tags

Latest nusrat fateh ali khan saanu ik pal chain na aave Image and Videos

Find the latest Image and Videos about nusrat fateh ali khan saanu ik pal chain na aave from top creators only on Nojoto App. Also find trending photos & videos.

  • Latest Stories

Sanu ek pal chain na aave
Sanu ek pal chain na aave
Sajna tere bina
Sajna tere bina

Dil jaane kyun ghabraave
Dil jaane kyun ghabraave
Sajna tere bina
Sajna tere bina

Sanu ik pal chain na aave
Sanu ik pal chain na aave
Sajna tere bina
Sajna tere bina

Ye din hain pyaare heeriye
Jo saath mein humne jee liye
Jaana nahin munh mod ke
Akhiyon mein paani chhod ke

Ye paani aag lagaave
Ye paani aag lagaave
Sajna tere bina
Sajna tere bina

Sanu ik pal chain na aave
Sanu ik pal chain na aave
Sajna tere bina
Sajna tere bina

Tera khayal har ghadi
Hai aadatein mujhe teri
Ik din jo tujhse naa milun
Paagal ke jaisa main phirun

Koi rut na mujhko bhaave
Koi rut na mujhko bhaave
Sajna tere bina
Sajna tere bina

Sanu ek pal chain na aave
Sanu ek pal chain na aave
Sajna tere bina
Sajna tere bina

Sajna re… tere bina

4 Love
1 Share

Hiiii...
Friends...
आज युवा दिलों पे राज करने वाले बेहतरीन शायर Zubair Ali Tabish का जन्मदिन है...
उनकी एक बात जो मुझे बहुत अच्छी लगती है और उनको सलाम करने पर मजबूर करती है कि वो इतने बड़े होने पर भी सदैव ज़मी पे रहते है... अपने fans का सदैव मान रखते है...🥰🥰🥰

खुदा आपको लंबी उम्र दे, तंदुरूस्त रखे, यश - कीर्ति दे, सुख - समृद्धि दे, सदैव खुश रखे...
ऐसे ही साहित्य की सेवा करते रहिएगा, उमदा ग़ज़ल लिखते रहो... ऐसी दिल से शुभकामनाएँ... 💐🥰🥰🥰

Zubair Ali Tabish की ku6 उमदा ग़ज़ले और शेर....
जो मुझे बेहद पसंद है...
आप सब भी उसका लुत्फ़ उठाईए...
🥰🥰🥰🥰🥰🥰🥰🥰🥰

वो तलबगार हो गया तो फिर?
मुझसे इनकार हो गया तो फिर?

कितने मग़रूर हो गए मरहम
ज़ख़्म ख़ुद्दार हो गया तो फिर ?

मेरे दुश्मन! मैं एक बात कहूं?
मैं तेरा यार हो गया तो फिर?

जो ख़यालों में भी नहीं आता
उसका दीदार हो गया तो फिर?

तू है, बस तू है और बस तू है
तुझसे बेज़ार हो गया तो फिर?

तुम मेरी अच्छी दोस्त हो लेकिन
बाद में प्यार हो गया तो फिर?
Zubair Ali Tabish

आज तो दिल के दर्द पर हँस कर
दर्द का दिल दुखा दिया मैं ने !!
~ Zubair Ali Tabish

उसने एक बार मुड़ के क्या देखा।
तब से हर कोई देखता है मुझे।।
- Zubair Ali Tabish

तुम्हारा सिर्फ़ हवाओं पे शक गया होगा
चराग़ ख़ुद भी तो जल जल के थक गया होगा
Zubair Ali Tabish

बंसी सब सूर त्यागे है
एक ही सूर में बाजे है
हाल न पूछो मोहन का
सब कुछ राधे-राधे है !
Zubair Ali Tabish

ध्यान से पंछियों को देते हो दाना-पानी,
इतने अच्छे हो तो पिंजरे से रिहा कर दो ना।
Zubair Ali Tabish

