Ashish Tripathi

Ashish Tripathi

  • Popular
  • Latest
  • Video

""

"एक एक दिन काटते हैं हम सबकुछ ठीक रहने की आशा मे पर सब कुछ ठीक जैसा कुछ नहीं है जिंदगी की परिभाषा मे आशीष त्रिपाठी से 5भिलाई"

एक एक दिन काटते हैं हम सबकुछ ठीक रहने की आशा मे
पर सब कुछ ठीक जैसा कुछ नहीं है जिंदगी की परिभाषा मे

आशीष त्रिपाठी 
से 5भिलाई

#worldpostday

11 Love
2 Share

""

"उगती सुबह है या फ़िर कभी शाम है जिंदगी मे कोई नाम वाला और कोई बदनाम है जिंदगी मे आखरी अंजाम तय है हर धड़कती जिंदगी का फिरभी बहुत काम बहुत काम है जिंदगी मे आशीष त्रिपाठी से 5भिलाई"

उगती सुबह है या फ़िर कभी शाम है जिंदगी मे
   कोई नाम वाला और कोई  बदनाम है जिंदगी मे
आखरी अंजाम तय है हर धड़कती जिंदगी का
फिरभी बहुत काम बहुत काम है जिंदगी मे

आशीष त्रिपाठी 
से 5भिलाई

#SunSet

11 Love
1 Share

""

"ना वैसे दिन रहे ना वैसी रात रही ना वैसे लोग रहे ना वैसी बात रही फिरभी जो है पास मे उसे बचाया जाए जो बिखर गया है उसे सजाया जाए गिर गये किसी मोड़ पर तो अगले मोड़ पर सम्भलना भी है कड़ी धूप है जख्म है वक़्त भी खिलाफ़ है फिरभी आखिर जिन्दगी है ये इसलिए चलना भी है आशीष त्रिपाठी से 5 भिलाई"

ना वैसे दिन रहे
ना वैसी रात रही 
ना वैसे लोग रहे 
ना वैसी बात रही
फिरभी जो है पास मे
उसे बचाया जाए 
जो बिखर गया है 
उसे सजाया जाए 
गिर गये किसी मोड़ पर
तो अगले मोड़ पर सम्भलना भी है
कड़ी धूप है
जख्म है
वक़्त भी खिलाफ़ है
फिरभी आखिर जिन्दगी है ये
इसलिए चलना भी है

आशीष त्रिपाठी 
से 5 भिलाई

#worldpostday

11 Love
1 Share

""

"पहले तो नम हुईं फिर बरसने ही लगी आंखें इक पुराने दोस्त ने बचपन की जब बात छेड़ी बात करने लगे चांद सितारे फ़िर से पुरानी यादों ने बचपन की जब रात छेड़ी आशीष त्रिपाठी से 5भिलाई"

पहले तो नम हुईं 
फिर बरसने ही लगी आंखें 

इक पुराने दोस्त ने
बचपन की जब बात छेड़ी 

बात करने लगे 
चांद सितारे फ़िर से 

पुरानी यादों ने
बचपन की जब रात छेड़ी 

आशीष त्रिपाठी 
से 5भिलाई

#simplicity

10 Love
1 Share

""

"हर वक़्त खुद का रुख कुछ मतलबी हवाओं के लिए कुछ काम यूँ ही कर लिया करो सिर्फ़ दुआओं के लिए या तो मिट्टी या तो राख मे दफन हो जाओगे इक दिन कुछ छोड़ कर तो जाओ इंसानियत की वफाओं के लिए आशीष त्रिपाठी से-5भिलाई"

हर वक़्त खुद का रुख कुछ मतलबी हवाओं के लिए 
कुछ काम यूँ ही कर लिया करो सिर्फ़ दुआओं के लिए 
या तो मिट्टी या तो राख मे दफन हो जाओगे इक दिन
कुछ छोड़ कर तो जाओ इंसानियत की वफाओं के लिए 

आशीष त्रिपाठी 
से-5भिलाई

#Beauty

10 Love
1 Share