Hariom Mishra

Hariom Mishra Lives in Patna, Bihar, India

Coauthor 1 : Kashish-ae-alfaaz 2:Thy Fate insta I'd hariommishra3885

  • Popular
  • Latest
  • Repost
  • Video

""

"हँसते -हँसते जिन्होंने आजादी के लिए फाँसी के फंदों पर झूल गए, कुछ भारत मे ही रहने वाले देशद्रोही इनकी शहादत भूल गए ।"

हँसते -हँसते  जिन्होंने आजादी
 के लिए फाँसी के फंदों पर झूल गए,
कुछ भारत मे ही रहने वाले देशद्रोही 
इनकी शहादत भूल गए ।

@//diksha// @कवि देवीलाल पंवार‌ @Pathak ji @Sonia @Rashmi Nayak

235 Love

""

"रातों की तन्हाई ,और ग़मों से ये दिल आबाद है। वो दिन ,वो रात अभी भी याद है । नयनों में अब बेशुमार अश्क हैं ,और ग़मों का तादाद है । रात भर जगे रहते हैं,ये सिलसिला तम्हारे जाने के बाद है। बदन ये मेरा जल रहा है , और जख्मी ये फवाद (हृदय ) है। खुदा से तब भी और आज भी फरियाद है ।"

रातों की तन्हाई ,और ग़मों से ये दिल आबाद है।
वो दिन ,वो रात अभी भी याद है ।
नयनों में अब बेशुमार अश्क हैं ,और ग़मों का तादाद है ।
रात भर जगे रहते हैं,ये सिलसिला तम्हारे 
जाने के बाद है।
बदन ये मेरा जल रहा है ,
और जख्मी ये फवाद (हृदय ) है।
खुदा से तब भी और आज भी फरियाद है ।

#अभी भी याद है 2 #nojoto#Poetry @//diksha// @stardust @mohd_saquib_537 @Neeraj Mishra deepshi bhadauria

221 Love
1 Share

""

"वो दिन ,वो रात अभी भी याद है । खुदा से तब भी ,और आज भी फरियाद है। न जाने क्यूँ वो हमसे तुमको छीन गए न जाने किस बात से वो खिन्न गये। जिंदगी अब पूरी तरह अवसाद है । रूह है जख्मी ,और आँखे उदास है। 23 मार्च को छोड़ गए दुनिया ,अब हमको जीने की क्या आस है । आँखों मे नमी है ,और लफ़्ज़ों पर मुस्कुराहट का प्रयास है"

वो दिन ,वो रात अभी भी याद है ।
खुदा से तब भी ,और आज भी फरियाद है।
न जाने क्यूँ वो हमसे तुमको छीन गए
न जाने किस बात से वो खिन्न गये।
जिंदगी अब पूरी तरह अवसाद है ।
रूह है जख्मी ,और आँखे उदास है।
23 मार्च को छोड़ गए दुनिया ,अब हमको जीने की
 क्या आस है ।
आँखों मे नमी है ,और लफ़्ज़ों पर मुस्कुराहट
का प्रयास है

#अभी भी याद है 1 #nojoto #Poetry

198 Love
1 Share

""

"मैं पृथ्वी पर विचरण करने वाला , तो तुम मस्त -मौला विहंग हो। मुझको साहित्य से प्रेम ,तो तुम इससे दंग हो । मैं मजबूत धागा सा, तो तुम उससे उड़ती हुई पतंग हो । मैं स्थिर, शांत , समुदर सा , तो तुम उसमे उठने वाली तरंग हो । मैं रंगहीन सा ,तो तुम नवरंग हो । रणक्षेत्र हूँ मैं ,तो तुम जंग हो । मैं आदि हूँ, तो तुम अन्त हो । मस्त हूँ मैं ,तो तुम मलंग हो ।"

मैं पृथ्वी पर विचरण करने वाला ,
तो  तुम मस्त -मौला विहंग हो।
मुझको साहित्य से प्रेम ,तो तुम इससे दंग हो ।
मैं मजबूत धागा सा, तो तुम उससे 
उड़ती हुई पतंग हो ।
मैं स्थिर, शांत  , समुदर सा ,
तो तुम उसमे उठने वाली तरंग हो ।
मैं रंगहीन सा ,तो तुम नवरंग हो ।
रणक्षेत्र हूँ मैं ,तो तुम जंग हो ।
मैं आदि हूँ, तो तुम अन्त हो ।
मस्त हूँ मैं ,तो तुम मलंग हो ।

#nojoto#shayri#

193 Love

""

"जो लोग आपसे बात नही करते आपको ही बार -बार बात करना पड़ता है तो हौसला रखो मेरे दोस्त वही लोग कही न्यूज़ वैगरह में देख कर बोलेंगे की इनसे मेरी बहुत अच्छी जान पहचान है ।"

जो लोग आपसे  बात नही करते 
आपको ही बार -बार बात करना पड़ता है 
तो हौसला रखो मेरे दोस्त
 वही लोग कही न्यूज़ वैगरह में देख कर  बोलेंगे की इनसे 
मेरी बहुत अच्छी जान पहचान है ।

@Parineeta Gupta @नीना पठानिया @Priyanka Mishra 😊 @vikas @NURI 😜.....(SARAVJEET KAUR) @poetic forever

181 Love
1 Share