Shoaib Akhtar Sheikh

Shoaib Akhtar Sheikh Lives in Jaipur, Rajasthan, India

अक्सर अपने दुखों को खुद में समेट लेता हूं! मैं वो मंज़र हूं, जो खामोशी को लिखकर बयां कर देता हूं। 🖤🖤🖤 😊खुशमिजाज, दिलजवा, मेहरबान 👉 College student 👉 Studying Biotech.... 👉21 dec 1999🎂🎂🎉🎊🎁 👉Music and nature lover🎶🎧📻🌈🏔️🏝️🏞️🗻 👉Animals lover😍

https://www.instagram.com/p/CEUVev6hQHS/?igshid=1qjzkaib85igr

  • Popular
  • Latest
  • Video

""

"हम ग़म भी सुनाए तुम्हें तो लगता लतीफा है, हमारी बातों का तुम्हे ज़रा ना होता सलिखा है। साथ तुम्हारा हमारे लिए लगता बहुत खास है, पर बातें तक हमारी सब लगती तुम्हे बेज़ार है। हम दे भी तो क्या तुम्हे सब कुछ तुम्हारे पास है, तुम गर हमें देना चाहो तो क्या नहीं तुम्हारे पास है। हम तुम्हारे है यही बस एक आस हमारे पास है, इसे भी हमसे चुराना ये भी तुम्हे बहुत खास है। गमगीन ज़िन्दगी के किस्से भी लगते निराले है, ना हो तुम गर आसपास तो सारे ग़म हमारे है। S.A.Sheikh🖤"

हम ग़म भी  सुनाए तुम्हें  तो लगता लतीफा है,
हमारी बातों का तुम्हे ज़रा ना होता सलिखा है।

साथ तुम्हारा हमारे लिए लगता बहुत खास है,
पर बातें तक हमारी सब लगती तुम्हे बेज़ार है।

हम दे भी  तो क्या तुम्हे  सब कुछ तुम्हारे पास है,
तुम गर हमें देना चाहो तो क्या नहीं तुम्हारे पास है।

हम तुम्हारे है यही बस एक आस हमारे पास है,
इसे भी हमसे चुराना ये भी तुम्हे बहुत खास है।

गमगीन  ज़िन्दगी के किस्से भी लगते निराले है,
ना हो तुम गर  आसपास  तो सारे ग़म हमारे है।

S.A.Sheikh🖤

S.A.Sheikh🖤
हम गम भी सुनाए तुम्हें तो लगता लतीफा है।
#follow4followback
#shoaibakhtarsheikh

#DesertWalk

12 Love

""

"सहल ज़रा ना था तुमसे दूर जाना पर मुकद्दर की यही इक कहानी थी। पहला प्यार तुमसे था जहनसीब और आख़िरी भी तुमसे रवानी थी। बस नाम ए- मोहब्बत परवान छड़े सदा हमारी यही दुआ- ए- निशानी थी। ख़ास तुम हमारा एहतराम करते रहते बाकी ख़ुदा की बहुत मेहरबानी थी। S.A.Sheikh🖤 ©Shoaib Akhtar Sheikh"

सहल ज़रा  ना था  तुमसे  दूर  जाना
पर  मुकद्दर  की यही इक कहानी थी।
पहला  प्यार   तुमसे   था  जहनसीब
और  आख़िरी भी  तुमसे  रवानी  थी।
बस  नाम  ए- मोहब्बत  परवान  छड़े
सदा हमारी यही दुआ- ए- निशानी थी।
ख़ास  तुम हमारा  एहतराम करते रहते
बाकी  ख़ुदा  की बहुत  मेहरबानी  थी।

S.A.Sheikh🖤

©Shoaib Akhtar Sheikh

सहल ज़रा ना था तुमसे दूर जाना
पर मुकद्दर की यही इक कहानी थी।
पहला प्यार तुमसे था जहनसीब
और आख़िरी भी तुमसे रवानी थी।
बस नाम ए- मोहब्बत परवान छड़े
सदा हमारी यही दुआ- ए- निशानी थी।
ख़ास तुम हमारा एहतराम करते रहते
बाकी ख़ुदा की बहुत मेहरबानी थी।

12 Love

""

"ग़लत - नाहक़ गर्दिश में उनके हम सारी दुनियां भुलाए बैठे थे। हम ना -हक़ ही उनके लिए आँसू बहाए बैठे थे। S.A.Sheikh🖤"

ग़लत - नाहक़
गर्दिश में उनके हम सारी दुनियां भुलाए बैठे थे।
हम ना -हक़ ही उनके लिए आँसू बहाए बैठे थे।

S.A.Sheikh🖤

S.A.Sheikh🖤
ग़लत - नाहक़
#shoaibakhtarsheikh


#meltingdown

11 Love

""

"जाने दो उसे दिल को तोड़कर सारी खुशियों से यूं मुंह मोड़कर। कर लेंगे हम भी फिर खुशियां हासिल जब वो हो जाए किसी और के काबिल।। S.A.Sheikh🖤"

जाने दो उसे दिल को तोड़कर
सारी खुशियों से यूं मुंह मोड़कर।
कर लेंगे हम भी फिर खुशियां हासिल
जब वो हो जाए किसी और के काबिल।।
S.A.Sheikh🖤

जाने दो उसे दिल को तोड़कर
सारी खुशियों से यूं मुंह मोड़कर।
कर लेंगे हम भी फिर खुशियां हासिल
जब वो हो जाए किसी और के काबिल।।


#raindrops

10 Love
2 Share

""

"आज फिर हेवानियत शर्मसार हुई मनीषा के मौत सबपे कर्जदार हुई सुन जमाना कांप गया अंजाम उसका एक ओर निर्भया ने अपनी जान गंवाई। S.A.Sheikh🖤"

आज  फिर   हेवानियत  शर्मसार  हुई
मनीषा  के  मौत  सबपे  कर्जदार  हुई
सुन जमाना  कांप गया अंजाम उसका
एक ओर निर्भया ने अपनी जान गंवाई।
S.A.Sheikh🖤

आज फिर हेवानियत शर्मसार हुई
मनीषा के मौत सबपे कर्जदार हुई
सुन जमाना कांप गया अंजाम उसका
एक ओर निर्भया ने अपनी जान गंवाई।


#Stoprape

9 Love
2 Share