Meena

Meena

  • Popular Stories
  • Latest Stories

"पाना तुम्हें मुमकिन नहीं भुल जाना आता नहीं हो  मुमकिन मुझे वो मिल जाएं कहीं खूद को पा कर,खो जाऊं वहीं"

पाना तुम्हें मुमकिन नहीं
भुल जाना आता नहीं
हो  मुमकिन मुझे वो मिल जाएं कहीं 
खूद को पा कर,खो जाऊं वहीं

#p

150 Love
5 Share

"कौन समझे ये कैसी रात है शायद कोई राज़ की बात है साथ हैं ना साथी काली रातों का तुफान हैं उमड़ पड़ा चार दीवारों के अंदर सौ जज्बातों का तुफ़ान हैं"

कौन समझे ये कैसी रात है  शायद कोई राज़ की बात है साथ हैं ना साथी काली रातों का तुफान हैं
उमड़ पड़ा चार दीवारों के अंदर सौ जज्बातों का तुफ़ान हैं

 

124 Love
2 Share

"राहें तो बहुत हैं पर तेरी ओर एक भी राह नहीं सांसें तो चलतीं हैं पर उनमें जान थोड़ी कम सी हैं बातें तों बहुत सी अधुरी रह गई थी पर बातें अभी तक सिर्फ तुझसे ही हो रही हैं कलम से लिखावट कम स्याहि से बिन बादल बरसात हो रही हैं तुम नहीं हों पर मेरी हर बातें तुम्हारी , तुम्हीं से हों रहीं हैं"

राहें तो बहुत हैं
पर तेरी ओर एक भी राह नहीं
सांसें तो चलतीं हैं
पर उनमें जान थोड़ी कम सी हैं
बातें तों बहुत सी अधुरी रह गई थी
पर बातें अभी तक सिर्फ तुझसे ही हो रही हैं
कलम से लिखावट कम
स्याहि से बिन बादल बरसात हो रही हैं
तुम नहीं हों
पर मेरी हर बातें तुम्हारी , तुम्हीं से हों रहीं हैं

 

121 Love
3 Share

"हर एक बात याद है बस ,यही बात इस घड़ी की बुरी थीं वो लम्हा जो बहकर लौट रहा है बस, बहकर उसमें डुबना मेरी गलती थी"

हर एक बात याद है
बस ,यही बात इस घड़ी की बुरी थीं
वो लम्हा जो बहकर लौट रहा है
बस, बहकर उसमें डुबना मेरी गलती थी

 

117 Love
5 Share

"बारिशों के बावजूद भी आंगन में सुनापन रहा हो रही जीवन की शाम में विछोह के बाद एकाकीपन यहां"

बारिशों के बावजूद भी आंगन में सुनापन रहा
हो रही जीवन की शाम में  विछोह के बाद एकाकीपन यहां

 

107 Love
3 Share