Amit Verma

Amit Verma Lives in Allahabad, Uttar Pradesh, India

Simple sa banda hu alfazo se apni baat kahta hu, Gar pasand aa jaye alfaaz mere to dil pe haath rakh lena.

www.instgram.com/poetry_unvoiced/

  • Popular
  • Latest
  • Video

tumhari maujudagi mere rooh tak hai.....
#Love
#Life
#Hindi
#Poetry
#poem
#Like
#follow

34 Love
214 Views
6 Share

"EK SAWAL??"

EK SAWAL??

#Motivation
#Life
#Blessed
#hindipost

32 Love
164 Views
1 Share

"ज़िन्दगी जीना है तो जियो देखो मज़ा कितना है, महबूब को गले लगाकर देखो नशा कितना है। चंद घड़ियां ही तो बिताई हैं इश्क़ की बाहों में, सारी जिंदगी यादों में गुज़ार कर देखो मज़ा कितना है। यूँ तो दावे तुम हज़ार करते ही इश्क़ करने की , बिना छुवे महबूब को इश्क़ करके देखो मज़ा कितना है। A poetry by - Amit Verma follow:- insta@poetry_unvoiced"

ज़िन्दगी जीना है तो जियो देखो मज़ा कितना है,
महबूब को गले लगाकर देखो नशा कितना है।

चंद घड़ियां ही तो बिताई हैं इश्क़ की बाहों में,
सारी जिंदगी यादों में गुज़ार कर देखो मज़ा कितना है।

यूँ तो दावे तुम हज़ार करते ही इश्क़ करने की , 
बिना छुवे महबूब को इश्क़ करके देखो मज़ा कितना है।

A poetry by - Amit Verma
follow:- insta@poetry_unvoiced

ज़िन्दगी जीना है तो जियो देखो मज़ा कितना है,
महबूब को गले लगाकर देखो नशा कितना है।

चंद घड़ियां ही तो बिताई हैं इश्क़ की बाहों में,
सारी जिंदगी यादों में गुज़ार कर देखो मज़ा कितना है।

यूँ तो दावे तुम हज़ार करते ही इश्क़ करने की ,
बिना छुवे महबूब को इश्क़ करके देखो मज़ा कितना है।

24 Love
118 Views

"तुमको हूर कहूँ या कह दूँ परी, तुमको सावन कहूँ या सुंदर लड़ी, तुम हुस्न की लाजवाब कल्पना हो, तुम कला में लिपटी हुई मेरी परिकल्पना हो। तुम हो तो ये जीवन सुहाना है, तुम बिन सब कुछ बेगाना है, तुम हो तो साँसों में रंगीनियत है, तुम हो तो सपना भी हकीकत है। अर्थ मेरे अस्तित्व का तुमसे ही है, तुम बिन सब कुछ व्यर्थ सा है, तुम हो तो रूहानी इश्क़ भी है, तुमसे ही जीवन का हर संगीत है।"

तुमको हूर कहूँ या कह दूँ परी,
तुमको सावन कहूँ या सुंदर लड़ी,
तुम हुस्न की लाजवाब कल्पना हो,
तुम कला में लिपटी हुई मेरी परिकल्पना हो।

तुम हो तो ये जीवन सुहाना है,
तुम बिन सब कुछ बेगाना है,
तुम हो तो साँसों में रंगीनियत है,
तुम हो तो सपना भी हकीकत है।

अर्थ मेरे अस्तित्व का तुमसे ही है,
तुम बिन सब कुछ व्यर्थ सा है,
तुम हो तो रूहानी इश्क़ भी है,
तुमसे ही जीवन का हर संगीत है।

तुमको हूर कहूँ या कह दूँ परी,
तुमको सावन कहूँ या सुंदर लड़ी,
तुम हुस्न की लाजवाब कल्पना हो,
तुम कला में लिपटी हुई मेरी परिकल्पना हो।

तुम हो तो ये जीवन सुहाना है,
तुम बिन सब कुछ बेगाना है,
तुम हो तो साँसों में रंगीनियत है,

23 Love
212 Views

"Poetry by :- Amit Verma Follow :- insta@poetry_unvoiced #naarishakti"

Poetry by :- Amit Verma
Follow :- insta@poetry_unvoiced #naarishakti

naari shakti..🙏🙏
.
.
#naarishakti
#poetry
#shayari
#love
#life

20 Love
117 Views