JALAJ KUMAR RATHOUR

JALAJ KUMAR RATHOUR Lives in Agra, Uttar Pradesh, India

कभी उसकी घडी ने कभी उसकी जुल्फो ने हर बार बेईज्जत किया हमे ए जलज भरी महफिलो में .....#जलज_कुमार

https://www.blogger.com/blogger.g?blogID=592702054934352507#allposts/postNum=0

  • Latest Stories
  • Popular Stories
जिन्हे अपना माना वो अब बेगाने हो रहे है, 
जो कल तक हमारे थे वो किसी और के दीवाने हो रहे है, 
सालों की मोहब्बत को बचपना, 
दो दिन की मुलाकात को वो मोहब्बत बता रहे है, 
कहते है हमसे की " 2 महीने की मुलाकात को हम उनको भुला नही पा रहे है
और एक हम है जो अब भी उस पागल  पर अपना  हक जता रहे है..
. #जलज

जिन्हे अपना माना वो अब बेगाने हो रहे है,
जो कल तक हमारे थे वो किसी और के दीवाने हो रहे है
सालों की मोहब्बत को बचपना, दो दिन की मुलाकात को वो मोहब्बत बता रहे है
और एक हम है जो अब भी उस बेवफा पर हक जता रहे है..
. #जलज

17 Love
0 Comment
3 Share
अब और ना सही जाती ये हिज्र की रात, 
निगाहों को है आज भी उससे वस्ल का ख्वाब, 
बस इतनी है आजमाईश उनसे जनाब, 
की चाँद के साये में बैठ कर वो थामे मेरा हाथ..
. #जलज

अब और ना सही जाती ये हिज्र की रात,
निगाहों को है आज भी उससे वस्ल का ख्वाब,
बस इतनी है आजमाईश उनसे जनाब,
की चाँद के साये में बैठ कर वो थामे मेरा हाथ... #जलज

4 Love
0 Comment
1 Share
मेरे अधरो पर आज भी नाम तुम्हारा रहता है, 
तेरा बिंदिया लगा वो फोटो,मेरे तकिये के नीचे सोता है... #जलज

मेरे अधरो पर आज भी नाम तुम्हारा रहता है,
तेरा बिंदिया लगा वो फोटो आज भी मेरे तकिये के नीचे सोता है... #जलज

7 Love
0 Comment
2 Share

कभी कभी पांव रुक जाते है

4 Love
1 Comment
15 Views
1 Share
खुद को तुझपे न्यौछावर किया, 
"लक्ष्मी हुई है घर में" कहकर तुझको प्यार दिया, 
सोचा ना था तू ऐसे चुकायेगी
 कर्ज इस बाप का, 
तू तकाजा कर बैठी दो दिन के आकर्षण से
 सदियों के प्यार का, 
खातिर तेरी अब बेटी कोखो में मारी जाएगी, 
"मैं भी स्कूल जाऊंगी "कहने पर अब बेटी के, 
कल्पना चावला से पहले तेरी बाते
 हर बाप के मन में आएगी, 
सोचा न होगा मां ने बेटी ऐसे आरोप लगायेगी, 
सुनकर तेरे मुह से बाते तेरी,  
आँखे उनकी भी भर आयेगी, 
चल माना की हुआ साथ तेरे गलत,  
छीने गये तुझसे हक, 
पर फिर भी तुझको उन्होंने पढाया, 
तू फैसले ले  इस काबिल बनाया, 
और हर फैसले में तूने उनको ही गलत बताया, 
इससे अच्छा बेटी हो ही ना ,
उनके दिल में यही ख्याल आया होगा, 
नौ महीने तुझे कोख मे रखने का
 दुःख उस माँ को हुआ होगा, 
आज वो बाप कितना रोया होगा, 
..... #जलज
सपनो की कीमत, अपनो से बडी नही होती

खुद को तुझपे न्यौछावर किया,
"लक्ष्मी हुई है घर में" कहकर तुझको प्यार दिया,
सोचा ना था तू ऐसे चुकायेगी कर्ज इस बाप का,
तू तकाजा कर बैठी दो दिन के आकर्षण से सदियों के प्यार का,
खातिर तेरी अब बेटी कोखो में मारी जाएगी,
"मैं भी स्कूल जाऊंगी "कहने पर अब बेटी के,
कल्पना चावला से पहले तेरी बाते हर बाप के मन में आएगी,
सोचा न होगा मां ने बेटी ऐसे आरोप लगायेगी,
सुनकर तेरे मुह से बाते तेरी, आँखे उनकी भी भर आयेगी,
चल माना की हुआ साथ तेरे गलत, छीने गये तुझसे हक,
पर फिर भी तुझको उन्होंने पढाया,
तू फैसले ले खुद के तुझको इस काबिल बनाया,
और हर फैसले में तूने उनको ही गलत बताया,
इससे अच्छा बेटी हो ही ना ,उनके दिल में यही ख्याल आया होगा,
नौ महीने तुझे कोख मे रखने का दुःख उस माँ को हुआ होगा,
आज वो बाप कितना रोया होगा,
..... #जलज
सपनो की कीमत, अपनो से बडी नही होती

4 Love
0 Comment
1 Share