ये तो ख़ूबी है चाय की वरना
कौन इस कप को मुंह लगाता है
-Zubair Ali Tabish

अब उसका वस्ल महंगा चल रहा है
तो बस यादों पे ख़र्चा चल रहा है

मुहब्बत दो क़दम पर थक गई थी
मगर ये हिज्र कितना चल रहा है

बहोत ही धीरे-धीरे चल रहे हो
तुम्हारे ज़हन में क्या चल रहा है

बस इक ही दोस्त है दुनिया में अपना
मगर उस से भी झगड़ा चल रहा है

दिलों को तोड़ने का फ़न है तुम में
तुम्हारा काम कैसा चल रहा है

सभी यारों के मक़्ते हो चुके हैं
हमारा पहला मिस्रा चल रहा है

ये ताबिश क्या है बस इक खोटा सिक्का
मगर ये खोटा सिक्का चल रहा है
- Zubair Ali Tabish

दर-अस्ल उसको फ़क़त चाय ख़त्म करनी थी,
हम उसके कप को सुनाते रहे ग़ज़ल अपनी।
-Zubair Ali Tabish

हमारा जी नहीं लगता कहीं तुम्हारे बग़ैर
तुम्हारा जी नहीं करता हमारे जी की तरह?
- Zubair Ali Tabish

खाली बैठे हो तो एक काम मेरा कर दो ना,
मुझको अच्छा सा कोई ज़ख़्म अता कर दो ना।
ध्यान से पंछियों को देते हो दाना-पानी,
इतने अच्छे हो तो पिंजरे से रिहा कर दो ना।
~Zubair Ali Tabish

एक मुद्दत से ख़ाली था दामन मेरा
शुक्रिया!आपने इक नज़र डाल दी
Zubair Ali Tabish

उठी ही थी जरा सी वो नज़र इधर..
हर एक नज़र पुकार उठी "इधर-इधर'
Zubair Ali Tabish 💙

हमारा जी नहीं लगता कहीं तुम्हारे बग़ैर
तुम्हारा जी नहीं करता हमारे जी की तरह?
- Zubair Ali Tabish

इश्क़ एक खतरा है मेरे दोस्तो,
और मुझे लगता है मैं ख़तरे में हूं...
- Zubair Ali Tabish

मैं इंतज़ार में बैठा हूं उस जगह के जहां
तेरे अलावा कोई और आ नहीं सकता
Zubair Ali Tabish

एक मुद्दत से ख़ाली था दामन मेरा
शुक्रिया!आपने इक नज़र डाल दी
Zubair Ali Tabish

मैं अपनी प्यास को समझा चुका हूँ,
बरस जाओ कोई ख़तरा नहीं है।
- Zubair Ali Tabish

फ़क़त तुम्हारा ख़याल हूं मैं
सुनो, तुम अपना ख़याल रखना
Zubair Ali Tabish

मैं रीडायल तो करता जा रहा हूं,
मगर फ़ोन उठ गया तो क्या कहूंगा।
- Zubair Ali Tabish

ज़ख़्म भरने लगे हैं पिछली मुलाक़ातों के
फिर मुलाक़ात के आसार नज़र आते हैं
- Zubair Ali Tabish

ख़ामुशी तोड़ के ज़ालिम ने कोई बात तो की
बात ये की के अभी बात नहीं कर सकते
Zubair Ali Tabish

बीच में छोड़ कर न जा मुझ को
देख मैं सबके बस की बात नहीं
- Zubair Ali Tabish

उसकी बुद्धि की परवाज़ पे लानत है
जिसकी बुद्धि ने पिंजरा ईजाद किया
- Zubair Ali Tabish

