Sandeep Kumar

Sandeep Kumar

  • Latest Stories

हर शाम कह जाती है एक कहानी !
हर सुबह ले आती है एक नई कहानी !

रास्ते तो बदलते है हर दिन लेकिन !
मंजिल रह जाती है वही पुरानी !

256 Love
1 Share

अगर तलाश करूँ कोई मिल ही जायेगा
मगर तुम्हारी तरह कौन मुझे चाहेगा

तुम्हें ज़रूर कोई चाहतों से देखेगा
मगर वो आँखें हमारी कहाँ से लायेगा

ना जाने कब तेरे दिल पर नई सी दस्तक हो
मकान ख़ाली हुआ है तो कोई आयेगा

228 Love
1 Share

बड़ा उदास सफ़र है हमारे साथ रहो,
बस एक तुम पे नज़र है हमारे साथ रहो ।

हम आज ऐसे किसी ज़िन्दगी के मोड़ पे हैं,
न कोई राह न घर है हमारे साथ रहो ।

तुम्हें ही छाँव समझकर हम आ गए हैं इधर,
तुम्हारी गोद में सर है हमारे साथ रहो ।

167 Love
2 Share

शोर की इस भीड़ में ख़ामोश तन्हाई-सी तुम
ज़िन्दगी है धूप, तो मदमस्त पुरवाई-सी तुम

आज मैं बारिश मे जब भीगा तो तुम ज़ाहिर हुईं
जाने कब से रह रही थी मुझमें अंगड़ाई-सी तुम

चाहे महफ़िल में रहूं चाहे अकेले में रहूं
गूंजती रहती हो मुझमें शोख शहनाई-सी तुम

159 Love
1 Share