parveen tiwari

parveen tiwari Lives in Nohar, Rajasthan, India

Wr✒️ter P gujra hu dard k ush saye k pass se kushi hogi kanhi shyad ish aash mein yun to bit gye h bht k saal magar sukhe h patte man k barsat ki aas mein

  • Popular
  • Latest
  • Video

""

"मैं कहने ही वाला था, पर वो ना सुनने की रट लगाए बैठा था चला जाऊंगा छोड़ना एक दिन तुम्हे कई मर्तबा ये बात कह देता था अब दिल भी टूट गया बकिं हम में भी कुछ ना बचा क्योंकि दोनों ही हमारे एक होने की आस लगाए बैठे हैं"

मैं कहने ही वाला था, पर वो ना सुनने की रट लगाए बैठा था
चला जाऊंगा छोड़ना  एक दिन तुम्हे
कई मर्तबा ये बात कह देता था 
अब दिल भी टूट गया बकिं हम में भी कुछ ना बचा 
क्योंकि दोनों ही हमारे एक होने की आस लगाए बैठे हैं

gd mrng chlo sab like maro yarrr

73 Love
1 Share

""

"#NationalYouthDay तू रख एक कदम तेरे साथ पूरा देश होगा युवा ह तू तेरे से उपर ना कोई एक होगा जो थानी तूने तो पहाड़ भेे चिर शक्ता है फर्क नही उष वक़्त तेरा क्या भेश होगा"

#NationalYouthDay तू रख एक कदम तेरे साथ पूरा देश होगा 
युवा ह तू तेरे से उपर ना कोई एक होगा 
जो थानी तूने तो पहाड़ भेे चिर शक्ता है 
फर्क नही उष वक़्त तेरा क्या भेश होगा

#National_Youth_Day

67 Love

""

"रात के करीब एक बजे थे| उनका कॉल आया और उठा आधी नींद से मेंऔर सोचा कों आया जैसे ही हाथ में लिया फोन नींद भी फुर हो गई मेरी आयी मुस्कुराहट चेहरे पे और जल्दी से छत पे आया पर ना इत्ते में कट हो गया😢😢😢"

रात के करीब एक बजे थे| उनका कॉल आया और उठा आधी नींद से मेंऔर सोचा कों आया 
जैसे ही हाथ में लिया फोन नींद भी फुर हो गई मेरी
आयी मुस्कुराहट चेहरे पे और जल्दी से छत पे आया 
पर ना इत्ते में कट हो गया😢😢😢

#Vo_Call

66 Love

""

"लिखता नही हूं आजकल कुछ ज्यादा शायद अपने शब्दो से में ही डरा हुआ हूं जिस्म तो ओरो के जैसे चल रहा है मेरा मगर अंदर से देख मैं मरा हुआ हूं"

लिखता नही हूं आजकल कुछ ज्यादा 
शायद अपने शब्दो से में ही डरा हुआ हूं 
जिस्म तो ओरो के जैसे चल रहा है मेरा 
मगर अंदर से देख मैं मरा हुआ हूं

#Akhiri_shabd

63 Love

""

"मेरे प्यारे 2020 टुकड़ों में बिखर कर सिमट जाऊंगा जो तू मुझे अन्दर से तोड़ ता जाएगा मगर एक बार फिर करूंगा कोशिश उठने की इस उम्मीद में शायद कल एक नया सवेरा आएगा"

मेरे प्यारे 2020 टुकड़ों में बिखर कर  सिमट जाऊंगा
जो तू मुझे अन्दर से तोड़ ता जाएगा
मगर एक बार फिर करूंगा कोशिश उठने की
इस उम्मीद में शायद कल एक नया सवेरा आएगा

 

61 Love