हमारी नज़र में हमीं एक थे
हमीं को हमारी नज़र लग गयी
- Zubair Ali Tabish

सितम ढाते हुए सोंचा करोगे।
हमारे साथ तुम ऐसा करोगे।

अंगूठी तो मुझे लौटा रहे हो।
अंगूठी के निशाँ का क्या करोगे।

मैं तुमसे अब झगड़ता भी नही हूँ।
तो क्या इस बात पर झगड़ा करोगे।

मेरा दामन तुम्ही थामे हुए हो।
मेरा दामन तुम्ही मैला करोगे।

बताओ,, वादा कर के आओगे ना।
के पिछली बार के जैसा करोगे।

वो दुल्हन बन के रुखसत होगई है।
कहाँ तक कार का पीछा करोगे।
- Zubair Ali Tabish

न अस्ल बात पे आओ के रात बाक़ी है
कहानियां ही सुनाओ के रात बाक़ी है

तुम्हें नसीब हो सूरज की रौशनी लेकिन
अभी दिया न बुझाओ के रात बाक़ी है

कोई तो आस बंधाओ के सांस है जारी
कोई तो ख़्वाब दिखाओ के रात बाक़ी है

वफ़ा उसी से करो जिसके साथ रहते हो
सहर के गीत न गाओ के रात बाक़ी है

तुम्हीं को चांद कहा है तुम्हारे शाइर ने
उसे यक़ीन दिलाओ के रात बाक़ी है

मैं नज्म-ए-सुब्ह हूं, मुझसे ऐ जुगनुओ न डरो
मेरा मज़ाक़ उड़ाओ के रात बाक़ी है

ये क्या के मक़्ता बहोत जल्द कह दिया ताबिश
ग़ज़ल को और बढ़ाओ के रात बाक़ी है
- Zubair Ali Tabish

वो जिसने आंख अता की है देखने के लिए
उसी को छोड़ के सब कुछ दिखाई देता है

- Zubair Ali Tabish

7 Love

"کسے دا یار نہ وچھڑے (استاد نصرت فتح علی خان ) Kisey da Yaar Na vichray (Ustaad Nusrat Fateh Ali Khan🙏)"

کسے دا یار نہ وچھڑے
(استاد نصرت فتح علی خان ) Kisey da Yaar Na vichray
(Ustaad Nusrat Fateh Ali Khan🙏)

kisay da Yaar na vichray🙏🙏🙏
A beautiful wish
A cry
A Wish Ustaad Nusrat Fateh Ali khan Sab made for all... Ustaad G we miss you 😢😢😢

A humble tribute to Ustaad Nusrat Fateh Ali khan sab.. Indeed no one.. no one can Pay the price of a writer's work as he did by singing them poems in his voice..

6 Love
51 Views

"Har pal ne kaha ek pal se… Pal bhar ke liye aap mere ho jao… Pal bhar ka saath kuch ho… Ki har pal tum hi yaad aao… Wo pal kuchh Aisa ho, Jis pal mein sab tum jaisa ho, Us pal ko har wo pal mile, Jis pal ko pal tarasta ho, Wo pal bus tum me bit jaye, Wo pal bus tum hi ban jaye, Us pal mein bus tumhari aawaz ho, Pal-pal bus tum hi saaz ho, Pal bhar ka sath kuchh Aisa ho, Har pal bus tum hi yaad Aao...."

Har pal ne kaha ek pal se…
Pal bhar ke liye aap mere ho jao…
Pal bhar ka saath kuch  ho…
Ki har pal tum hi yaad aao…

Wo pal kuchh Aisa ho,
Jis pal mein sab tum jaisa ho,
Us pal ko har wo pal mile,
Jis pal ko pal tarasta ho,
Wo pal bus tum me bit jaye,
Wo pal bus tum hi ban jaye,
Us pal mein bus tumhari aawaz ho,
Pal-pal bus tum hi saaz ho,

Pal bhar ka sath kuchh Aisa ho,
Har pal bus tum hi yaad Aao....

#Nojoto#Nojotohindi#Love#poem#pal

13 Love
1 Share

"Tune jis trah.. Mujhe ek hi pal mein apna bhi bnaya.. Aur usi pal mein praya bhi.. Kya khu.. Kese tareef kru teri is khoobi ki.. Ki kis tarah tune.. Mujhe ek hi pal mein hasaya.. Aur usi pal mein rulaya bhi.. Tareef teri.. Kese kru.. Ki yeh teri sbse bdi khoobi hai.. Tune mujhe jeena bhi sikhaya ek hi pal mein.. Aur usi pal mein marna bhi.. Shbd hi na hai kehne ko.. Ki kese tune.. Mujhe ek hi pal mein uthaya.. Aur usi ek pal mein giraya bhi.. Kuch to aesa tune bht khoob kia tha mere sath.. Ki tune ek hi pal mein mujhe neend se jagaya.. Aur usi pal mein sulaya bhi.. Sapne dekhne se jo mein darti thi.. Tune mujhe vo ek hi pal mein dekhna seekhaya.. Aur usi ek pal mein.. Unhe todna bhi.. Jese jee rhi thi.. Khoob jee rhi thi meinn.. Ki tune mujhe ek hi pal mein mera kal yaad dilaya.. Aur usi ek pal mein bnaya mera bhavishya bhi.. Ab to bs.. Haalaat yeh hai ki tune mujhe.. Ek hi pal mein khud se milaya.. Aur usi ek pal meinn.. Keh dia alvida bhi.. Lauta dia.. Tune mujhe.. Hakikat mein.. Phir se ek bar.. Kia mujhe pura.. Ek hi pal mein.. Aur usi ek pal mein krdia adhura bhi.. #NojotoQuote"

