Suman Zaniyan

Suman Zaniyan Lives in Bihar, Bihar, India

मैं मुहब्बत की रचना हूँ, सिर्फ़ प्रेम रचता हूँ 🙏

https://www.amarujala.com/kavya/mere-alfaz/suman-zaniyan-afwahon-se-hume-na-drao

  • Popular Stories
  • Latest Stories

"हुए दो-चार सिक्के ज़ख्मी तो क्या? गमों की मिट्टी से बना है गुल्लक मिरा।"

हुए दो-चार सिक्के ज़ख्मी तो क्या?
गमों की मिट्टी से बना है गुल्लक मिरा।

गुल्लक मिरा😕

264 Love
2 Share

"झूठ हीं कहा किसी ने किसने कहा मरने लगा हूँ मैं ? फिर से दे कोई बद्दुआ गालिब शायद संवरने लगा हूँ मैं।"

झूठ हीं कहा किसी ने
किसने कहा मरने लगा हूँ मैं ?
फिर से दे कोई बद्दुआ गालिब
शायद संवरने लगा हूँ मैं।

शायद संवरने लगा हूँ मैं 😐

250 Love

"किसी दिन ज़ख्मों से मिलूंगा मैं पर सुनो.... नाम मिरा मरहम नहीं।"

किसी दिन ज़ख्मों से मिलूंगा मैं
पर सुनो....
नाम मिरा मरहम नहीं।

नाम मिरा मरहम नहीं

212 Love

"मुठ्ठी भर जमीं नहीं मुकम्मल आसमां दो मुझे, अपनी मोहब्बत नहीं किसी की बेवफ़ाई रचनी है।"

मुठ्ठी भर जमीं नहीं 
मुकम्मल आसमां दो मुझे,
अपनी मोहब्बत नहीं
किसी की बेवफ़ाई रचनी है।

#बस_यूं_ही

198 Love
4 Share

"जब भी ना आए नींद कभी तेरी यादों से रातें जोड़ आता हूँ मैं.... इक हवस भी जगती है मुझमें पर जिस्म कहीं और छोड़ आता हूँ मैं।"

जब भी ना आए नींद कभी 
तेरी यादों से रातें जोड़ आता हूँ मैं....
इक हवस भी जगती है मुझमें 
पर जिस्म कहीं और छोड़ आता हूँ मैं।

इक हवस

187 Love
1128 Share