Diwan G

Diwan G Lives in Pithoragarh, Uttarakhand, India

शब्दों से मोहब्बत है, शब्दों को संवारता हूँ। गिले,शिकवे प्यार के,कागज पे उतारता हूँ। हिंदी शायर । आसमाँ नहीं मेरा, टूटा हुआ तारा हूँ। जो चमक खो चुका,मैं वो सितारा हूँ।।

  • Popular
  • Latest
  • Repost
  • Video

""

"अजीब से हालातों से गुजर रहा हूँ, मेरे हालातों का दर्द कौन जाने। मैं सिर्फ दिल की बात कहता हूँ यारो, मेरी बातों का दर्द कौन जाने।।"

अजीब से हालातों से गुजर रहा हूँ,
मेरे हालातों का दर्द कौन जाने।
मैं सिर्फ दिल की बात कहता हूँ यारो,
मेरी बातों का दर्द कौन जाने।।

कौन जाने..?
#alonegirl #alone #nojoto

241 Love
28 Share

""

"आँखों की उदासियाँ बयाँ करती है, कि मेरे दिल का हाल कैसा है। अगर ऐतबार करते हो मुझपे तुम, तो फिर मेरी वफा पे सवाल कैसा है।"

आँखों की उदासियाँ बयाँ करती है,
कि मेरे दिल का हाल कैसा है।
अगर ऐतबार करते हो मुझपे तुम,
तो फिर मेरी वफा पे सवाल कैसा है।

ऐतबार।
#quotation #Love #हाल #दिल #सवाल #वफा #ऐतबार #आँखें #शायरी #Nojoto

217 Love
1 Share

""

"जो दिल के करीब होता है, उसे भुलाना आसान नहीं होता। जान तो एक होती है यारो, यहाँ हर कोई जान नही होता।।"

जो दिल के करीब होता है,
उसे भुलाना आसान नहीं होता।
जान तो एक होती है यारो,
यहाँ हर कोई जान नही होता।।

जाँ तो जान होती है।
#sleepless_nights #दिल #करीब #आसान #जाँ #जान #प्यार #Love #बेचैनी

190 Love
1 Share

""

"#Worldsmileday अपनी खुशियों में दूसरों को, अक्सर ही शामिल कीजिए। गरीबों को भी मुस्कुराने की, थोड़ी ही सही वजह दीजिए। जितना भी दिल करे आपका, उतनी खुशी आप बाँट दीजिए। खुशियाँ तो बांटने से बढ़ती हैं, बस दिल से खुशियाँ बाँटिए। दुआऐं मिलेंगी तुमको हजार, कुछ बेबसों को हँसा दीजिए। रहमत बरसेगी खुदा की तुमपे, कुछ रहमत करके तो देखिए।।"

#Worldsmileday  अपनी खुशियों में दूसरों को,
अक्सर ही शामिल कीजिए।
गरीबों को भी मुस्कुराने की,
थोड़ी ही सही वजह दीजिए।
जितना भी दिल करे आपका,
उतनी खुशी आप बाँट दीजिए।
खुशियाँ तो बांटने से बढ़ती हैं,
बस दिल से खुशियाँ बाँटिए।
दुआऐं मिलेंगी तुमको हजार,
कुछ बेबसों को हँसा दीजिए।
रहमत बरसेगी खुदा की तुमपे,
कुछ रहमत करके तो देखिए।।

रहमत करके देखिए
#WorldSmileDay #nojoto

188 Love
13 Share

""

"उस सर्द सुबह को उसने मिलने बुलाया था और उस सर्द सुबह को उसने मिलने बुलाया था, और अपना हाल-ए-दिल मुझे सुनाया था। मिलन की बेचैनी मेरे दिल में भी थीं बहुत, बाँहों में समेटकर मैंने उन्हें गले लगाया था।"

उस सर्द सुबह को उसने मिलने बुलाया था और उस सर्द सुबह को उसने मिलने बुलाया था,
और अपना हाल-ए-दिल मुझे सुनाया था।
मिलन की बेचैनी मेरे दिल में भी थीं बहुत,
बाँहों में समेटकर मैंने उन्हें गले लगाया था।

वो मुलाकात
#Sard_subh_ki_mulakat #सुबह #सर्द #मुलाकात #बेचैनी #दिल #प्यार

184 Love