Tune jis trah.. Mujhe ek hi pal mein apna bhi bnaya..
Aur usi pal mein praya bhi..

Kya khu.. Kese tareef kru teri is khoobi ki..
Ki kis tarah tune.. Mujhe ek hi pal mein hasaya..
Aur usi pal mein rulaya bhi..

Tareef teri.. Kese kru.. Ki yeh teri sbse bdi khoobi hai..
Tune mujhe jeena bhi sikhaya ek hi pal mein..
Aur usi pal mein marna bhi..

Shbd hi na hai kehne ko.. Ki kese tune..
Mujhe ek hi pal mein uthaya..
Aur usi ek pal mein giraya bhi..

Kuch to aesa tune bht khoob kia tha mere sath.. Ki tune ek hi pal mein mujhe neend se jagaya..
Aur usi pal mein sulaya bhi.. 

Sapne dekhne se jo mein darti thi.. Tune mujhe vo ek hi pal mein dekhna seekhaya.. 
Aur usi ek pal mein.. Unhe todna bhi.. 

Jese jee rhi thi.. Khoob jee rhi thi meinn..
Ki tune mujhe ek hi pal mein mera kal yaad dilaya.. 
Aur usi ek pal mein bnaya mera bhavishya bhi.. 

Ab to bs.. Haalaat yeh hai ki tune mujhe.. Ek hi pal mein khud se milaya.. 
Aur usi ek pal meinn.. Keh dia alvida bhi.. 

Lauta dia.. Tune mujhe.. Hakikat mein.. Phir se ek bar.. 
Kia mujhe pura.. Ek hi pal mein.. 
Aur usi ek pal mein krdia adhura bhi.. 

 #NojotoQuote

 

7 Love

Sanu ek pal chain na aave
Sanu ek pal chain na aave
Sajna tere bina
Sajna tere bina

Dil jaane kyun ghabraave
Dil jaane kyun ghabraave
Sajna tere bina
Sajna tere bina

Sanu ik pal chain na aave
Sanu ik pal chain na aave
Sajna tere bina
Sajna tere bina

Ye din hain pyaare heeriye
Jo saath mein humne jee liye
Jaana nahin munh mod ke
Akhiyon mein paani chhod ke

Ye paani aag lagaave
Ye paani aag lagaave
Sajna tere bina
Sajna tere bina

Sanu ik pal chain na aave
Sanu ik pal chain na aave
Sajna tere bina
Sajna tere bina

Tera khayal har ghadi
Hai aadatein mujhe teri
Ik din jo tujhse naa milun
Paagal ke jaisa main phirun

Koi rut na mujhko bhaave
Koi rut na mujhko bhaave
Sajna tere bina
Sajna tere bina

Sanu ek pal chain na aave
Sanu ek pal chain na aave
Sajna tere bina
Sajna tere bina

Sajna re… tere bina

4 Love
1 Share

Hiiii...
Friends...
आज युवा दिलों पे राज करने वाले बेहतरीन शायर Zubair Ali Tabish का जन्मदिन है...
उनकी एक बात जो मुझे बहुत अच्छी लगती है और उनको सलाम करने पर मजबूर करती है कि वो इतने बड़े होने पर भी सदैव ज़मी पे रहते है... अपने fans का सदैव मान रखते है...🥰🥰🥰

खुदा आपको लंबी उम्र दे, तंदुरूस्त रखे, यश - कीर्ति दे, सुख - समृद्धि दे, सदैव खुश रखे...
ऐसे ही साहित्य की सेवा करते रहिएगा, उमदा ग़ज़ल लिखते रहो... ऐसी दिल से शुभकामनाएँ... 💐🥰🥰🥰

Zubair Ali Tabish की ku6 उमदा ग़ज़ले और शेर....
जो मुझे बेहद पसंद है...
आप सब भी उसका लुत्फ़ उठाईए...
🥰🥰🥰🥰🥰🥰🥰🥰🥰

वो तलबगार हो गया तो फिर?
मुझसे इनकार हो गया तो फिर?

