Nojoto: Largest Storytelling Platform

Best yadidi Shayari, Status, Quotes, Stories

Find the Best yadidi Shayari, Status, Quotes from top creators only on Nojoto App. Also find trending photos & videos about kya tumhen yad hai, aise teri yad aati hai, yade yad ati hai, ki duniya yad karen, yad a raha hai tera pyar,

  • 142 Followers
  • 230 Stories
    PopularLatestVideo

नेहा

# तुम रख लो, #नेह #जीवन #yqquotes #yadidi

read more
तुम रख लो मेरे गीत संभाल के,
अगर मिल जाए 'नेह' का संगीत इनमें,
हो सके तो कभी गुनगुना लेना,
गीतों में रमे प्रेम से दिल को बहला देना,
जो चोट छिपी है अंतस में,उसे सहला देना।

     # तुम रख लो, 
#नेह 
#जीवन
#yqquotes
#yadidi

Rahul Sharma

मजबूरी और प्राथमिकता के द्वन्ध मे कुछ इस तरह
उलझा रहा कि समझने में कई वर्ष लग गए के मजबूरी ही तय करती है कि आप की प्राथमिकता क्या है। मजबूरी हमारी महत्वाकांक्षाऔं को सीमांत करती है, परन्तु हमारे चुनाव का हक नहीं छीनती। मनुष्य की प्राथमिकता ही सर्वोपरि है। #yqbaba #yqtales #yadidi #quote #writer #hindi #yqbhaijan #yqdiary

Tejaswini Patra

Usne kaha safar yanhi tak tha
Humne alag rasta chaat liya....
Usne kaha bhul jana hume
Uske wager zindagi kaat diya....
Phir usko shikayat bhi rahi ke 
hum yaad  bhi nahi karte 
To humne jo kuch likha usper tha
Sab mein baat diya.... #youandme #love #lovequotes #sadquotes #yopowrimo #yqbaba #yadidi #kuchbateeinankahi

Upen Patel

Collaborating with YourQuote Didi Collaborating with ankita makwana #samaj #lovequotes #yadidi #ybquote #gujarati

read more
यही तो फर्क था 
में तुझे समझना चाहता था
और तू मुझे  समझाना Collaborating with YourQuote Didi
Collaborating with ankita makwana
#samaj #lovequotes #yadidi #ybquote #gujarati

Haseena Dudekula

#yqbaba #yqdidi #yqtales #yadidi #YourQuoteAndMine Collaborating with Parkash Penciathanks for the invite

read more
You are my favourite flavour,
Adorning my lips as a 
Beautiful smile... #yqbaba #yqdidi #yqtales #yadidi  #YourQuoteAndMine
Collaborating with  Parkash Penciathanks for the invite

Dr. Devbrat Pundhir

तेरे घर के सामने से गुजरते हैं कभी तो,
ये बंद खिड़कियां दिल को बहुत कचोटती हैं, 
जो कभी खुलती थी हमारे दीदार को, 
लगता है सालों से यूं ही हतास पड़ी हैं,
अब तो तेरा छत पे आना भी नहीं होता है,
चुपके से देखकर मुंडेर के पीछे छिप जाना भी नहीं होता है,
अब हमारा वहां से गुजरना भी कहां होता है।। #घर#मुंडेर#छिपना#खिड़कियां#हतास#yqbaba#yadidi#hindipoems
loader
Home
Explore
Events
Notification
Profile