, कौन करेगा प्यार उसे अब कौन करे रक्षा उसकी,  सरहद पर राखी का बंधन देखो फिरसे टूटा है। कहा बांधे राखी अब, कलाई पर ही खून है, फिर चली गोली सरहद पर बह रहा फिर खून है। जल रहा है दिल उसका घर बना मसान है, आंसुओ का ले रही जैसे वो इम्तेहान है, इस तिरंगे के ही खातिर तोड़ दी हैं चूड़ियां, हो गयी विधवा वो फिर भी चेहरे पर मुस्कान है। लाल मेहँदी से भरे उस पत्नी के नाखून हैं, फिर चली गोली सरहद पर बह रहा फिर खून है। Priyanshu Modi"

जीत की खबरों को सुनकर मिल रहा सुकून है,
फिर चली गोली सरहद पर बह रहा फिर खून है।

इस पार हिंदुस्तान तो उस पार पाकिस्तान है,
मर रहा इस पार भी उस पार भी इंसान है,
गोलियों की गूँज से फिर गूंजा सारा देश है,
पर जवानो के ही घर क्यों आज भी सुनसान हैं।

लाल दिखता है यहाँ, तो लाल ही वहाँ खून है।
फिर चली गोली सरहद पर बह रहा फिर खून है।

उस बाप को भी देखलो फिर जिसकी वो संतान है,
जो अपने ही बेटे को लेकर जा रहा शमशान है,
उसकी आँखों का समंदर भी कभी थमा नहीं,
आज तिरंगे में लिपटी क्युकी उसकी जान है।

बेटे के लहू से रंगी बाप की पतलून है,
फिर चली गोली सरहद पर बह रहा फिर खून है।

आँख में आंसू भरे काँधे पर अपनी रूह लिए,
चल रहा काँधे पे वो वतन की आबरू लिए,
जो हो नहीं पायी थी पूरी जंग से पहले कई, 
उसका बेटा है खड़ा अधूरी गुफ्तगू लिए।

चुप्पी साधे है खड़ा जो मिजाज़ से बातून है,
फिर चली गोली सरहद पर बह रहा फिर खून है।

भारी है मन दिल भी उसका काफी टुकड़ो में टूटा है,
लगता है भाई का हाथ, हाथ से उसके छूटा है,
कौन करेगा प्यार उसे अब कौन करे रक्षा उसकी, 
सरहद पर राखी का बंधन देखो फिरसे टूटा है।

कहा बांधे राखी अब, कलाई पर ही खून है,
फिर चली गोली सरहद पर बह रहा फिर खून है।

जल रहा है दिल उसका घर बना मसान है,
आंसुओ का ले रही जैसे वो इम्तेहान है,
इस तिरंगे के ही खातिर तोड़ दी हैं चूड़ियां,
हो गयी विधवा वो फिर भी चेहरे पर मुस्कान है।

लाल मेहँदी से भरे उस पत्नी के नाखून हैं,
फिर चली गोली सरहद पर बह रहा फिर खून है।


Priyanshu Modi

जीत की खबरों को सुनकर मिल रहा सुकून है,
फिर चली गोली सरहद पर बह रहा फिर खून है।

इस पार हिंदुस्तान तो उस पार पाकिस्तान है,
मर रहा इस पार भी उस पार भी इंसान है,
गोलियों की गूँज से फिर गूंजा सारा देश है,
पर जवानो के ही घर क्यों आज भी सुनसान हैं।

2 Love

"Pichle chaar din ki saari sharaab maang rahi hai, Aaj phir zindagi hisaab maang rahi hai. Mere aankho ki galiyo se aab maang rahi hai, raato se mere saare khwaab maang rahi hai, Kya khoya kya paaya pichle kuch dino mein, aaj phir zindagi hisaab maang rahi hai."

Pichle chaar din ki saari sharaab maang rahi hai,

Aaj phir zindagi hisaab maang rahi hai.


Mere aankho ki galiyo se aab maang rahi hai,

raato se mere saare khwaab maang rahi hai,

Kya khoya kya paaya pichle kuch dino mein,

aaj phir zindagi hisaab maang rahi hai.

#RDV19

4 Love

"Darwaaze par khadi hai zindagi hamari, tum jaao toh darwaaza band karte jaana."

Darwaaze par khadi hai zindagi hamari,

tum jaao toh darwaaza band karte jaana.

#RDV19

2 Love

"Us Ojhal hoti roshni aur neeli syaahi se lipti dilli ki shaam mein, kuch khushi aur kuch mayoosi se lipte chehro ke beech mein us roz phir kisine apna bachpana kho diya. (Full story in caption)"

Us Ojhal hoti roshni aur neeli syaahi se

 lipti dilli ki shaam mein, kuch khushi aur

 kuch mayoosi se lipte chehro ke beech mein 

us roz phir kisine apna bachpana kho diya.

(Full story in caption)

Ojhal hoti roshni aur neeli syaahi se lipti wo dilli ki shaam, jisme February ki tharthara dene wali thand thi aur office se ghar jaane wali gaadiyo ka shor, jisme kabhi jalte toh kabhi bujh jaane wale peele streetbulbs ki roshni thi toh kahi 6 baje hone wala ghana andhera tha, wo dilli ki shaam, kuch chand logo ki khushi ke badle kayi mayoos chehro ka gham uthati wo dilli ki shaam.
Unhi kuch khush logo mein se ek tha, chandni ka parivaar, aur un sab se zyada khush thi chandni, kyuki pure saal

4 Love