कितने मग़रूर हो गए मरहम
ज़ख़्म ख़ुद्दार हो गया तो फिर ?

मेरे दुश्मन! मैं एक बात कहूं?
मैं तेरा यार हो गया तो फिर?

जो ख़यालों में भी नहीं आता
उसका दीदार हो गया तो फिर?

तू है, बस तू है और बस तू है
तुझसे बेज़ार हो गया तो फिर?

तुम मेरी अच्छी दोस्त हो लेकिन
बाद में प्यार हो गया तो फिर?
Zubair Ali Tabish

आज तो दिल के दर्द पर हँस कर
दर्द का दिल दुखा दिया मैं ने !!
~ Zubair Ali Tabish

उसने एक बार मुड़ के क्या देखा।
तब से हर कोई देखता है मुझे।।
- Zubair Ali Tabish

तुम्हारा सिर्फ़ हवाओं पे शक गया होगा
चराग़ ख़ुद भी तो जल जल के थक गया होगा
Zubair Ali Tabish

बंसी सब सूर त्यागे है
एक ही सूर में बाजे है
हाल न पूछो मोहन का
सब कुछ राधे-राधे है !
Zubair Ali Tabish

ध्यान से पंछियों को देते हो दाना-पानी,
इतने अच्छे हो तो पिंजरे से रिहा कर दो ना।
Zubair Ali Tabish

ये तो ख़ूबी है चाय की वरना
कौन इस कप को मुंह लगाता है
-Zubair Ali Tabish

अब उसका वस्ल महंगा चल रहा है
तो बस यादों पे ख़र्चा चल रहा है

मुहब्बत दो क़दम पर थक गई थी
मगर ये हिज्र कितना चल रहा है

बहोत ही धीरे-धीरे चल रहे हो
तुम्हारे ज़हन में क्या चल रहा है

बस इक ही दोस्त है दुनिया में अपना
मगर उस से भी झगड़ा चल रहा है

दिलों को तोड़ने का फ़न है तुम में
तुम्हारा काम कैसा चल रहा है

सभी यारों के मक़्ते हो चुके हैं
हमारा पहला मिस्रा चल रहा है

ये ताबिश क्या है बस इक खोटा सिक्का
मगर ये खोटा सिक्का चल रहा है
- Zubair Ali Tabish

दर-अस्ल उसको फ़क़त चाय ख़त्म करनी थी,
हम उसके कप को सुनाते रहे ग़ज़ल अपनी।
-Zubair Ali Tabish

हमारा जी नहीं लगता कहीं तुम्हारे बग़ैर
तुम्हारा जी नहीं करता हमारे जी की तरह?
- Zubair Ali Tabish

खाली बैठे हो तो एक काम मेरा कर दो ना,
मुझको अच्छा सा कोई ज़ख़्म अता कर दो ना।
ध्यान से पंछियों को देते हो दाना-पानी,
इतने अच्छे हो तो पिंजरे से रिहा कर दो ना।
~Zubair Ali Tabish

एक मुद्दत से ख़ाली था दामन मेरा
शुक्रिया!आपने इक नज़र डाल दी
Zubair Ali Tabish

उठी ही थी जरा सी वो नज़र इधर..
हर एक नज़र पुकार उठी "इधर-इधर'
Zubair Ali Tabish 💙

हमारा जी नहीं लगता कहीं तुम्हारे बग़ैर
तुम्हारा जी नहीं करता हमारे जी की तरह?
- Zubair Ali Tabish

इश्क़ एक खतरा है मेरे दोस्तो,
और मुझे लगता है मैं ख़तरे में हूं...
- Zubair Ali Tabish

मैं इंतज़ार में बैठा हूं उस जगह के जहां
तेरे अलावा कोई और आ नहीं सकता
Zubair Ali Tabish

