khushi

khushi

chhtarpur (mp)

  • Popular Stories
  • Latest Stories

"इस गुलाबी ठंड में, सुबह-सुबह सुरज की लाली देखकर, सुनहरी धूप सेंककर, भीनी , भीनी हवाओं को महसूस कर, बस ऐसा लगता है कि, ऐ वक्त तू यहीं ठहर जा ,ये गुलाबी ठंड मेरे गले लग जा , बस यहीं ठहर जा । बस यहीं ठहर जा।।"

इस गुलाबी ठंड में, सुबह-सुबह सुरज की लाली देखकर, 
सुनहरी धूप सेंककर,
भीनी , भीनी हवाओं को महसूस कर,
बस ऐसा लगता है कि, 
ऐ वक्त तू यहीं ठहर जा ,ये गुलाबी ठंड मेरे 
गले लग जा ,
बस यहीं ठहर जा ।
बस यहीं ठहर जा।।

#मन की बात

31 Love

"कौन है किस्मत वाले? वो , जो अपनी किस्मत पर भरोसा करते हैैं , या फिर वो, जो अपने कर्मों पर भरोसा करते हैैं ।"

कौन है किस्मत वाले? वो , जो अपनी किस्मत पर भरोसा करते हैैं , या फिर वो, जो अपने कर्मों पर भरोसा करते हैैं ।

#विचार कीजिए

24 Love
1 Share

# नजरिया

20 Love

"ख़ामोशी को समझना सीख लो, क्यूंकि हर बात जुबां से बयां हो ये ज़रूरी तो नहीं।"

ख़ामोशी को समझना सीख लो, क्यूंकि हर बात जुबां से बयां हो ये ज़रूरी तो नहीं।

#मेरा विचार

20 Love

"कलम और कागज़ जिस वक्त लिखने बैठे हम , हाल - ए- जिंदगी , कलम घिसी नहीं और कागज बढ़ते गये ।"

कलम और कागज़ जिस वक्त लिखने बैठे हम ,
हाल - ए- जिंदगी  ,
कलम घिसी नहीं और कागज बढ़ते गये ।

# जिंदगी# अहसास

20 Love