एक मुद्दत से ख़ाली था दामन मेरा
शुक्रिया!आपने इक नज़र डाल दी
Zubair Ali Tabish

मैं अपनी प्यास को समझा चुका हूँ,
बरस जाओ कोई ख़तरा नहीं है।
- Zubair Ali Tabish

फ़क़त तुम्हारा ख़याल हूं मैं
सुनो, तुम अपना ख़याल रखना
Zubair Ali Tabish

मैं रीडायल तो करता जा रहा हूं,
मगर फ़ोन उठ गया तो क्या कहूंगा।
- Zubair Ali Tabish

ज़ख़्म भरने लगे हैं पिछली मुलाक़ातों के
फिर मुलाक़ात के आसार नज़र आते हैं
- Zubair Ali Tabish

ख़ामुशी तोड़ के ज़ालिम ने कोई बात तो की
बात ये की के अभी बात नहीं कर सकते
Zubair Ali Tabish

बीच में छोड़ कर न जा मुझ को
देख मैं सबके बस की बात नहीं
- Zubair Ali Tabish

उसकी बुद्धि की परवाज़ पे लानत है
जिसकी बुद्धि ने पिंजरा ईजाद किया
- Zubair Ali Tabish

हमारी नज़र में हमीं एक थे
हमीं को हमारी नज़र लग गयी
- Zubair Ali Tabish

सितम ढाते हुए सोंचा करोगे।
हमारे साथ तुम ऐसा करोगे।

अंगूठी तो मुझे लौटा रहे हो।
अंगूठी के निशाँ का क्या करोगे।

मैं तुमसे अब झगड़ता भी नही हूँ।
तो क्या इस बात पर झगड़ा करोगे।

मेरा दामन तुम्ही थामे हुए हो।
मेरा दामन तुम्ही मैला करोगे।

बताओ,, वादा कर के आओगे ना।
के पिछली बार के जैसा करोगे।

वो दुल्हन बन के रुखसत होगई है।
कहाँ तक कार का पीछा करोगे।
- Zubair Ali Tabish

न अस्ल बात पे आओ के रात बाक़ी है
कहानियां ही सुनाओ के रात बाक़ी है

तुम्हें नसीब हो सूरज की रौशनी लेकिन
अभी दिया न बुझाओ के रात बाक़ी है

कोई तो आस बंधाओ के सांस है जारी
कोई तो ख़्वाब दिखाओ के रात बाक़ी है

वफ़ा उसी से करो जिसके साथ रहते हो
सहर के गीत न गाओ के रात बाक़ी है

तुम्हीं को चांद कहा है तुम्हारे शाइर ने
उसे यक़ीन दिलाओ के रात बाक़ी है

मैं नज्म-ए-सुब्ह हूं, मुझसे ऐ जुगनुओ न डरो
मेरा मज़ाक़ उड़ाओ के रात बाक़ी है

ये क्या के मक़्ता बहोत जल्द कह दिया ताबिश
ग़ज़ल को और बढ़ाओ के रात बाक़ी है
- Zubair Ali Tabish

वो जिसने आंख अता की है देखने के लिए
उसी को छोड़ के सब कुछ दिखाई देता है

- Zubair Ali Tabish

7 Love

"کسے دا یار نہ وچھڑے (استاد نصرت فتح علی خان ) Kisey da Yaar Na vichray (Ustaad Nusrat Fateh Ali Khan🙏)"

کسے دا یار نہ وچھڑے
(استاد نصرت فتح علی خان ) Kisey da Yaar Na vichray
(Ustaad Nusrat Fateh Ali Khan🙏)

kisay da Yaar na vichray🙏🙏🙏
A beautiful wish
A cry
A Wish Ustaad Nusrat Fateh Ali khan Sab made for all... Ustaad G we miss you 😢😢😢

A humble tribute to Ustaad Nusrat Fateh Ali khan sab.. Indeed no one.. no one can Pay the price of a writer's work as he did by singing them poems in his voice..

6 Love
51 Views

"Har pal ne kaha ek pal se… Pal bhar ke liye aap mere ho jao… Pal bhar ka saath kuch ho… Ki har pal tum hi yaad aao… Wo pal kuchh Aisa ho, Jis pal mein sab tum jaisa ho, Us pal ko har wo pal mile, Jis pal ko pal tarasta ho, Wo pal bus tum me bit jaye, Wo pal bus tum hi ban jaye, Us pal mein bus tumhari aawaz ho, Pal-pal bus tum hi saaz ho, Pal bhar ka sath kuchh Aisa ho, Har pal bus tum hi yaad Aao...."

Har pal ne kaha ek pal se…
Pal bhar ke liye aap mere ho jao…
Pal bhar ka saath kuch  ho…
Ki har pal tum hi yaad aao…

Wo pal kuchh Aisa ho,
Jis pal mein sab tum jaisa ho,
Us pal ko har wo pal mile,
Jis pal ko pal tarasta ho,
Wo pal bus tum me bit jaye,
Wo pal bus tum hi ban jaye,
Us pal mein bus tumhari aawaz ho,
Pal-pal bus tum hi saaz ho,

Pal bhar ka sath kuchh Aisa ho,
Har pal bus tum hi yaad Aao....

#Nojoto#Nojotohindi#Love#poem#pal

13 Love
1 Share

"Tune jis trah.. Mujhe ek hi pal mein apna bhi bnaya.. Aur usi pal mein praya bhi.. Kya khu.. Kese tareef kru teri is khoobi ki.. Ki kis tarah tune.. Mujhe ek hi pal mein hasaya.. Aur usi pal mein rulaya bhi.. Tareef teri.. Kese kru.. Ki yeh teri sbse bdi khoobi hai.. Tune mujhe jeena bhi sikhaya ek hi pal mein.. Aur usi pal mein marna bhi.. Shbd hi na hai kehne ko.. Ki kese tune.. Mujhe ek hi pal mein uthaya.. Aur usi ek pal mein giraya bhi.. Kuch to aesa tune bht khoob kia tha mere sath.. Ki tune ek hi pal mein mujhe neend se jagaya.. Aur usi pal mein sulaya bhi.. Sapne dekhne se jo mein darti thi.. Tune mujhe vo ek hi pal mein dekhna seekhaya.. Aur usi ek pal mein.. Unhe todna bhi.. Jese jee rhi thi.. Khoob jee rhi thi meinn.. Ki tune mujhe ek hi pal mein mera kal yaad dilaya.. Aur usi ek pal mein bnaya mera bhavishya bhi.. Ab to bs.. Haalaat yeh hai ki tune mujhe.. Ek hi pal mein khud se milaya.. Aur usi ek pal meinn.. Keh dia alvida bhi.. Lauta dia.. Tune mujhe.. Hakikat mein.. Phir se ek bar.. Kia mujhe pura.. Ek hi pal mein.. Aur usi ek pal mein krdia adhura bhi.. #NojotoQuote"

Tune jis trah.. Mujhe ek hi pal mein apna bhi bnaya..
Aur usi pal mein praya bhi..

Kya khu.. Kese tareef kru teri is khoobi ki..
Ki kis tarah tune.. Mujhe ek hi pal mein hasaya..
Aur usi pal mein rulaya bhi..

Tareef teri.. Kese kru.. Ki yeh teri sbse bdi khoobi hai..
Tune mujhe jeena bhi sikhaya ek hi pal mein..
Aur usi pal mein marna bhi..

Shbd hi na hai kehne ko.. Ki kese tune..
Mujhe ek hi pal mein uthaya..
Aur usi ek pal mein giraya bhi..

Kuch to aesa tune bht khoob kia tha mere sath.. Ki tune ek hi pal mein mujhe neend se jagaya..
Aur usi pal mein sulaya bhi.. 

Sapne dekhne se jo mein darti thi.. Tune mujhe vo ek hi pal mein dekhna seekhaya.. 
Aur usi ek pal mein.. Unhe todna bhi.. 

Jese jee rhi thi.. Khoob jee rhi thi meinn..
Ki tune mujhe ek hi pal mein mera kal yaad dilaya.. 
Aur usi ek pal mein bnaya mera bhavishya bhi.. 

Ab to bs.. Haalaat yeh hai ki tune mujhe.. Ek hi pal mein khud se milaya.. 
Aur usi ek pal meinn.. Keh dia alvida bhi.. 

Lauta dia.. Tune mujhe.. Hakikat mein.. Phir se ek bar.. 
Kia mujhe pura.. Ek hi pal mein.. 
Aur usi ek pal mein krdia adhura bhi.. 

 #NojotoQuote

 

7 Love